शुभमन गिल
क्या टेस्ट में बेस्ट बन पाएंगे शुभमन गिल?

टीम इंडिया (Team India)के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज शुभमन गिल (Shubman Gill) ने हाल ही में न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ संपन्न हुई तीन मुकाबलों की वनडे सीरीज में जबरदस्त प्रदर्शन दिखाया था। गिल ने श्रृंखला के पहले मुकाबले में शानदार दोहरा शतक जमाया, जबकि दूसरे मैच में उन्होंने नाबाद 40 और तीसरे मुकाबले में 112 रन की पारी खेली थी। कुल मिलाकर सीरीज में उनके बल्ले से 360 रन निकले। यह तीन मुकाबलों की वनडे सीरीज में संयुक्त रूप से उच्चतम स्कोर है। इससे पहले पाकिस्तान के कप्तान और दिग्गज बल्लेबाज बाबर आज़म (Babar Azam) ने 2016 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 360 रन बनाए थे।

सिर्फ यह एक श्रृंखला ही नहीं गिल 2022 के बाद से ही शानदार लय में हैं। उन्होंने पिछले साल 12 एकदिवसीय मुकाबलों में 70.88 की औसत और 102.57 के स्ट्राइक रेट से 638 रन बनाए। इस दौरान उनके बल्ले से 4 अर्धशतक और 1 शतक भी निकला। वहीं, 2023 में दाएं हाथ के बल्लेबाज ने अपने इन आंकड़ों में चार चांद और लगा दिए हैं। इस साल उन्होंने 6 मुकाबलों में 113.40 की बेहतरीन औसत और 126.28 के स्ट्राइक रेट से 567 बनाए हैं। इतना नहीं 2023 में गिल ने एक दोहरा शतक, तीन शतक और एक अर्धशतक भी जमाया है।

शुभमन गिल को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय स्क्वाड में शामिल किया गया है। ऐसे में उनका जबरदस्त प्रदर्शन देखकर एक प्रश्न उठता है कि क्या टेस्ट में भी बेस्ट बन पाएंगे शुभमन गिल? आज हमारे इस खास आर्टिकल में हम इसी सवाल का जवाब जानने की कोशिश करेंगे।

9 फरवरी से भारत और ऑस्ट्रेलिया (Australia) के बीच बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 2022 (Border Gavaskar Trophy 2023) खेली जाएगी। चार मुकाबलों की इस श्रृंखला में टीम इंडिया के कई दिग्गज खिलाड़ियों के मैदान पर वापसी करने की संभावना है। तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह, हरफनमौला खिलाड़ी रविंद्र जडेजा और सलामी बल्लेबाज केएल राहुल जैसे खिलाड़ियों को इस अहम सीरीज के लिए चुना गया है। इन सब के बीच शुभमन गिल के लिए अपनी छाप छोड़ना बेहद मुश्किल होने वाला है।

गिल के टेस्ट करियर की बात करें, तो वह अब तक औसत ही रहा है। उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण पारियां अवश्य खेली हैं, लेकिन उनका ओवरऑल प्रदर्शन सामान्य ही कहा जाएगा। पंजाब के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने वाले गिल ने 13 टेस्ट मैचों की 25 पारियों में एक शतक और 4 अर्धशतकों की मदद से 736 रन बनाए हैं।

यह आंकड़े रोहित शर्मा और केएल राहुल को सलामी बल्लेबाज के रूप में रिप्लेस करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं। खैर, रोहित तो वैसे भी कप्तान हैं मगर फिर भी शुभमन से अनुभव और आकड़ों के मामले में वे काफी आगे हैं। केएल की बात करें, तो टेस्ट में बतौर सलामी बल्लेबाज उन्होंने कमाल का प्रदर्शन दिखाया है। दाएं हाथ के बल्लेबाज ने बतौर ओपनर 72 पारियों में 12 अर्धशतकों और 7 शतकों की मदद से 2513 रन बनाए हैं। ऐसे में उन्हें शुभमन गिल से एक्सचेंज करना कतई उचित नहीं होगा।

टीम मैनेजमेंट ने भी हाल ही में अपने एक फैसले से स्पष्ट कर दिया था कि वे हालिया प्रदर्शन से अधिक ओवरऑल प्रदर्शन को तवज्जो देंगे। हम बात कर रहे हैं स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन की, जिन्होंने बांग्लादेश दौरे पर रोहित के चोटिल होने के बाद भारतीय पारी की शुरुआत करते हुए दोहरा शतक जड़ा था। परंतू वह श्रृंखला का अंतिम मैच था। इसके बाद श्रीलंका के खिलाफ घरेलू ओडीआई सीरीज में एक बार फिर ईशान को बाहर कर रोहित शर्मा ने शुभमन गिल के साथ पारी की शुरुआत की थी। हालांकि, श्रीलंका के खिलाफ टी20 आई सीरीज में शुभमन और ईशान ने नीली जर्सी वाली टीम की पारी को शुरू किया था।

इसके अलावा टीम मैनेजमेंट एक प्रयोग के रूप में भी शुभमन को मौका देने से पहले कई बार सोचेगा, क्योंकि भारत को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने के लिए चार में से तीन मुकाबलों में जीत हासिल करनी होगी। ऐसे में इंडिया अपनी सबसे अनुभवी और सर्वश्रेष्ठ टीम के साथ कंगारुओं का सामना करने के लिए मैदान पर उतरना चाहेगी। इससे जाहिर है कि शुभमन गिल को टेस्ट में खुद को बेस्ट साबित करने के लिए थोड़ा और इंतजार करना पड़ सकता है।

बुमराह और जडेजा की वापसी ने बढ़ाई भारत की टेंशन – VIDEO

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी का डिफेंडिंग चैंपियन कौन है?

भारत

Leave a comment

Cancel reply