बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली.

पिछले कई दिनों से टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के राजनीति में कदम रखने की खबरें खूब सुर्खियां बटोर रही हैं। पश्चिम बंगाल में 27 मार्च को विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग होनी है। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो चुके पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज अशोक डिंडा (Ashok Dinda) ने बीसीसीआई अध्यक्ष के बीजेपी में शामिल होने पर बड़ा बयान दिया है।

आगामी पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में मोयना सीट से अशोक डिंडा बीजेपी की तरफ से खड़े हुए हैं। डिंडा ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में कहा, ”टीएमसी क्लीन बोल्ड हू जेबे (टीएमसी क्लीन बोल्ड हो जाएगी)….अगर वे (गांगुली) बीजेपी में शामिल होते हैं। हम सिर्फ 200 का आंकड़ा पार नहीं कर रहे होंगे, बल्कि पूरी सीटें संभव हैं।”

डिंडा ने आगे कहा, ”बेशक, हम चाहते हैं कि दादा भाजपा में शामिल हों, क्योंकि अगर वह आते हैं तो यह हमारे लिए एक शानदार जीत होगी। मैं चाहता हूं कि दादा मेरे साथ रहें, मेरी पूरी जिंदगी, अच्छे-बुरे समय में वह हमेशा मेरे साथ खड़े रहे हैं। यहां मुझे एक और दादा (Suvendu Adhikari) मिले हैं, लेकिन मैं चाहता हूं कि मेरे क्रिकेट के मैदान के दादा भी मेरे साथ रहें।”

पूर्व भारतीय पेसर से यह पूछा गया कि क्या उन्होंने राजनीति में शामिल होने के लिए गांगुली से बात की है तो इसपर अशोक डिंडा ने कहा, ”मैं कुछ दिनों से व्यस्त हूं। मैं अपने परिवार से भी बात नहीं कर पाया हूं, लेकिन मुझे पता है कि वह मेरे साथ हैं, भले ही मैंने उनसे बात नहीं की है। वह राजनीति में इसलिए शामिल हुए, क्योंकि यह प्रणाली का हिस्सा बनकर लोगों की सेवा करने का सबसे अच्छा मंच है। मैंने हमेशा ईमानदारी और कड़ी मेहनत से काम किया है। मैंने कभी झूठे वादे नहीं किए। मैं वही प्रयास फिर से करना चाहता हूं, जिनके कारण मैं क्रिकेटर बना।”

FAQ

सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो गए हैं?

नहीं, बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली भारतीय जनता पार्टी में शामिल नहीं हुए हैं। खबरों के अनुसार, वे बीजेपी में शामिल होने वाले थे, लेकिन दिल का दौरा पड़ने के कारण दादा भाजपा में शामिल नहीं हुए।

क्या सौरव गांगुली बीजेपी में शामिल हो सकते हैं?

सौरव गांगुली के बीजेपी में शामिल होने की खबरें लगातार सामने आ रही हैं। मीडिया खबरों के मुताबिक, दादा राजनीति में कदम रख सकते हैं और वे भाजपा का दामन थाम सकते हैं।

Leave a comment