रविचंद्रन अश्विन ने इंग्लैंड के 'द हंड्रेड टूर्नामेंट' को लेकर बड़ा बयान दिया है।

टीम इंडिया के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने इंग्लैंड के ‘द हंड्रेड टूर्नामेंट’ को लेकर बड़ा बयान दिया है। अश्विन ने इस टूर्नामेंट का बचाव करते हुए कहा है कि बिना किसी टूर्नामेंट को मैदान पर जाकर देखे बिना उसे बेकार नहीं बताना चाहिए। बता दें कि हाल ही में पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने इंग्लैंड के इस नए टूर्नामेंट की कड़ी आलोचना करते हुए इसे औसत दर्जे का कहा था।

34 साल के भारतीय गेंदबाज ने ‘द हंड्रेड’ का समर्थन करते हुए अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, “जो लोग इस फॉर्मेट को नहीं समझ पाते हैं, वे ही इसकी आलोचना करते हैं। कई लोगों को नई चीजें अच्छी नहीं लगती हैं और वे उसका गलत मतलब निकाल लेते हैं। अगर कोई फिल्म बनाता है तो फिर हमें पहले उसे थिएटर में जाकर देखना चाहिए और उसके बाद ही उसकी आलोचना करनी चाहिए।”

दाएं हाथ के बल्लेबाज ने आगे कहा, “बिना देखे ही किसी चीज की आलोचना करना सही नहीं है। हमें कोशिश की तारीफ करनी चाहिए। मैंने वुमेंस टीम का एक मुकाबला देखा था, जो वाकई में काफी शानदार था। मुझे खुशी होगी अगर वुमेंस आईपीएल का भी आयोजन हो।”

दरअसल, सुनील गावस्कर को यह टूर्नामेंट पसंद नहीं आया और उन्होंने इसकी आलोचना करते हुए कहा था, “मैंने इस टूर्नामेंट को टीवी पर देखा है और एक ही ख्याल दिमाग में आता है और वो है नीरस। क्रिकेट काफी साधारण है और कवरेज भी सही नहीं है। प्लेयर्स को लेकर बेसिक गलतियां हो रही हैं। अगर उप महाद्वीप में किसी ने इस तरह की गलती की होती तो फिर इंग्लैंड के पूर्व प्लेयर उनका काफी मजाक उड़ाते।”

Leave a comment