ipl 2022 rules '
BCCI ने बदल दिए IPL 2022 के नियम, जानिए इस बार कैसे खेले जाएंगे टूर्नामेंट के मैच

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 15वें संस्करण की शुरुआत में आज से महज 11 दिनों का ही समय शेष है. इस टी20 लीग का पहला मैच 26 मार्च को चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) और कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के बीच खेला जाएगा. यह मुकाबला मुंबई (Mumbai) के वानखेड़े स्टेडियम में होगा, जबकि आईपीएल 2022 का फाइनल मैच 29 मई को आयोजित होगा. इससे पहले भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने आईपीएल के आगामी सीजन के लिए कई नए नियम जारी किए हैं. इसमें नए बल्लेबाज के स्ट्राइक रोटेट करने से लेकर डीआरएस के नियमों को संशोधित किया गया है. आइये अब नजर डालते हैं उन 5 बड़े नियमों पर:

बदला डीआरएस का नियम

बीसीसीआई ने आईपीएल मैच में 4 डिसीजन रीव्यू सिस्टम यानी डीआरएस करने का निर्णय लिया है. अब हर पारी में दोनों टीमों को 2-2 DRS दिए जाएंगे. आईपीएल में पहले एक पारी में एक डीआरएस मिलता था. भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (MCC) द्वारा जारी नए सुझावों का समर्थन किया है.

कैच आउट होने पर नए बल्लेबाज के लिए स्ट्राइक रोटेट का नियम

इस नियम के तहत, अगर ओवर की शुरुआती 5 गेंद पर बल्लेबाज कैच आउट होता है तो नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेगा. अब बल्लेबाज क्रॉस भी करता है तो भी नया बल्लेबाज ही स्ट्राइक लेगा. वहीं, अगर ओवर की आखिरी गेंद पर विकेट गिरता है तो दूसरे छोर का बल्लेबाज अगले ओवर की पहली गेंद पर स्ट्राइक लेगा. हाल ही में एमसीसी की जानिब से कैच के नियम में बदलाव किया गया है. इस नियम को अब आईपीएल के आगामी सीजन में भी लागू किए जाने का निर्णय लिया गया है.

टाई ब्रेकर मुकाबलों के नियम

इस नए नियम के अनुसार, अगर प्लेऑफ या फाइनल मैच टाई हो जाता है और सुपर ओवर नहीं हो पाता है तो अंक तालिका में ऊपर रहने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाएगा यानी लीग स्टेज में, जो टीम विरोधी टीम से उपर रही हो उसको विजेता माना जाएगा. इससे पहले सुपर ओवर की सहायता से विनर टीम को चुना जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.

मांकड़िंग का नियम

अब आईपीएल में मांकड़िंग को रन आउट की श्रेणी में माना जाएगा. अगर नॉन स्ट्राइक में खड़ा कोई बल्लेबाज गेंद फेंकी जाने से पहले क्रीज छोड़ देता है और गेंदबाज गिल्लियां बिखेर देता है तो उसे रन आउट माना जाएगा. हाल ही में एमसीसी द्वारा इस नियम में बदलाव किया गया है. पुराने नियम के मुताबिक, मांकडिंग लॉ-41 (अनफेयर प्ले) के अधीन आता था. अब इसे लॉ-38 (रन-आउट) में मूव कर दिया गया है.

कोविड-19 के चलते मैच के कार्यक्रम में बदलाव

अगर कोरोना की वजह से किसी टीम के पूरे 11 खिलाड़ी मैदान में नहीं उतर पाते हैं तो वह मैच फिर से आयोजित कराया जाएगा. अगर बाद में भी मैच का आयोजन नहीं हो पाता है तो यह मामला तकनीकि समिति के पास जाएगा और समिति इस पर फैसला करेगी. इससे पहले अगर मुकाबला आयोजित नहीं होता था तो प्लेइंग इलेवन नहीं उतार पाने वाली टीम को हारा हुआ घोषित किया जाता था. ऐसे में विपक्षी टीम को दो पॉइंट्स मिल जाते था. मगर अब ऐसा नहीं होगा.

गौरतलब है कि हाल ही में क्रिकेट के कानूनों की संरक्षक संस्था मेरिलबॉन क्रिकेट क्लब (MCC) ने क्रिकेट के नियमों में कई संशोधन किए थे. इसमें लार के इस्तेमाल, वाइड बॉल, स्ट्राइक रोटेट समेत 8 नियमों में सुधार किया गया था.

Leave a comment

Cancel reply