kohli babar rizwan
'भारत के खिलाफ मैच से पहले हमारी टीम पर दबाव है', पाकिस्तान के धाकड़ खिलाड़ी का बयान

एशियन क्रिकेट काउंसिल (ACC) एफ्रो-एशिया कप (Afro-Asian Cup) को वापस लाने पर विचार कर रही है. कयास लगाए जा रहे हैं कि इस सीरीज का आयोजन अगले साल जून-जुलाई के दौरान हो सकता है. इसके लिए फिलहाल बातचीत जारी है.

Forbes.com की रिपोर्ट के मुताबिक, एसीसी के हेड ऑफ कमर्शियल एंड इवेंट्स, प्रभाकरन थनराज ने कहा, “हम अभी भी सफेद पत्र पर काम कर रहे हैं और इसे दोनों बोर्डों (बीसीसीआई और पीसीबी) को प्रस्तुत किया जाएगा.”

उन्होंने आगे कहा, “लेकिन हमारी योजना भारत और पाकिस्तान के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के लिए एशियाई एकादश में खिलाने की है. योजनाओं को अंतिम रूप दिए जाने के बाद हम स्पॉन्सरशिप और ब्रॉडकास्टर के लिए बाजार में उतरेंगे.”

यदि सब कुछ योजना के अनुसार होता है तो यह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के बीच की दूरी को समाप्त कर सकता है और दोनों देशों के क्रिकेट रिश्तों में भी सुधार देखने को मिलेगा.

यह भी पढ़ें – भारत से खेलने के लिए ICC के पास जाएगा पाकिस्तान! लेकिन मंसूबों पर पानी फेरने की तैयारी में BCCI

वहीं, भारत और पाकिस्तान के कई दिग्गज खिलाड़ी एक साथ एशिया प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बनते नज़र आ सकते हैं. उनमें विराट कोहली, बाबर आज़म, मोहम्मद रिजवान, रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह, शाहीन शाह अफरीदी, जैसे दिग्गज प्लेयर्स शामिल हैं.

इससे पहले एफ्रो-एशिया कप का आयोजन साल 2005 और 2007 में हुआ था. इस दौरान एशियाई एकादश में पाकिस्तान के शोएब अख्तर और शाहिद अफरीदी भारत के वीरेंद्र सहवाग और राहुल द्रविड़ के साथ खेलते नज़र आए थे, जबकि अफ्रीकी एकादश दक्षिण अफ्रीका, जिम्बाब्वे और केन्या के खिलाड़ियों का मिश्रण था.

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के बीच पिछले कई सालों से सबकुछ अच्छा नहीं चल रहा है. ऐसे में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली जा सकी है. हालांकि, दोनों ही टीमें आईसीसी के मेजर टूर्नामेंट्स में एक दूसरे के आमने-सामने आ जाती हैं. अगर एसीसी की यह कोशिश रंग लाती है तो इसकी मदद से भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय सीरीज रिश्ते भी सुधर सकते हैं.

Leave a comment

Cancel reply