टीम इंडिया
क्या मौजूदा समय में टेस्ट प्रारूप में टीम इंडिया के पास है सबसे खतरनाक पेस अटैक?

भारतीय क्रिकेट शुरुआत से ही अपने बल्लेबाजों के अलावा अपने स्पिन गेंदबाजों के लिए पहचाना जाता रहा है। भारतीय क्रिकेट में एक से एक दिग्गज स्पिन गेंदबाज हुए हैं। स्पिन गेंदबाजी शुरुआत से ही काफी बेहतरीन रही, लेकिन समय बदला और अब भारतीय क्रिकेट की स्थिति भी बदल गई है।

आज के दौर में टीम इंडिया के पास भले ही एक से एक नामी स्पिन गेंदबाज तो हैं, लेकिन साथ ही अब भारत के पास रफ्तार के सौदागरों की कोई कमी नहीं है। कुछ सालों पहले तक तो भारतीय क्रिकेट में एक साथ बेहतरीन तेज गेंदबाजी की कमी साफ तौर पर नजर आती थी। उस वक्त भारतीय क्रिकेट की गेंदबाजी को विश्व क्रिकेट में कभी भी अच्छा नहीं माना गया।

उस समय कहा जाता था कि भारत के पास कब ऑस्ट्रेलिया या पाकिस्तान की टीमों की तरह पेस अटैक होगा? लंबे समय से भारतीय क्रिकेट ने खतरनाक पेस अटैक का इंतजार भी किया, लेकिन वक्त बदला हालात भी बदल गए हैं और अब ये इंतजार खत्म हो चुका है, क्योंकि भारतीय टीम के पास इस समय टेस्ट क्रिकेट के लिहाज से एक खतरनाक पेस अटैक मौजूद है।

हम ये यूं ही नहीं कह रहे हैं, क्योंकि आज के वर्तमान दौर में भारतीय टीम के पास तेज गेंदबाजी की एक ऐसी फेहरिस्त मौजूद है, जिसका खासकर टेस्ट क्रिकेट में कोई जवाब ही नहीं है। भारतीय टीम की वर्तमान पेस अटैक की बात करें तो इसमें जसप्रीत बुमराह, ईशांत शर्मा, उमेश यादव, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज जैसे खतरनाक स्विंग गेंदबाज हैं। इनके अलावा बीच-बीच में शार्दुल ठाकुर और टी नटराजन जैसे तेज गेंदबाज भी आए, जिन्होंने भारतीय पेस अटैक में जान डाल दी है।

भारत के पास इन सुपर-5 रफ्तार के सौदागरों की चर्चा करें जिसमें बुमराह, ईशांत, उमेश, शमी और सिराज को रखा जा सकता है। उनके पास अलग-अलग विविधता मौजूद है। कोई गेंदबाज अपनी लाइन-लैंथ के लिए जाना जाता है, तो किसी के पास कमाल की स्विंग मौजूद है, तो कोई गति और बाउंस के लिए पहचाना जाता है।

अगर पेस अटैक में इन गेंदबाजों को अलग-अलग रखे तो बुमराह की बात करते हैं, जिनके पास किसी भी तरह की पिच पर विकेट निकालने की कला है। क्योंकि उनके पास सबसे बड़ा हथियार यॉर्कर और स्लोअर बाउंसर गेंदें हैं। तो वहीं शमी के पास एक जबरदस्त स्विंग और रिवर्स स्विंग की कला है। जिससे वो किसी भी तरह के बल्लेबाजों को चमका दे सकते हैं।

इसके अलावा ईशांत शर्मा को लंबा अनुभव होने के साथ ही लाइन-लैंथ पर कमाल का कन्ट्रोल है। इसके अलावा बात करें मोहम्मद सिराज की तो वो तेज पिच मिलने पर काफी खतरनाक हो जाते हैं, क्योंकि उनकी स्विंग गेंदबाजी ने खूब करामात दिखाया है। तो उमेश यादव भी किसी से कम नहीं है। क्योंकि ईशांत शर्मा के पास गति होने के साथ ही स्विंग गेंदबाजी मौजूद है। लिहाजा हमारे इस पेस अटैक के सुपर-5 में तो हर किसी की एक अलग ही काबिलियत है, जिससे वो किसी भी विरोधी टीम को अपने पेस अटैक से ध्वस्त कर सकते हैं।

भारतीय क्रिकेट में देखा जाए तो मौजूदा दौर में जिस तरह का पेस अटैक है वैसा इतिहास में कभी देखने को नहीं मिला। भारत के पास जहीर खान, जवागल श्रीनाथ, वेंकटेश प्रसाद जैसे गेंदबाज एक दौर में हुए, लेकिन ये ज्यादा लंबे समय तक साथ नहीं रह सके। इसके अलावा भारत के पास पेस अटैक में 2 से ज्यादा बड़े खतरनाक गेंदबाज कभी नहीं देखने को मिले।

इस वक्त भारतीय टीम के पास जो पेस अटैक है वो कुछ उसी तरह से है जैसे एक दौर में अस्सी के दशक में वेस्टइंडीज के पास जोएन गार्नर, मैल्कम मार्शल, माइकल होल्डिंग और एंडी रॉबर्ट्स की जोड़ी थी। तो वहीं पाकिस्तान के पास भी वकार यूनिस, वसीम अकरम और शोएब अख्तर जैसी खतरनाक तिकड़ी मौजूद थी।

वैसे ही कई देशों के पास जिसमें ऑस्ट्रेलिया के पास ग्लेन मैक्ग्राथ- ब्रेट ली की जोड़ी, दक्षिण अफ्रीका के पास शान पोलाक और एलन डोनाल्ड की जोड़ी रही। इस तरह की गेंदबाजी ही भारत के पास इस दौर में मौजूद है।

भारतीय टीम को कुछ साल पहले तक विदेशों में कुछ खास कामयाबी नहीं मिलती थी। क्योंकि भारतीय टीम के गेंदबाज विरोधी टीम के 20 विकेट निकालने में कामयाब नहीं हो पाते थे। लेकिन पिछले 5 सालों में स्थिति पूरी तरह से बदल गई हैं, जहां भारतीय टीम के ये गेंदबाज भारत को लगातार किसी टेस्ट मैच में 20 विकेट निकाल कर दे रहे हैं, जिससे टीम इंडिया को जीतने में सबसे ज्यादा मदद मिल रही है।

भारत के पास एक टेस्ट मैच में 20 विकेट निकालने का मौजूदा पेस अटैक के पास पूरा दमखम मौजूद है। जो वो साबित भी कर रहे हैं। इतना ही नहीं ये तेज गेंदबाज केवल तेज पिचों पर नहीं बल्कि भारतीय स्पिन ट्रेक पर भी विकेट निकालकर दे रहे हैं। जिससे भारत को यहां भारत में भी विपक्षी टीम के खिलाफ शुरुआत से ही दबाव बनाने का मौका मिल रहा है।

इस तरह से हम कह सकते हैं कि भारतीय क्रिकेट टीम के पास मौजूदा दौर में जिस तरह का पेस अटैक है, वो भारत के टेस्ट क्रिकेट इतिहास का सबसे खतरनाक पेस अटैक माना जा सकता है।

Leave a comment

Cancel reply