virat kohli
राजकुमार शर्मा ने कहा है कि अब 33 साल के भारतीय क्रिकेटर मिडिल स्टंप के करीब रहने की कोशिश करते हैं।

भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा (Rajkumar Sharma) ने बताया है कि उनके चहेते शिष्य की कमजोरी क्या थी और कोहली ने कैसे अपनी उस कमजोरी से छुटकारा पाया। उन्होंने कहा है कि विराट का ट्रिगर मूवमेंट ऑफ स्टंप की तरफ बहुत ज्यादा था, इसलिए वह बाहर जाने वाली गेंदों को खेलते थे और अपना विकेट गंवा देते थे।

राजकुमार शर्मा ने कहा है कि अब 33 साल के भारतीय क्रिकेटर मिडिल स्टंप के करीब रहने की कोशिश करते हैं। इससे वह बाहर जाने वाली गेंदों को आसानी से छोड़ पाते हैं और कोहली उनका पीछा करने के बजाय उन्हें छोड़ने में सक्षम दिखते हैं। उन्होंने इस दौरान यह भी बताया कि कोहली ने कैसे साल 2014 में इंग्लैंड (England Tour) के बेहद खराब दौरे के बाद इस समस्या से कैसे निपटे थे।

56 साल के राजकुमार शर्मा ने यूट्यूब चैनल खेलनीति पर बातचीत करते हुए कहा, “विराट कोहली ने साल 2014 में इंग्लैंड में इसी तरह की गलती की थी। मैंने उन्हें बताया था कि जैसे-जैसे आप ऑफ स्टंप की तरफ बढ़ रहे हैं, आपको लगता है कि आप सभी गेंदों को खेलने में सक्षम होंगे। यही कारण है कि वह गेंद को अच्छे से छोड़ नहीं पा रहे थे।”

उन्होंने आगे कहा, “अब कोहली मिडिल और ऑफ स्टंप पर अधिक रहते हैं। इसी वजह से वह अपने ऑफ स्टंप के बारे में अधिक सतर्क हैं, इसलिए वह 6वें स्टंप पर आ रही गेंदों को नहीं खेल रहे हैं।” दाएं हाथ के भारतीय बल्लेबाज ने जारी केपटाउन टेस्ट (CapeTown Test) की पहली पारी में बहुत ज्यादा संयम दिखाया था और 201 गेंदों का सामना करते हुए 79 रनों की बेहतरीन अर्धशतकीय पारी खेली थी।

Leave a comment

Cancel reply