शास्त्री के टेस्ट क्रिकेट पर दिए गए सुझाव को अश्विन ने बताया गलत

टीम इंडिया (Team India) के दिग्गज ऑफ़ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने पूर्व भारतीय हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) के उस बयान को गलत बताया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि महज टॉप 6 देशों को ही टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहिए। अश्विन ने कहा कि क्रिकेट खेलने वाले हर देश के लिए टेस्ट फॉर्मेट जरुरी है।

35 वर्षीय स्पिनर ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, “हाल ही में रवि भाई ने कहा था कि टेस्ट क्रिकेट सिर्फ 3-4 देशों के बीच ही खेला जाना चाहिए। अगर ऐसा होता है, तो आयरलैंड और अन्य देशों को कभी खेलने का मौका नहीं मिलेगा।”

अश्विन ने फर्स्ट क्लास और टेस्ट क्रिकेट के बीच संबंध बताते हुए आगे कहा, “जब आप टेस्ट क्रिकेट खेलेंगे, तब आपके फर्स्ट क्लास क्रिकेट का ढांचा बेहतर होगा और खिलाड़ियों को अधिक मौके मिलेंगे। साथ ही फर्स्ट क्लास में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी अपने खेल को टी20 प्रारूप के हिसाब से ढाल सकेंगे।”

ऑफ़ स्पिनर ने अपने बयान के दौरान फर्स्ट क्लास क्रिकेट के स्तर में आ रही गिरावट का कारण भी बताया है। उन्होंने कहा, फर्स्ट क्लास क्रिकेट की मजबूती के लिए देश में टेस्ट क्रिकेट का खेला जाना जरुरी है। अगर टेस्ट क्रिकेट खेला ही नहीं जाता है, तो खिलाड़ी फर्स्ट क्लास में अपना सौ फीसदी प्रदर्शन नहीं करेंगे।

अश्विन ने वेस्टइंडीज का उदाहरण देते हुए आगे कहा, “मैं अभी वेस्टइंडीज में हूं और आप देख सकते हैं कि यहां से फर्स्ट क्लास क्रिकेट लगभग विलुप्त हो चुका है और कई सारे टी20 टूर्नामेंट्स खेल जा रहे हैं।”

गौरतलब है कि अश्विन से पहले पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) भी रवि शास्त्री के इस बयान से असहमति जता चुके हैं। आकाश ने अपने बयान में कहा था, “अगर सिर्फ टॉप 6 टीम ही टेस्ट क्रिकेट खेलती हैं तो वो टीमें ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, साउथ अफ्रीका और पाकिस्तान की होंगी और बाकि टीमों अगर खेलेंगी ही नहीं तो टॉप 6 टीमों में शामिल कैसे हो पाएंगी?”

Leave a comment

Cancel reply