कश्मीर को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़ती तल्खी का असर खेलों पर भी दिखने लगा है. भारतीय टेनिस टीम के पाकिस्तान जाने पर संशय की स्थिति बन रही है. अगले महीने आयोजित होने वाला डेविस कप मुकाबला अधर में लटक सकता है. बता दें कि डेविस कप ग्रुप-1 टेनिस के मुकाबले इस्लामाबाद में 14-15 सितंबर को आयोजित होने हैं. ऐसे में ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन (एआईटीए) ने कहा है कि वे इंटरनेशनल टेनिस फेडरेशन (आईटीएफ) को मैच न्यूट्रल वेन्यू पर कराने का प्रस्ताव दे सकते हैं. मालूम हो कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 केंद्र सरकार द्वारा हटाए जाने के बाद पाकिस्तान ने बुधवार को भारत के राजदूत को वापस भेजने के साथ ही द्विपक्षीय व्यापार संबंध तोड़ लिए थे.

एआईटीए महासचिव हिरण्यमय चटर्जी ने कहा, “इससे मैच पर असर पड़ सकता है. अभी कुछ कहना जल्दबाजी है, लेकिन मैं एक दो दिन इंतजार करूंगा. इसके बाद हम अंतर्राष्ट्रीय टेनिस महासंघ से हालात पर गौर करके फैसला लेने का अनुरोध करेंगे.”

उन्होंने कहा, “जरूरत पड़ने पर तटस्थ स्थान पर मुकाबला कराने का अनुरोध किया जाएगा.”

इससे पहले भारतीय टेनिस खिलाड़ी डेविस कप टूर्नामेंट में खेलने को लेकर काफी रोमांचित थे. अगर इसको हरी झंडी मिल गई तो पिछले 55 साल में भारतीय टेनिस टीम की यह पहली पाकिस्तान यात्रा होगी. इससे पहले खिलाड़ी चाहते थे कि पाकिस्तान पहुंचने से पहले सुरक्षा की सारी औपचारिकताएं पूरी हो जाएं. डेविस कप टीम के कप्तान महेश भूपति ने पाकिस्तान में भारतीय खिलाडिय़ों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई थी. उल्लेखनीय है कि मार्च 1964 के बाद किसी भी भारतीय डेविस कप टीम ने अब तक पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है. लाहौर में आयोजित उस मुकाबले को भारत ने 4-0 से जीता था.

Leave a comment

Cancel reply