rr gt ipl 2022
IPL 2022, RR बनाम GT, क्वालीफायर-1: बड़े रिकॉर्ड, जो बन सकते हैं इस मैच में 

आईपीएल के इस 15वें टूर्नामेंट में पहले ही मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स जबरदस्त मजेदार मसाला लगा चुके हैं। सीजन शुरू होने से पहले हर जानकार प्ले ऑफ में 4 टीम में से 2 पर इनका नाम लिख देता और बाकी टीम मुकाबला करतीं, बची 2 जगह के लिए। अब इन दोनों ने रेस को मजेदार बना दिया और क्रिकेट के नजरिए से देखें तो ये अच्छा ही रहा- एक-दो टीम का प्रभुत्व कभी किसी लीग को बेहतर नहीं बनाता।

27 अप्रैल तक 40 मैच हो चुके हैं हुए और गुजरात टाइटंस अकेली ऐसी टीम है जिसने इस सीजन में हैरान करने का सिलसिला जारी रखा है। 27 अप्रैल के मैच में सनराइजर्स पर आख़िरी गेंद की जीत ने हार्दिक पांड्या की टीम को 8 मैच में 14 पॉइंट के साथ पॉइंट तालिका में और मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। ये कहना गलत नहीं होगा कि प्ले ऑफ की एक जगह पर उनका नाम, बिना हिचक, लिखा जा सकता है। एक नई टीम होने के बावजूद यहां तक की उनकी क्रिकेट हैरान करने वाली रही है।

सनराइजर्स हैदराबाद, राजस्थान रॉयल्स, लखनऊ सुपर जायंट्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर भी फॉर्म में हैं और बची जगह में खेलने के दावेदार। हर मैच के साथ टीमों के बीच मुकाबला तेज होता जा रहा है। अब देखना यह होगा कि इन 4 टीम में से कौन सी 3 टीम प्लेऑफ में पहुंच पाएंगी?

राजस्थान रॉयल्स ने 8 में से 6 मैच जीते हैं और जोस बटलर एवं अपने गेंदबाजों की बदौलत वे हर टीम को हैरान कर रहे हैं। उम्मीद है कि यहां तक की मेहनत के बाद वे आगे का सफर बेकार नहीं करेंगे और प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई करेंगे। संजू सैमसन की कप्तानी में राजस्थान रॉयल्स पूरी तरह से एक अलग टीम की तरह दिखती है। वे पॉइंट्स में नंबर दो पर हैं। उनके पास ऑरेंज कैप (जोस बटलर) और पर्पल कैप (युजवेंद्र चहल) है।

अब बची रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, लखनऊ सुपर जायंट्स और सनराइजर्स हैदराबाद। संयोग से, जिस मुकाम पर ये चर्चा कर रहे हैं- इन तीनों टीम ने 5-5 जीत के साथ 10-10 पॉइंट हासिल किए हैं पर फर्क ये है कि बैंगलोर ने अन्य टीम के 8 मैच की तुलना में 9 मैच खेले हैं।

हैदराबाद अगर 27 अप्रैल वाले मैच में गुजरात को हरा देते तो उनकी लगातार जीत का सिलसिला चलता रहता जो उनके लिए एक टॉनिक की तरह काम करता। वे पॉइंट्स तालिका में अपने बेहतर नेट रन रेट की बदौलत तीसरे नंबर पर हैं। ये नजारा, अपने आप प्ले ऑफ के समीकरण में सनराइजर्स हैदराबाद को बेहतर स्थिति में ले आता है। पहले दो मैच हारने के बाद, लगातार पांच मैच में जीत और अब 6 में से कम से कम तीन मैच जीतने होंगे। वे नेट रन रेट में भी बेहतर स्थिति में हैं।

लखनऊ सुपर जायंट्स और बैंगलोर में से कौन सी टीम? रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर नेट रन रेट के कारण पांचवें नंबर पर हैं, एक मैच भी ज्यादा खेला है पर सबसे बड़ी बात ये कि उनके प्रदर्शन में अस्थिरता है। दो टॉप बल्लेबाज विराट कोहली और ग्लेन मैक्सवेल जरूरत में रन नहीं बना रहे और इसका असर पूरी टीम पर आ रहा है। माना ये जाता है कि प्लेऑफ़ में अपनी जगह पक्की करने के लिए 10-टीम के टूर्नामेंट में 16 पॉइंट हासिल कर लें तो चिंता ख़त्म। उस नजरिए से बैंगलोर को न सिर्फ अभी 5 मैच में तीन जीत हासिल करनी होंगी- अपने नेट रन रेट को भी सुधारना होगा। सभी तीन जीत अच्छे अंतर के साथ होनी चाहिए क्योंकि टीम का नेट रन रेट नेगेटिव (-0.572) है। दो जीत से काम नहीं चलेगा क्योंकि हर हार नेट रन रेट को और कम कर देगी।

लखनऊ सुपर जायंट्स 8 मैचों में 5 जीत के साथ नंबर 4 पर है। 28 अप्रैल का पंजाब के विरुद्ध मैच, क्वालीफाई करने की रेस में उनके लिए बड़ा महत्वपूर्ण है। उन्हें बैंगलोर की गलत क्रिकेट का अपने आप फायदा मिलेगा। बस केएल राहुल को फोकस नहीं खोना है।

इस तरह, प्ले ऑफ की रेस में 4 टीम गुजरात टाइटंस, सनराइजर्स हैदराबाद, राजस्थान रॉयल्स और लखनऊ सुपर जायंट्स मौजूदा स्थिति में फेवरिट हैं पर इसका मतलब ये नहीं कि आईपीएल सीजन का रोमांच यहीं ख़त्म हो गया। आईपीएल का इतिहास इस बात का गवाह है कि टीमों की क्रिकेट में कब कौन सा नाटकीय मोड़ आ जाए- कोई नहीं जानता। प्ले ऑफ की रेस इतनी सीधी और आसान नहीं होगी- जितनी इस चर्चा में नजर आ रही है। विश्वास कीजिए- अभी तो चेन्नई और मुंबई टीम के समर्थकों ने, उनके भी प्ले ऑफ की रेस से बाहर होने को नहीं माना है। सिर्फ गणित और अप्रत्याशित नतीजों को संयोग से जोड़ते रहें तो कुछ भी मुमकिन है। इसी दलील पर पंजाब और दिल्ली की उम्मीद बरकरार है।

Leave a comment

Cancel reply