क्या IPL की खराब फॉर्म रोहित के टी20 वर्ल्ड कप के बाद कप्तान बनने की राह में बनेगी रोड़ा?

बीते कुछ समय में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली के उस ऐलान ने सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरीं हैं, जिसमें उन्होंने कहा कि वे यूएई और ओमान में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप के बाद भारत की टी-20 टीम के कप्तानी पद से इस्तीफा दे देंगे। उनके इस फैसले के बाद करोड़ों क्रिकेट फैन्स के मन में यह सवाल लगातार जारी है कि विराट के बाद किस खिलाड़ी को उनकी जगह टी-20 फॉर्मेट में कप्तानी सौंपी जाएगी। इसमें सबसे पहला और सबसे बड़ा नाम भारत के लिमिटेड ओवर क्रिकेट में मौजूदा उप-कप्तान और सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा का है।

आईपीएल साल 2008 में शुरू हुआ था और इस साल इसका 14वां सीजन खेला जा रहा है। विराट कोहली ने इंटरनेशनल क्रिकेट में बतौर कप्तान कई बेजोड़ उपलब्धियां हासिल की हैं, लेकिन आईपीएल खिताब अब भी उनसे दूर ही रहा है। वहीं, रोहित ने अपनी कप्तानी में मुंबई इंडियंस को एक नहीं, दो नहीं, बल्कि पांच-पांच बार खिताब जिताया है। इसके अलावा रोहित को, जब भी विराट कोहली की गैरमौजूदगी में भारत की कप्तानी करने का मौका मिला, तब-तब उन्होंने इस बात का प्रमाण दिया है कि कप्तानी उनकी रग-रग में है। यही वजह है कि रोहित विराट के बाद टी-20 फॉर्मेट में भारतीय टीम के कप्तान बनने के लिए सबसे योग्य खिलाड़ी नजर आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें | IPL 2021: कोहली ने RCB की कप्तानी छोड़ने का किया ऐलान, जानिए कब देंगे इस्तीफा?

हालांकि, रोहित की आईपीएल 2021 में जारी फॉर्म और टीम के प्रदर्शन ने उनकी टेंशन बढ़ा दी है। रोहित ने आईपीएल 2021 के यूएई फेज के शुरुआती मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन उसके बाद उनका फॉर्म उनसे रूठा हुआ नजर आ रहा है। यही नहीं पिछले दो आईपीएल खिताब अपने नाम करने वाली मुंबई इस बार प्लेऑफ में जगह बनाने के लिए भी संघर्ष करती नजर आ रही है।

फॉर्म नहीं, रोहित के अनुभव को तरजीह दे सकते हैं भारतीय चयनकर्ता

इस साल आईपीएल में मुंबई इंडियंस टीम और उनके कप्तान रोहित का प्रदर्शन बेशक औसत दर्जे का रहा है, लेकिन इसके बावजूद भारतीय चयनकर्ता जब भी टी-20 कप्तान चुनने की प्रक्रिया शुरू करेंगे तो उस दौरान उनके मन में सबसे पहला नाम रोहित शर्मा का ही होगा। इसकी सबसे बड़ी वजह रोहित का टी-20 फॉर्मेट में अपार अनुभव है। आईपीएल में कई बार ऐसा देखने को मिला, जब 34 साल के रोहित खुद अच्छी फॉर्म में नहीं थे, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने मुंबई को अपनी चतुर कप्तानी के दम पर विजेता बनाया। बतौर कप्तान उन्हें अच्छे से पता है कि एक खिलाड़ी से प्रदर्शन कैसे करवाया जाता है।

कप्तानी के मामले में आईपीएल ही नहीं इंटरनेशनल क्रिकेट में भी हिट हैं ‘हिटमैन’

अपनी कप्तानी में मुंबई इंडियंस को सबसे सफल आईपीएल टीम बनाने वाले रोहित इंटरनेशनल क्रिकेट में भी कप्तान के तौर पर खूब चमके हैं, खास टी-20 फॉर्मेट में। रोहित ने अब तक कुल 19 मैचों में भारतीय टी-20 टीम की कप्तानी की है, जिसमें से 15 में टीम इंडिया को जीत मिली है, जबकि मात्र 4 में टीम को हार नसीब हुई है। बतौर कप्तान ही नहीं, बल्कि एक बल्लेबाज के तौर पर भी रोहित टी-20 फॉर्मेट में खूंखार साबित हुए हैं। उन्होंने टी-20 फॉर्मेट में चार शतक जड़े हैं, जो एक वर्ल्ड रिकॉर्ड हैं। इसमें से रोहित ने दो शतक बतौर कप्तान जड़े हैं। रोहित की कप्तानी में ही भारत ने 2018 में निदाहास ट्रॉफी जीती थी, जो श्रीलंका में खेली गई थी, जिसमें बांग्लादेश ने भी हिस्सा लिया था। वहीं 2018 में यूएई में हुए एशिया कप में भी टीम इंडिया ने खिताबी जीत रोहित की कप्तानी में दर्ज की गई थी। यहां भारत ने फाइनल में बांग्लादेश को तीन विकेट से मात दी थी। इस अहम मुकाबले में रोहित ने कप्तानी पारी खेलते हुए टीम के लिए 48 रन बनाए थे।

बतौर कप्तान टी-20 में शतक लगाने वाले एकमात्र भारतीय

वैसे तो रोहित ने बतौर खिलाड़ी टी-20 क्रिकेट में कई धमाके किए हैं, लेकिन बतौर कप्तान इस फॉर्मेट में शतक जड़ना अपने आप में खास है। यह एक ऐसा रिकॉर्ड है, जो उनके अलावा दूसरा भारतीय कप्तान नहीं बना पाया है। मौजूदा भारतीय कप्तान विराट कोहली इस रिकॉर्ड की बराबरी करने के करीब जरूर पहुंचे, लेकिन बाद में वंचित रह गए। रोहित ने यह खास पारी साल 2018 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली थी। तब उन्होंने 61 गेंदों पर 111 रन की एक शानदार पारी खेली थी। अपनी इस पारी में उन्होंने 8 चौके व 7 छक्के जड़े थे। इस मैच जिताऊ पारी के दम पर भारत ने यह मैच 71 रनों से अपने नाम किया था।

Leave a comment