ऑस्ट्रेलियाई पूर्व बल्लेबाज और कॉमेटेंटर माइकल स्लेटर ने अपने देश की सरकार और पीएम पर स्वदेश ना लौटने देने वाले फैसले पर हमला किया था।

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने मंगलवार को पूर्व क्रिकेटर माइकल स्लेटर के ‘आपके हाथ खून से रंगे हैं’ वाली टिप्पणी पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बेतुका बताया है। ऑस्ट्रेलियाई पूर्व बल्लेबाज और कॉमेटेंटर माइकल स्लेटर ने अपने देश की सरकार और पीएम पर स्वदेश ना लौटने देने वाले फैसले पर हमला किया था।

पीएम मॉरिसन ने आगे कहा कि किसी भी तरह से भारत से वापसी करने वाले आस्ट्रेलियाई लोगों के लिए उड़ान भरने या जुर्माना लगाने की संभावना “अत्यधिक संभावना नहीं” थी। हालांकि, मॉरिसन ने प्रतिबंध का बचाव करते हुए नौ नेटवर्क को बताया, “नहीं, यह स्पष्ट रूप से बेतुका है।”

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने नाइन टुडे कार्यक्रम में बातचीत करते हुए कहा, “यह ऑस्ट्रेलिया में तीसरी लहर को रोकने के लिए और अधिक लोगों को सुरक्षित रूप से घर लाने के बारे में है। मुझे लगता है कि किसी भी घटना की संभावना बहुत अधिक शून्य है।”

यह भी पढ़ें | आईपीएल के इस पूर्व चेयरमैन ने लगाई बीसीसीआई और खिलाड़ियों की जमकर क्लास, जानिए पूरा मामला

गौरतलब है कि स्लेटर ने सोमवार को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए लिखा था, “अगर हमारी सरकार ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों की सुरक्षा के बारे में चिंता करती तो हमें देश लौटने दिया जाता। ये अपमान है। प्रधानमंत्री आपके हाथों में खून लगा है। हम कैसे हमारे साथ इस तरह का व्यवहार कर सकते हैं। आपके क्वारेंटाइन सिस्टम का क्या हुआ? मैंने आईपीएल में काम करने के लिए सरकार की अनुमति थी, लेकिन मुझे अब सरकारी उपेक्षा का सामना करना पड़ा रहा है।”

विशेष रूप से ऑस्ट्रेलिया ने अपने बॉर्डर्स बंद कर रखे हैं और उन्होंने भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते संकट को देखते हुए सभी उड़ानें बंद की हुईं हैं। यह प्रतिबंध 15 मई तक लगाया हुआ है। इतना ही नहीं सरकार ने ऑस्ट्रेलियाई लोगों भारी जुर्माना के साथ 5 साल की जेल की धमकी भी दी अगर वे भारत में 14 दिन बिता कर ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश करते हैं। ऑस्ट्रेलिया में कोविड-19 वायरस के खतरे को रोकने के लिए राष्ट्रीय कैबिनेट की बैठक के बाद शुक्रवार को यह फैसला किया गया था।