धोनी आईपीएल के मौजूदा संस्करण में बल्लेबाजी में लगातार फ्लॉप साबित हो रहे हैं.

महेंद्र सिंह धोनी आईपीएल में अपनी सूझबुझ भरी कप्तानी और ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी के लिए जाने जाते हैं. 2021 आईपीएल के दूसरे फेज़ की शुरुआत में हीं फैंस को धोनी की बल्लेबाज़ी से काफी उम्मीदें थी और फैंस उनके हेलीकॉप्टर शॉट की झलक पाने का इंतज़ार कर रहे थे, लेकिन हाल ही के मुकाबलों में धोनी की धीमी होती बल्लेबाज़ी ने सब को मायूस कर दिया. दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ सोमवार को खेले गए मुकाबले में एमएस धोनी ने 27 गेंदों में बिना किसी बाउंड्री के 18 रन बनाए, जो आईपीएल की सबसे धीमी पारी बन गई है. आईपीएल इतिहास में पिछले 12 साल में यह माही के लिए पहली बार था, जब एमएस धोनी एक पारी में 25 गेंदों से ज्यादा खेलने के बाद एक भी चौका या छक्का लगाने में असफल रहे हों.

आईपीएल में बतौर कप्तान हिट रहे धोनी

आईपीएल के मौजूदा सीज़न में महेंद्र सिंह धोनी बतौर कप्तान बेहद कामयाब रहे हैं. 2008 से चेन्नई की कप्तानी का जिम्मा संभाल रहे धोनी ने अपनी टीम को 3 बार आईपीएल का बादशाह बनाया. धोनी की कप्तानी में चेन्नई 5 बार रनर-अप रही. धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स के जीत प्रतिशत में निरंतर बढ़ोतरी हुई है. 2018 में धोनी की कप्तानी में ही चेन्नई ने हैदराबाद को हरा कर आखिरी बार आईपीएल का खिताब जीता था. मौजूदा सीज़न में भी धोनी की अगुआई में चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल 2021 के प्लेऑफ में जगह बनाने वाली पहली टीम बनी है.

बल्लेबाज़ी में लगातार फ्लॉप होते जा रहे धोनी

आईपीएल के मौजूदा सीजन में धोनी भले ही बतौर कप्तान बेहद सफल रहे हैं, लेकिन बल्लेबाज़ के रूप में वह हर तरह से फ्लॉप नज़र आये हैं. माही ने इस सीज़न में अभी तक 13 मैचों में 14 के औसत और 97.67 के स्ट्राइक रेट से महज़ 84 रन ही बनाए हैं. महेंद्र सिंह धोनी 2018 से लगातार धीमी बल्लेबाज़ी कर रहे हैं, 2018 में उनका स्ट्राइक रेट 150.66 था, जो 2021 में घटकर 97.67 पर आ गया है.

स्पिन के खिलाफ बेबस

एम एस धोनी के बतौर बल्लेबाज़ असफल रहने के पीछे उनका स्पिन गेंदबाजों को सही से ना खेल पाना भी रहा है, पिछले 4 सालों में एम एस धोनी ने स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ लगभग 5 रन प्रति ओवर की औसत से रन बनाए हैं, जो खुद में यह साबित करता है कि धोनी की बल्लेबाज़ी में अब वो दम नहीं रहा है.

धीमी शुरुआत

पिछले कुछ मैचों में रनों का पीछा करते हुए धोनी, जब भी मैदान पर आये हैं तो ज्यादातर देखा गया है कि धोनी की अपनी पारी को शुरू करने की रफ़्तार काफी धीमी रहती है और उनके आक्रमक शॉट्स भी बाउंड्री को पार नहीं कर पाते हैं. सोमवार को दिल्ली के खिलाफ 7वें नंबर पर बल्लेबाज़ी करने उतरे धोनी ने आक्रमक शॉट्स खेलने की कोशिश की, लेकिन बल्ले का किनारा लेकर बॉल बाउंड्री पार तो नहीं बल्कि ऋषभ पंत के दस्तानों में जा पहुंची.

उम्र हो रही है हावी

महेंद्र सिंह धोनी फिलहाल, 40 साल के हो चुके हैं और उनकी इस बढ़ती उम्र का असर उनके खेल पर भी देखने को मिलता है, कभी विकटों के बीच अपनी शानदार रनिंग के लिए मशहूर धोनी अब दो रन लेने के बाद बहुत थके हुए दिखाई देने लगे हैं. आईपीएल 2020 में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ खेलते हुए धोनी ने नाबाद 47* रन की पारी खेली थी, लेकिन इस मैच में धोनी को थकान और गर्मी की वजह से बल्लेबाज़ी में असहज महसूस करते हुए और लगातार ब्रेक लेते हुए देखा गया था. बल्लेबाज़ी में निरंतर गिरावट का यह भी एक बड़ा कारण रहा है.

क्या होगा आखिरी आईपीएल?

महेंद्र सिंह धोनी 2020 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर चुके हैं, हालांकि आईपीएल में अभी भी वह चेन्नई सुपर किंग्स की अगुआई कर रहे हैं, लेकिन बल्लेबाज़ी में निरंतर असफल होने के बाद शायद फ्रेंचाइजी अगले वर्ष धोनी के प्लेइंग XI में बने रहने के बारे में सोच विचार जरुर करें. हालांकि, अटकलें ये भी लगई जा रही हैं कि इस वर्ष आईपीएल से संन्यास लेने के बाद धोनी लीग के अगले सीज़न में चेन्नई सुपर किंग्स के मेंटोर की भूमिका में नज़र आ सकते हैं.

Leave a comment