एक मजबूत टीम के सिर ही सजेगा आईपीएल 2021 का ताज.

अप्रैल में शुरू हुए आईपीएल के 14वें सीज़न को कोरोना महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया था, जिसके बाद बीसीसीआई ने इसके दूसरे सत्र को 19 अक्टूबर से शुरू करने की घोषणा की थी. अब आईपीएल का यह सीज़न काफी उतार चढ़ाव के बीच अपने आखिरी दौर में पहुंच चुका है.

रविवार को आरसीबी और पंजाब किंग्स के बीच खेले गए मैच में आरसीबी ने जीत दर्ज़ कर आईपीएल 2021 के प्लेऑफ की लगभग आधी तस्वीर साफ़ कर दी है. फिलहाल, आईपीएल 2021 के प्लेऑफ में चेन्नई सुपर किंग्स, दिल्ली कैपिटल्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर जगह बना चुकी हैं.

अब देखना ये होगा कि इन टॉप 3 टीमों में से कौन सी टीम अपने बेहतर प्रदर्शन से खिताब जीतने में कामयाब रहती है.

दिल्ली कैपिटल्स है प्रबल दावेदार

दिल्ली कैपिटल्स आईपीएल पॉइंट्स टेबल में पहले पायदान पर काबिज़ है.

आईपीएल 2020 दिल्ली कैपिटल्स के लिए अब तक का सबसे सफल सीजन रहा है. इस सीजन में दिल्ली ने पहली बार आईपीएल के फाइनल में जगह बनाई थी. हालांकि, दिल्ली कैपिटल्स अपने खिताब जीतने के सपने को पूरा नहीं कर सकी और उसे मुंबई इंडियंस के हाथों हार का सामना करना पड़ा.

आईपीएल 2021 शुरू होने से पहले दिल्ली के कप्तान श्रेयस अय्यर को कंधे की चोट के कारण आईपीएल से बाहर रहना पड़ा, जिसके बाद दिल्ली कैपिटल्स ऋषभ पंत की अगुआई में एक नए जोश के साथ मैदान में उतरी और सबको चौंकाते हुए फिलहाल, आईपीएल पॉइंट्स टेबल में पहले पायदान पर काबिज़ है और इस समय आईपीएल खिताब जीतने की सबसे प्रबल दावेदार भी है.

दिल्ली की बल्लेबाज़ी है उसकी ताकत

दिल्ली कैपिटल्स की अंतहीन बल्लेबाज़ी ही उनकी सबसे बड़ी ताकत रही है.

दिल्ली कैपिटल्स की अंतहीन बल्लेबाज़ी ही उनकी सबसे बड़ी ताकत रही है. सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन 13 मैचों में 128.46 के स्ट्राइक रेट से अभी तक 501 रन बना चुके हैं. पृथ्वी शॉ भी 12 मैचों में 157.58 के स्ट्राइक रेट से 3 अर्धशतक लगा चुके हैं. दूसरी ओर, आईपीएल 2021 के दूसरे सत्र में श्रेयस अय्यर की वापसी ने टीम के मजबूत मध्यक्रम को और मजबूत किया है. अभी तक श्रेयस अय्यर ने 5 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 126 रन बनाए हैं. सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ अय्यर ने 47 रन बनाए थे और उस दौरान वह अच्छी लय में नज़र आ रहे थे.

दिल्ली के मध्यक्रम को मजबूती देने के लिए ऋषभ पंत चौथे-पांचवें स्थान पर अपनी टीम के लिए एक मजबूत स्तंभ बनकर खड़े रहते हैं और आईपीएल 2021 में अभी तक 13 मैचों में 352 रन बना चुके हैं. दिल्ली के इस बल्लेबाज़ी क्रम को घातक बनाने के लिए शिमरोन हेटमेयर, सैम बिलिंग्स, रिपल पटेल और ललित यादव जैसे हरफनमौला खिलाड़ी भी दिल्ली के पास मौजूद है, जो किसी भी मैच का रुख मोड़ने में सक्षम हैं.

ऑलराउंडर खिलाड़ियों और गेंदबाजों में है दम

दिल्ली कैपिटल्स की टीम वर्तमान में आईपीएल की सबसे संतुलित टीमों में से एक मानी जा रही है और उन्होंने अपने बेहतर प्रदर्शन से इसको साबित भी किया है. टीम में ऑलराउंडर खिलाड़ियों का शानदार मिश्रण है, जिसमे अक्षर पटेल और मार्कस स्टोइनिस, जैसे खिलाड़ी टीम को बुरी से बुरी स्थिति में भी बचाने में सक्षम हैं.

गेंदबाज़ी में दिल्ली कैपिटल्स के पास टी20 के स्पेशलिस्ट गेंदबाज़ मौजूद हैं, जिनमे कगिसो रबाडा, आवेश खान, एनरिक नोर्खिया, रविचंद्रन अश्विन और अक्षर पटेल शामिल हैं. कगिसो रबाडा अभी तक 12 मुकाबलों में 8.28 की इकॉनोमी रेट से 13 विकेट चटका चुके हैं, आवेश खान इस साल आईपीएल में एक बेहतरीन गेंदबाज़ बनकर उभरे हैं, उन्होंने 7.14 की इकॉनमी से अभी तक 22 विकेट चटकाएं हैं और वह पर्पल कैप की दावेदारी में दूसरे पायदान पर मौजूद हैं.

दिल्ली की टीम गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी के, जिस तालमेल के साथ खेल रही है उससे यह नज़र आता है कि इस बार दिल्ली का सपना पूरा होने वाला है. अगर दिल्ली फाइनल क्वालीफाई का अपना पहला मैच हार भी जाती है तो उसके पास फाइनल में पहुंचने के लिए एक और मौक़ा होगा, जिसे भुनाने में यह टीम पूरी तरह से सक्षम नज़र आती है.

चेन्नई सुपर किंग्स की ये कमजोरी कर सकती है उन्हें खिताब से दूर

चेन्नई सुपर किंग्स

आईपीएल 2020 के कमजोर प्रदर्शन के बाद एमएस धोनी की अगुवाई वाली चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल 2021 में अपना पहला मैच दिल्ली से हारने के बाद लीग में धमाकेदार एंट्री की और अगले ही मैच में 26 गेंद शेष रहते हुए पंजाब किंग्स को 6 विकेट से मात दी. चेन्नई के सलामी बल्लेबाज़ रुतुराज गायकवाड़ इस वर्ष शानदार प्रदर्शन करते हुए 13 मुकाबलों में 139.93 के स्ट्राइक रेट से 521 रन बना चुके हैं, जिसमें एक शतक भी शामिल है.

फाफ डू प्लेसिस भी अच्छी फॉर्म में नज़र आ रहे हैं, लेकिन हाल ही में दिल्ली के खिलाफ खेले गये मैच में चेन्नई सुपर किंग्स की एक कमजोरी साफ़ नज़र आई. इस मैच में चेन्नई के सलामी बल्लेबाज़ जल्द ही पवेलियन लौट चुके थे, जिसके बाद टीम का मध्यक्रम भी बुरी तरह से लड़खड़ा गया था. ऐसा नहीं है कि ये पहली बार हुआ है, पहले भी हम देख चुके हैं कि चेन्नई की सारी बल्लेबाज़ी ताकत काफी हद तक उसके टॉप ऑर्डर पर निर्भर कर रही है और अगर किसी दिन चेन्नई का टॉप ऑर्डर फेल होता है तो टीम को एक सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने में पसीने छूट जाते हैं.

आईपीएल में अभी तक चेन्नई सुपरकिंग्स भले ही बेहतर प्रदर्शन कर रही हो, लेकिन टीम की इस कमजोरी का फायदा उठाकर विपक्षी टीम उन्हें इस बार आईपीएल खिताब से दूर रख सकती है.

विराट कोहली का आईपीएल जीतने का सपना तोड़ सकती है आरसीबी की ये कमजोरी

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर

विराट कोहली आईपीएल 2021 के दूसरे सत्र के शुरुआत में ही कप्तानी छोड़ने का निर्णय ले चुके हैं. फिलहाल, आरसीबी प्लेऑफ में पहुंचने वाली तीसरी टीम बन गई है. रविवार को पंजाब किंग्स को 6 रनों से हराकर यह टीम प्लेऑफ में पहुंची थी. आरसीबी का बल्लेबाज़ी क्रम अभी तक अच्छा प्रदर्शन करता आया है, देवदत्त पडिक्क्ल और विराट कोहली की जोड़ी ने कईं मौकों पर टीम को अच्छी शुरुआत दी है तो मध्यक्रम में ग्लेन मैक्सवेल ने भी मिलने वाले मौकों को भुनाया है. हालांकि, इस बार एबी डीविलियर्स का बल्ला खामोश रहा है और वह 12 मैचों में 257 रन ही बना सके हैं.

आरसीबी के लिए परेशानी का सबब उनकी गेंदबाज़ी बन सकती है, हर्षल पटेल के अलावा आरसीबी का एक भी गेंदबाज़ निरंतर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया है. काइल जैमीसन, नवदीप सैनी और मोहम्मद सिराज जैसे प्रमुख गेंदबाजों ने आरसीबी के मैनजेमेंट को निराश किया है और आरसीबी की इस कमजोरी का फायदा विपक्षी टीम उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहेगी.

Leave a comment