इंग्लैंड में चेतेश्वर पुजारा का रिकॉर्ड कुछ खास नहीं है.

भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज डब्ल्यूवी रमन को लगता है कि भारत की टेस्ट टीम के दिग्गज खिलाड़ी चेतेश्वर पुजारा इंग्लैंड में अपने स्ट्रोकप्ले से थोड़ा अधिक सकारात्मक हो सकते हैं। रमन के मुताबिक, अगर पुजारा कुछ और शॉट खेलना शुरू करते हैं तो वे गेंदबाजों पर दबाव बना सकते हैं।

रमन के अनुसार, इंग्लैंड में इस दृष्टिकोण से सफलता मिलने की संभावना नहीं है, जहां गेंद ऑस्ट्रेलिया की तुलना में बहुत अधिक स्विंग और सीम करती है। रमन ने हिंदुस्तान टाइम्स के साथ बातचीत करते हुए कहा, “मुझे लगता है कि चेतेश्वर पुजारा को कुछ और शॉट खेलने पर विचार करना होगा। इंग्लैंड में आपको रन बनाने के लिए अवसरों का अच्छे से उपयोग करना होगा। वैसे भी इस समय वहां पर गर्मी होगी और आपको रन बनाने के लिए ज्यादा अवसर नहीं मिलेंगे।”

56 साल के पूर्व भारतीय बल्लेबाज ने आगे कहा, “चेतेश्वर लंबे समय तक पिच पर टिकते हैं और उसके बाद अपने शॉट्स खेलते हैं। ऐसे में वे कुछ रन बनाने के अवसरों से चूक सकते हैं। आप भारत और ऑस्ट्रेलिया में ऐसा खेल सकते हैं, जहां अधिक स्विंग और सीम नहीं होती है, लेकिन इंग्लैंड में यह दोनों ही होते हैं।”

बाएं हाथ के पूर्व बल्लेबाज ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया में आपको उछाल और थोड़ी बहुत सीम मिलती है, लेकिन इंग्लैंड में आपको कई बार तीनों का सामना करना पड़ सकता है। यह महत्वपूर्ण है कि आप रन बनाने के अवसरों को जाने न दें। इससे न केवल उन्हें रन बनाने का मौका मिलेगा और उनका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। इसके साथ ही वे गेंदबाजों पर दबाव भी डाल सकते हैं।”

गौरतलब है कि इंग्लैंड में चेतेश्वर पुजारा का रिकॉर्ड कुछ खास नहीं है। उन्होंने 9 टेस्ट मुकाबलों में 30 से कम के औसत और 1 शतक की मदद से 500 रन बनाए हैं। पुजारा ने भारत के लिए अब तक 85 टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 46.59 के औसत से 6244 रन बनाए हैं।

Leave a comment