भारतीय फिरकी गेंदबाज ने फिलहाल टीम इंडिया का साथ छोड़ दिया है.

भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन अपनी खतरनाक गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं. अश्विन मौजूदा समय में न्यूजीलैंड के खिलाफ आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में भारतीय टीम का हिस्सा हैं. हाल ही में उन्होंने कहा है कि प्रतिस्पर्धा से उन्हें सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की प्रेरणा मिलती है.

दाएं हाथ के गेंदबाज ने कहा कि जिस दिन उन्हें लगा कि खुद में सुधार करने की उनकी ललक कम हो रही है तो वे क्रिकेट छोड़ देंगे. बता दें कि आर अश्विन ने पिछले कुछ समय में गेंद के अलावा बल्ले से भी कई बार बड़े धमाके किए हैं.

अश्विन ने कहा, “टेस्ट क्रिकेट की खूबी यह है कि आप हमेशा ‘परफेक्ट (सर्वोत्तम)’ बनने की ख्वाहिश रखते हैं, लेकिन आप उत्कृष्टता से भी खुशी हासिल कर सकते हैं, इसलिए मैं ऐसा करता हूं.”

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि मैंने अपने करियर में अब तक, जो कुछ भी हासिल किया है, वह इसी नजरिए के कारण है. मैंने किसी भी चीज के लिए समझौता नहीं किया. लगातार सुधार की तलाश में रहता हूं.”

अश्विन ने आगे कहा, “मैं फिर से यह कहना चाहूंगा कि अगर मुझे अलग-अलग चीजें करना पसंद नहीं होगा और मैं कुछ नया करने के लिए धैर्य नहीं रख पाऊंगा या संतुष्ट हो जाऊंगा, तो मैं खेल जारी नहीं रख सकता हूं.”

गौरतलब है कि अश्विन ने 79 टेस्ट मुकाबलों में 409 विकेट हासिल किए हैं. वहीं, उन्होंने 27.96 के औसत से 2656 रन बनाए हैं. इस दौरान उन्होंने 5 शतक और 11 अर्धशतक जड़े हैं.

Leave a comment