भारतीय टीम के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर ने ईरानी कप, दिलीप ट्रॉफी और देवधर ट्रॉफी को आगामी भारतीय घरेलू क्रिकेट सत्र से बाहर किए जाने पर बीसीसीआई पर सवाल उठाए हैं।

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर ने ईरानी कप, दिलीप ट्रॉफी और देवधर ट्रॉफी को आगामी भारतीय घरेलू क्रिकेट सत्र से बाहर किए जाने पर निराशा व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि यह बहुत हैरानी वाली बात है कि बीसीसीआई ने इन तीनों टूर्नामेंट्स को आगामी डोमेस्टिक सीजन में शामिल नहीं किया है।

बीसीसीआई ने हाल ही में 2021-22 के भारतीय घरेलू सत्र के लिए अपने कार्यक्रम की घोषणा की थी, जिसमें उन्होंने इन तीनों टूर्नामेंट्स को शामिल नहीं किया। पिछले साल महामारी के कारण स्थगित होने के बाद, इस सीजन रणजी ट्रॉफी भी आयोजित की जाएगी, जो 16 नवंबर से शुरू होगी। हालांकि, वेंगसरकर ने आगामी सत्र के लिए तीन प्रमुख घरेलू टूर्नामेंटों को नजरअंदाज करने के बीसीसीआई के फैसले पर आश्चर्य व्यक्त किया है।

65 साल के पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा, “यह चौंकाने वाली बात है कि बीसीसीआई ने ईरानी कप, दिलीप ट्रॉफी और देवधर ट्रॉफी टूर्नामेंट को अपने कैलेंडर में शामिल नहीं किया है। बोर्ड के लिए यह बहुत अहम है कि वे डोमेस्टिक क्रिकेट में निवेश करें और इस पर पूरी तरह से ध्यान दें।”

यह भी पढ़ें | क्या शास्त्री की जगह द्रविड़ को होना चाहिए इंडिया का कोच? जानिए विश्व कप विजेता कप्तान का जवाब

बीसीसीआई ने गत शनिवार को आगामी 2021-22 सीजन के लिए घरेलू क्रिकेट के कार्यक्रमों का ऐलान किया था। बता दें कि सीजन की शुरुआत 21 सितंबर 2021 से होगी, जिसमें सीनियर महिला एक दिवसीय लीग खेली जाएगी और फिर 27 अक्टूबर 2021 से सीनियर महिला एक दिवसीय चैलेंजर ट्रॉफी का आयोजन होगा।

इसके बाद 20 अक्टूबर 2021 से सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी खेली जाएगी और इसका फाइनल मुकाबला 12 नवंबर 2021 को होगा। वहीं, पिछले सीजन कोरोना वायरस के कारण प्रतिष्ठित रणजी ट्रॉफी का आयोजन नहीं किया गया था, जो इस साल खेली जाएगी। विजय हजारे ट्रॉफी 23 फरवरी 2022 से लेकर 26 मार्च 2022 तक खेली जाएगी।