शुक्रवार को न्यूजीलैंड के शहर क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों पर हुए आतंकी हमले में अब तक 49 लोगों की जान जा चुकी है. हमले के दौरान बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी भी अल नूर मस्जिद में नमाज़ अदा करने की तैयारियां कर रहे थे, जिसको लेकर बांग्लादेशी क्रिकेटर मोमिनुल हक ने बड़ा खुलासा किया है. उनके मुताबिक हादसे के समय सभी खिलाड़ी इतने डरे हुए थे कि वे रो रहे थे. साथ ही उन्होंने बताया कि वे सब कैसे बचने में कामयाब हुए.

मोमिनुल हक ने क्रिकबज़ के साथ एक साक्षात्कार में बताया, “मैंने महमूदुल्लाह भाई से पूछा कि क्या हम नमाज से पहले लंच करेंगे या वापस आकर. उस समय हमने पहले जुमे की नमाज़ पढ़ने का फैसला किया, चूंकि नमाज के बाद अभ्यास सेशन था. इसलिए हमने मस्जिद से वापस आकर लंच करने का निर्णय लिया, लेकिन किसी तरह से हमारा प्लान बदल गया और हम लंच करने के बाद मस्जिद पहुंचे और शायद इसी वजह से हम बच गए.”

उन्होंने कहा, “मैं बता नहीं सकता हूं कि हम उस समय कितने ज्यादा डरे हुए थे. हम डर की वजह से रो रहे थे.”

मोमिनुल ने इस बात का भी खुलासा किया कि बांग्लादेशी खिलाड़ी किस वजह से बचे. क्रिकेटर ने कहा, “हम केवल उस कार वाली महिला की वजह से जिंदा हैं, जिसने हमसे कहा कि हम आगे कहीं ना जाएं. उसने कार की खिड़की से हमें बताया कि उसकी कार पर भी गोली लगी है. हमें समझ आया कि हम मुश्किल में हैं.”

Leave a comment