मंधाना और वर्मा के आउट होने के बाद भारतीय टीम की बल्लेबाजी पहली पारी में मात्र 231 रनों पर ढेर हो गई थी।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की स्टार बल्लेबाज स्मृति मंधाना का मानना है कि खिलाड़ियों को टेस्ट मुकाबले के हर सत्र के समाप्त के समय बेहतर प्रदर्शन करने के लिए ज्यादा से ज्यादा टेस्ट मैच खेलने की जरूरत है। इस समय इंग्लैंड और भारत की महिला टीम के बीच काउंटी क्रिकेट ग्राउंड पर एकमात्र टेस्ट खेला जा रहा है।

इस मुकाबले में इंग्लैंड की महिला टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 के नुकसान पर 396 रन बनाए थे। इंग्लिश टीम की तरफ से कप्तान हीथर नाइट ने 95 रनों की शानदार पारी खेली। वहीं, भारतीय महिला क्रिकेट टीम की तरफ से स्मृति मंधाना (78) और शैफाली वर्मा (96) ने भारत को पहली पारी में शुरुआत शानदार दिलाई थी। दोनों बल्लेबाजों ने पहली विकेट के लिए 167 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी की थी।

हालांकि, मंधाना और वर्मा के आउट होने के बाद भारतीय टीम की बल्लेबाजी पहली पारी में मात्र 231 रनों पर ढेर हो गई थी। तीसरे दिन के खेल खत्म होने के बाद मंधाना ने कहा था कि टीम अनुभव के साथ खेल के सबसे लंबे प्रारूप में सीखेगी और विकसित होगी।

24 साल की भारतीय महिला बल्लेबाज ने कहा, “हम निश्चित रूप से विचार कर सकते हैं कि हम 50 ओवर से अधिक बल्लेबाजी करने के अभ्यस्त नहीं हैं, लेकिन मैं यह नहीं कहूंगी कि टेस्ट मुकाबलों में अनुभव की कमी के कारण मैं आउट हुई, क्योंकि मैंने कल (गुरुवार) के आखिरी सत्र में अपना विकेट गंवा दिया था।”

मंधाना ने आगे कहा, “जितना अधिक हम टेस्ट मैच खेलते हैं, उतना ही हम परिस्थितियों के अभ्यस्त हो जाते हैं-लंच से पहले एक ओवर या दिन समाप्त होने से पहले एक ओवर और उन सभी सत्रों में, ताकि हम (उनके पास आने) के बारे में अधिक परिपक्व हो सकें और दबाव न लें।”

Leave a comment