शाकिब अल हसन ने अंपायर से की 'बदतमीजी'

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के दिग्गज ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर चार मुकाबलों का प्रतिबंध लगा दिया गया है. अब वे ढाका प्रीमियर लीग के अगले चार मैच नहीं खेल पाएंगे. बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) ने शाकिब के खिलाफ यह सख्त कदम उठाया है.

मालूम हो कि शाकिब ने ढाका प्रीमियर लीग के एक मैच में अंपायर के फैसले के विरुद्ध नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए पहले स्टंप्स में लात मारी थी, फिर स्टंप्स को उखाड़कर ज़मीन पर पटक दिया था. इस दौरान उन्होंने फील्ड अंपायर से बदसलूकी भी की थी.

  • क्या है इस आर्टिकल में?
  • स्पोर्टिंग क्लब के आला अधिकारी ने की है इस खबर की पुष्टि
  • अपनी शर्मनाक करतूत के लिए माफ़ी भी मांग चुके हैं शाकिब
  • शाकिब की पत्नी उम्मे अहमद ने भी किया था पति का बचाव
  • पहले भी लग चुका है बैन

स्पोर्टिंग क्लब के आला अधिकारी ने की है इस खबर की पुष्टि

बता दें कि बांग्लादेश बोर्ड ने ऑफिशल स्टेटमेंट जारी नहीं किया है, लेकिन मोहम्मडन स्पोर्टिंग क्लब क्रिकेट समिति के अध्यक्ष मसूदुज्जमां ने क्रिकबज से इसकी पुष्टि की है.

अपनी शर्मनाक करतूत के लिए माफ़ी भी मांग चुके हैं शाकिब

बाएं हाथ के दिग्गज हरफनमौला खिलाड़ी शाकिब अल हसन ने माफ़ी मांगते हुए अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लिखा था, “प्रिय फैंस और शुभचिंतकों, मैं उन सभी से माफी मांगता हूं, जिन्हें आज के मैच में मेरे व्यवहार से दुख पहुंचा है.”

उन्होंने आगे लिखा, “मेरे जैसे अनुभवी क्रिकेटर से यह बिल्कुल भी वांछनीय नहीं है, लेकिन कभी-कभी मैच के तनावपूर्ण माहौल में ऐसा हो जाता है. मैं सभी टीमों, टूर्नामेंट में शामिल सभी अधिकारियों और आयोजन समिति से ऐसी गलती के लिए माफी मांगता हूं. मुझे उम्मीद है कि मैं भविष्य में इस तरह का काम नहीं करूंगा. सब को प्यार.”

शाकिब की पत्नी उम्मे अहमद ने भी किया था पति का बचाव

 बांग्लादेशी क्रिकेटर की पत्नी उम्मे अहमद शिशिर अपने पति के बचाव में उतर आई थीं. मामले को बढ़ता देख उन्होंने शाकिब का समर्थन करते हुए अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर लिखा, “मैं इस घटना का उतना ही आनंद ले रही हूं, जितना कि मीडिया. आखिरकार, टीवी पर कुछ खबरें! लोगों के सपॉर्ट को देखकर अच्छा लगता है, जो आज की घटना की साफ तस्वीर देख सकते हैं.”

उम्मे अहमद ने आगे कहा, “कम से कम किसी में इसके खिलाफ खड़े होने की हिम्मत तो है. हालांकि, यह दुखद है कि मीडिया की ओर से मुख्य मुद्दे को दफनाया जा रहा है. केवल उनके गुस्से को हाइलाइट किया जा रहा है.”

पहले भी लग चुका है बैन

शाकिब ने ऐसे कारनामे को पहली बार अंजाम नहीं दिया है. उन पर साल 2017 में ऑन फील्ड अंपायर को गाली देने के आरोप में एक साल का बैन लग चुका है. इतना ही नहीं, आईसीसी ने 2019 में शाकिब पर तीन मामलों में 2 साल का प्रतिबंध लगाया था.

Leave a comment