क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने द्रविड़ की इस भूमिका को लेकर बड़ा बयान दिया है।

शिखर धवन की अगुआई में भारतीय टीम अगले महीने श्रीलंका दौरे पर जाएगी, जहां दोनों टीम्स के बीच तीन वनडे और इतने ही टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों की सीरीज खेली जाएगी। इस दौरे के लिए टीम इंडिया के कोच के रूप में पूर्व भारतीय दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ जाएंगे। ऐसे में क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने द्रविड़ की इस भूमिका को लेकर बड़ा बयान दिया है।

तेंदुलकर के अनुसार, अधिकतर युवा भारतीय खिलाड़ियों ने द्रविड़ के साथ काफी समय बिताया है, जो फायदेमंद रहेगा। 48 साल के पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत करते हुए कहा, “इन खिलाड़ियों ने राहुल के साथ काफी समय बिताया है, इसलिए वे उन्हें जानते हैं। एक कोच वह होता है, जिसे टीम और ड्रेसिंग रूम में स्वस्थ माहौल रखना चाहिए और राहुल ऐसा करेंगे। इस स्तर पर, जब तक कि कमजोरियां न हों, आपको खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता नहीं है।”

यह भी पढ़ें | रोहित के आउट होने के बाद कोहली को भेजना चाहिए था नाईट-वॉचमैन – ब्रैड हॉग

दाएं हाथ के पूर्व महानतम बल्लेबाज ने आगे कहा, “वे सभी जानते हैं कि कवर ड्राइव कैसे लगाया जाता है या आउटस्विंगर को गेंदबाजी कैसे की जाती है, जब कोई संघर्ष कर रहा होता है तभी उसके ऊपर काम करने के लिए एक अनुभवी की भूमिका निभाने के आवश्यकता होती है। अन्यथा, टीम जानती है कि उन्हें क्या करना है।”

उल्लेखनीय है कि राहुल द्रविड़ साल 2015 से 2019 तक भारत ए और अंडर-19 टीम्स के कोच थे। इसके बाद उन्हें साल 2019 में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) का प्रमुख नियुक्त कर दिया गया। ‘द वॉल’ के नाम से मशहूर द्रविड़ शिखर धवन की अगुआई वाली भारतीय टीम की कोचिंग करेंगे, जो अगले महीने श्रीलंका दौरे पर सीमित ओवर्स सीरीज खेलने जाएगी। श्रीलंका दौरे की शुरुआत 13 जुलाई को वनडे सीरीज से होगी। इस दौरे पर भारत और श्रीलंका के बीच तीन वनडे और तीन ही टी20 इंटरनेशनल मुकाबलों की सीरीज खेली जाएगी।