virat-kohli-cricket-today
कोहली हुए भावुक, बोले 'मेरा दिल साफ है, अपनी टीम के साथ बेईमानी नहीं कर सकता'

भारतीय (India) क्रिकेट टीम का, जब दक्षिण अफ्रीका (South Africa) का ये दौरा प्रस्तावित हुआ उसके बाद से ही क्रिकेट पंडित से लेकर क्रिकेट फैंस ने अनुमान लगा दिया था कि इस बार भारतीय टीम के आगे दक्षिण अफ्रीका की एक ना चलेगी। यानी टेस्ट हो या वनडे, दोनों ही सीरीज में बड़ी आसानी के साथ भारतीय टीम प्रोटियाज टीम का शिकार कर लेगी।

वैसे पहले से ही इस दौरे के परिणाम का अनुमान लगाए जाने में कोई गलत नहीं था, क्योंकि एक तरफ ऐसी भारतीय टीम जिसका विश्व क्रिकेट में बहुत ही खास वर्चस्व है, तो वहीं दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका की वो टीम, जो पुरर्निमाण की प्रक्रिया से गुजर रही है। कुछ सालों में एक के बाद एक कई बड़े नामों के जाने के बाद दक्षिण अफ्रीका को भारत के सामने बिल्कुल भी चुनौतीपूर्ण नहीं माना जा रहा था।

ऐसे में भारत का दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर इस बार 29 साल में पहली बार टेस्ट सीरीज में विजय पताका फहराने की पूरी उम्मीद थी, तो साथ ही वनडे सीरीज को भी आसानी से जीतने की भविष्यवाणी की जा रही थी, लेकिन क्रिकेट पंडितों के ये तमाम प्रेडिक्शन पूरी तरह से गलत साबित हुए।

टीम इंडिया को दक्षिण अफ्रीका की एक कमजोर और अनुभवहीन टीम ने पहले तो टेस्ट सीरीज में 1-2 और फिर वनडे सीरीज में 0-3 के स्कोर से पूरी तरह से धराशायी कर दिया, जिस तरह से भारतीय टीम की दक्षिण अफ्रीका के इस दौरे पर हालत हुई है, उसकी कड़वी यादें हमेशा ही चुभती नजर आएंगी।

अब हर किसी के जेहन में एक सवाल कौंध रहा होगा कि आखिर जो भारतीय टीम विजय रथ पर सवाल थी, उसे अचानक ही दक्षिण अफ्रीका की सरजमीं पर जाते ही ब्रेक कैसे लग गया। आखिर इस कमजोर टीम के आगे भारत की सितारों से सजी मजबूत और संतुलित टीम को शिकस्त का सामना कैसे करना पड़ा।

इसके साथ ही एक और सवाल भी यहां नजर आता है कि क्या दक्षिण अफ्रीका के दौरे के लिए रवानगी से ठीक पहले विराट कोहली को वनडे कप्तानी से हटाना है? दक्षिण अफ्रीका दौरे पर रवाना होने से कुछ ही दिन पहले विराट कोहली को बीसीसीआई ने अचानक ही वनडे कप्तानी से हटा दिया। उस विराट कोहली को जिन्होंने भारतीय टीम के लिए सबसे सफलतम कप्तानों की श्रेणी में जगह बनायी।

विराट कोहली जैसे सफलतम कप्तान को वनडे में कप्तानी से हटाने के बाद एक बड़ा बवाल खड़ा हो गया। जहां विराट कोहली इससे बिल्कुल भी खुश नहीं दिखायी दिए तो वहीं उनकी कप्तानी को लेकर बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली के बयान ने नए विवाद को जन्म दे दिया। इसके बाद दक्षिण अफ्रीका दौरे पर जाने से एक दिन पहले विराट कोहली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में सौरव गांगुली को गलत करार देते हुए कप्तानी से हटाने को लेकर खुलकर बोले।

फिर क्या था भारतीय क्रिकेट में एक नया विवाद खड़ा हो गया। विराट कोहली और बीसीसीआई के आमने-सामने होने के कड़वे अनुभव के बीच भारतीय क्रिकेट टीम दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर पहुंची। दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर जहां भारत को फेवरेट माना जा रहा था।

उसी भारतीय टीम में अचानक ही कप्तानी को लेकर उठे विवाद ने वहां पर पहुंचे खिलाड़ियों की मानसिकता पर भी गहरा प्रभाव डाला। भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला टेस्ट तो जीता, लेकिन इसके बाद लगातार दो टेस्ट मैचों में टीम इंडिया का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। टेस्ट सीरीज के ठीक बाद विराट कोहली ने टेस्ट की कप्तानी भी छोड़ कर सनसनी फैला दी।

एक चैंपियन कप्तान के इस तरह से पहले वनडे कप्तानी से हटाना और इसके बाद खुद ही टेस्ट की कप्तानी से इस्तीफा देने का घटनाक्रम भारतीय खिलाड़ियों के मन में बैठ गया। यहां भारतीय टीम जो विराट कोहली की कप्तानी में बिना किसी दबाव के लगातार शानदार प्रदर्शन करती आ रही थी, वहीं भारतीय टीम विराट कोहली के होते हुए नए कप्तान के साथ खेलते हुए साफ तौर पर दबाव में दिखी।

वनडे सीरीज में सूपड़ा साफ होने के बाद अब ये सवाल उठना तो लाजिमी है कि भारतीय टीम कहीं ना कहीं विराट कोहली के कप्तान ना होने से उनकी मौजूदगी में ही खेलते हुए काफी प्रभावित हुई। कोहली का कप्तानी से हटना और हटाना टीम इंडिया के लिए दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर सबसे बड़ा नुकसान साबित हुआ।

ऐसे में हम इस निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं कि कहीं ना कही बीसीसीआई के द्वारा विराट कोहली को वनडे कप्तानी से हटाना और फिर वनडे सीरीज से ठीक पहले विराट कोहली का खुद ही टेस्ट कप्तानी छोड़ने से दक्षिण अफ्रीका के इस दौरे पर टीम इंडिया की ये हालत हुई है।

Leave a comment

Cancel reply