jadeja crictoday
Asia Cup 2022: मानो या न मानो अकेले रवींद्र जडेजा के बिना टीम का संतुलन गड़बड़ा गया

पाकिस्तान के विरुद्ध एशिया कप ओपनर: रवींद्र जडेजा प्लेइंग इलेवन में थे और तीनों गेंदबाजी, बल्लेबाजी और फील्डिंग में योगदान और सब ने माना कि यह रवींद्र जडेजा का प्रदर्शन था, जिसने मेन इन ब्लू को अपने कट्टर प्रतिद्वंद्वियों को हराने में मदद की।

पाकिस्तान के विरुद्ध एशिया कप सुपर 4 मैच: रवींद्र जडेजा प्लेइंग इलेवन में नहीं और रोहित शर्मा की टीम इस बार जीत नहीं पाई और एशिया कप 2022 में अपनी पहली हार का सामना करना पड़ा। इतना ही नहीं, उसके बाद श्रीलंका से भी हारे और इन दो हार से क्या हुआ- अब सब जानते हैं।

ऐसा क्या हुआ कि रोहित शर्मा की जो टीम, एशिया कप 2022 ट्रॉफी जीतने के लिए टॉप दावेदार के तौर पर यूएई गई थी- लगातार हार के बाद, उनके सपनों को एक बड़ा झटका लगा। यूं तो उनके कमजोर अभियान ने कुछ गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं पर ये मानने वालों की कमी नहीं कि जिस फैक्टर ने टीम की इस हार में सबसे ख़ास भूमिका निभाई, वह है खराब किस्मत से जबर्दस्ती का बदलाव- टीम इंडिया के हरफनमौला खिलाड़ी रवींद्र जडेजा का घुटने की चोट से एशिया कप 2022 के बीच से बाहर होना। ऊपर जिन दो बड़ी हार का जिक्र है, उनमें जडेजा टीम में नहीं थे। क्या आपको याद है कि पाकिस्तान के विरुद्ध ओपनर में जीत के बाद क्या कहा गया था? टीम इंडिया 13 खिलाड़ियों के साथ खेल रही है- इशारा जडेजा और हार्दिक की ऑलराउंड टेलेंट की तरफ था। जडेजा बाहर हुए तो मानो हार्दिक ने भी अपना जादुई टच खो दिया। अक्षर पटेल को यकीनन ‘लाइक-फॉर-लाइक’ के तौर पर लाए लेकिन एक ऑलराउंडर के तौर पर उनका जडेजा से मुकाबला ये कि उन्हें प्लेइंग इलेवन में भी नहीं लिया।

बहुत पुरानी बात नहीं है जब जडेजा भी, रविचंद्रन अश्विन के साथ भारत की लिमिटेड ओवर टीम से बाहर थे पर अब ऐसा नहीं है। सच ये कि इस मल्टी-टैलेंट खिलाड़ी की गैरमौजूदगी ने, पहले से ही असंतुलित दिख रही टीम को और असंतुलित कर दिया। जडेजा की बदौलत न सिर्फ बेहतर बल्लेबाजी के साथ टीम के मिडिल ऑर्डर मजबूत होता है टीम में एक अतिरिक्त गेंदबाज की जगह भी बन जाती है। इसे संयोग कहें या सरासर बदकिस्मती पाकिस्तान को फिर से हराने के लिए बिल्कुल उसी टेलेंट वाले खिलाड़ी की जरूरत थी, लेकिन कोई भी इस मौके पर टीम में नहीं था।

अब यह साफ़ है कि जडेजा की बदौलत टीम में जो स्थिरता और आत्मविश्वास आता है उसका जवाब नहीं और भारत का आगे का अभियान इस 33 साल के खिलाड़ी के बिना बड़ा मुश्किल और चुनौती का होने वाला है। सुपर 4 में ऋषभ पंत और हार्दिक पांड्या के विकेट जल्दी-जल्दी खोना कुछ ऐसा था जिसके लिए टीम तैयार नहीं थी- दोनों 6 गेंद में आउट और टीम वह स्कोर बना ही नहीं पाई जिससे जीत एक गारंटी जैसी लगती। कप्तान रोहित शर्मा ने इस कमी को छिपाया नहीं। सच तो ये है कि कप्तान ने मान लिया कि मिडिल आर्डर में जडेजा की गैरमौजूदगी ने कैसे असर डाला।

जडेजा की खूबी ये कि ऐसे खिलाड़ी हैं जो अपने पार्टनर के स्कोरिंग रेट के हिसाब से खेल सकते हैं, टूर्नामेंट के पहले मैच के दौरान पांड्या के साथ एक महत्वपूर्ण पार्टनरशिप सबूत है। सुपर 4 में भारत, पाकिस्तान के विरुद्ध एक अतिरिक्त गेंदबाज के बिना था दीपक हुड्डा टीम में थे पर एक भी ओवर नहीं फेंका, जिसका मतलब था कि भारत के पास उस सही छठे गेंदबाज का विकल्प नहीं था, जो ख़ास दौर में विकेट ले सके। जडेजा भी अगर विकेट नहीं ले पाते तो कम से कम एक छोर को सील बंद करने और अपने ओवरों को पूरा करने की टेलेंट रखते हैं।

एशिया कप तो हो गया। जडेजा के बिना भारत के लिए मुश्किल अभी सामने हैं, अगर जडेजा फिट न हुए तो? जडेजा की जगह अक्षर पटेल खेल सकते हैं- गेंदबाजी में तो असरदार लेकिन बल्लेबाजी टैलेंट की तुलना जडेजा से नहीं की जा सकती। दीपक हुड्डा भी विकल्प हैं, लेकिन वे बल्लेबाजी में ज्यादा योगदान दे सकते हैं और गेंद पर उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता। इसके अलावा, भारतीय टीम में कोई भी खिलाड़ी जडेजा की तरह फील्डिंग की बात आती है तो बराबरी पर नहीं। सौराष्ट्र का ये खिलाड़ी न सिर्फ ग्राउंड पर कहीं से भी रन-आउट कर सकता है, सबसे मुश्किल कैच भी ले सकता है।

ठीक है 23 अक्टूबर से पहले इस स्थिति को सुधारने का अभी भी समय है पर हल क्या है? दोनों सुपर 4 हार में समान पैटर्न था- आखिरी ओवर में हार, डेथ-ओवर में झटका, मिडिल आर्डर मेल्टडाउन। इन हार के बावजूद, कप्तान रोहित शर्मा का मानना है कि अभी दहशत वाली कोई बात नहीं पर सवाल ये कि जडेजा की जगह कौन? मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) में पाकिस्तान के विरुद्ध 2022 टी 20 वर्ल्ड कप में भारत के शुरुआती मैच में कुछ ही हफ्ते बचे हैं।

Leave a comment

Cancel reply