rohit kohli sury crictoday
5 कारण, जिनके चलते टीम इंडिया को ICC टी20 विश्व कप 2022 के खिताब को जीतना चाहिए

भारतीय (Indian) टीम ने अभी तक तीन बार आईसीसी विश्व कप का खिताब जीता है. उनमें से दो वनडे विश्व कप हैं और एक टी20 वर्ल्ड कप है. भारत ने सबसे पहला टाइटल साल 1983 में जीता था, जब कपिल देव की कप्तानी वाली टीम इंडिया ने फाइनल में वेस्टइंडीज को पटखनी दी थी. इसके बाद नीली जर्सी वाली टीम ने साल 2007 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित हुए टी20 विश्व कप के पहले एडिशन के फाइनल में पाकिस्तान को हराकर खिताब आपने नाम किया था. इसके चार साल बाद यानी 2011 में टीम इंडिया ने अपनी घरेलू सरज़मीं पर आईसीसी वनडे विश्व कप का टाइटल अपने कब्ज़े में लिया था. इन दोनों मौकों पर भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी थे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि टीम इंडिया 60 ओवर, 50 ओवर और 20 ओवर का विश्व कप जीतने वाली दुनिया की पहली और इकलौती टीम है. इतना ही नहीं, भारत को आईसीसी का हर एक मुख्य खिताब दिलाने वाले धोनी भी दुनिया के इकलौते कप्तान हैं.

T20 वर्ल्ड कप में भारत को मिले बुमराह जैसे 4 घातक गेंदबाज़ – वीडियो

इसके अलावा आईसीसी के अन्य मेजर टूर्नामेंट की बात करें तो धोनी की अगुवाई में ही इंग्लैंड में आयोजित हुई आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2013 को भी भारत ने जीता था. इसके बाद से मैन इन ब्लू अभी तक एक भी बार आईसीसी के किसी भी मेजर टूर्नामेंट के खिताब को जीत नहीं पाया है. इस बार आईसीसी टी20 विश्व कप का आयोजन ऑस्ट्रेलिया में होगा और इस बार टीम इंडिया बेहद शानदार लय में नज़र आ रही है. हालांकि, दिग्गज पेसर जसप्रीत बुमराह का स्ट्रेस फ्रैक्चर की वजह से बाहर होना टीम के लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं है (रिपोर्ट में हुआ यह दावा).

रोहित शर्मा की अगुवाई वाली टीम 23 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले से आगामी मेजर टूर्नामेंट में अपने अभियान की शुरुआत करेगी. यह मैच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) में खेला जाएगा.

बहरहाल, अब हम आपको बताते हैं कि रोहित एंड कंपनी को इस बार का टी20 विश्व कप टाइटल क्यों जीतना चाहिए. आइये जानते हैं:

टीम इंडिया ने 2013 से अब तक नहीं जीता है कोई भी आईसीसी खिताब

भारतीय क्रिकेट टीम ने आखिरी बार साल 2013 में आईसीसी के किसी टूर्नामेंट पर कब्ज़ा जमाया था. दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने इंग्लैंड में आयोजित हुई आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी को अपने कब्ज़े में लिया था. इसके बाद से अभी तक टीम इंडिया आईसीसी के मेजर टूर्नामेंट्स में निर्णायक मुकाबले हारती आ रही है. 2013 के बाद से भारत को 2015 और 2019 विश्व कप में सेमीफाइनल में हार मिली थी. इतना ही नहीं भारत 2014 आईसीसी टी20 विश्व कप में फाइनल में हारा था, जबकि 2016 टी20 वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल में शिकस्त झेलनी पड़ी थी. यहां तक कि 2017 आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में भी भारत फाइनल में हार गया था. इतना ही नहीं, टी20 वर्ल्ड कप 2021 में वे सेमीफाइनल से पहले ही बाहर हो गए थे. यहां तक कि उसी साल इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान पर न्यूजीलैंड के खिलाफ आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भी भारत को हार झेलनी पड़ी थी. इसके चलते उन्हें इस बार टूर्नामेंट जीतकर खिताब के सूखे को समाप्त करना चाहिए.

यह भी पढ़ें – टी20 विश्व कप के इतिहास में हर एक बल्लेबाजी क्रम पर सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज

एक साल में सर्वाधिक टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच जीतने वाली टीम बनी भारत

भारत ने गत रविवार को हैदराबाद में खेले गए तीन मुकाबलों की टी20 आई सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच में ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हराकर 2-1 से सीरीज अपने नाम कर ली. साथ ही साथ टीम इंडिया ने एक कैलेंडर वर्ष में सबसे अधिक टी20 आई मुकाबले जीतने के मामले में पाकिस्तान के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है. भारत की इस साल 28 मुकाबलों में यह 21वीं टी20 आई जीत थी. पाकिस्तान ने 2021 में 20 टी20 आई मुकाबले जीते थे. अब नीली जर्सी वाली टीम एक कैलेंडर इयर में सर्वाधिक टी20 आई मैच जीतने वाली विश्व की पहली टीम बन गई. इसके बाद उन्होंने तीन मुकाबलों की टी20 आई सीरीज के पहले मैच में दक्षिण अफ्रीका को भी पराजित कर दिया. इसी के साथ भारत अभी तक एक कैलेंडर इयर में 22 टी20 आई मैच जीत चुका है. रोहित सेना अपनी इसी लय को आगामी विश्व कप में भी जारी रखना चाहेगी.

सूर्यकुमार यादव के रूप में भारत को मिला मिस्टर 360 डिग्री वाला खिलाड़ी

32 साल के सूर्यकुमार यादव ने भारतीय टीम में शामिल होने के बाद नीली जर्सी वाली टीम की बल्लेबाजी में नई जान फूंक दी है. सूर्यकुमार ने अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के दम पर अपने छोटे से टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर में बहुत कुछ हासिल कर लिया है. क्रिकेट के जानकार उनकी तुलना दक्षिण अफ्रीका के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज एबी डी विलियर्स से करने लगे हैं. सूर्य को भारत का 360 डिग्री वाला खिलाड़ी भी कहा जाता है, क्योंकि उनमें मैंदान के चारों ओर शॉट्स खेलने की काबिलियत है. दाएं हाथ के बल्लेबाज ने अभी तक 32 टी20 आई मुकाबलों में 39.04 के औसत से 976 रन बनाए हैं. दाएं हाथ के बल्लेबाज ने एक शतक भी जमाया है. साथ ही उन्होंने 8 अर्धशतक भी जड़े हैं. सूर्य ने 57 छक्के और 88 चौके लगाए हैं. उनका उच्चतम व्यक्तिगत स्कोर 117 रन रहा है. सूर्यकुमार आगामी टी20 विश्व कप में शानदार प्रदर्शन करते हुए मैन ऑफ द टूर्नामेंट बन सकते हैं. वे इस साल टी20 आई में सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले बल्लेबाज भी हैं.

यह भी पढ़ें – टॉप-6 सक्रिय गेंदबाज, जिन्होंने टी20 विश्व कप में चटकाए हैं सबसे ज्यादा विकेट  

विराट कोहली की फॉर्म में हुई वापसी

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने एशिया कप 2022 के सुपर-4 स्टेज के पांचवें मुकाबले में अफगानिस्तानके खिलाफ शतक जड़कर कई बड़े कीर्तिमान अपने नाम कर लिए. विराट ने 61 गेंदों में नाबाद 122* रनों की पारी खेली, जिसमें 6 छक्के और 12 चौके शामिल थे. 33 साल के खिलाड़ी का टी20 आई क्रिकेट में यह पहला शतक था. कोहली ने 1021 दिनों और 83 पारी के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में शतक जड़ा. उन्होंने अपना आखिरी सैकड़ा साल 2019 में बांग्लादेश के विरुद्ध बनाया था. उन्होंने एशिया कप में 5 मुकाबलों में 92.00 के शानदार औसत से 276 रन बनाए. इस दौरान उन्होंने एक शतक और 2 अर्धशतक जड़े. उनका उच्चतम व्यक्तिगत स्कोर 122* रन नाबाद रहा. इसके बाद उन्होंने कहा था कि एशिया कप में उनका एकमात्र लक्ष्य अपनी फॉर्म को तलाशना था और अब वे इस साल ऑस्ट्रेलिया में खेले जाने वाले आईसीसी टी20 विश्व कप पर अपना ध्यान केन्द्रित कर रहे हैं. कोहली की भूमिका नीली जर्सी वाली टीम के लिए बेहद अहम होने वाली है.

टीम में दिनेश कार्तिक और अर्शदीप सिंह, जैसे खिलाड़ी मौजूद

भारतीय टीम के स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में टीम इंडिया के लिए एक बेहतरीन विकेटकीपर की भूमिका के साथ-साथ मैच फिनिशर का रोल निभा रहे हैं. उन्होंने लगभग तीन साल बाद राष्ट्रीय टीम में वापसी करते हुए भारत को अकेले दम पर कई टी20 आई मैच जिताए हैं. कार्तिक का रोल आगामी विश्व कप में भी अहम होने वाला है. वहीं, बाएं हाथ के स्टार पेसर अर्शदीप सिंह ने भी अपने छोटे से करियर में खूब वाह-वाही बटोरी है. उनमें गेंद को दोनों ओर सीम/ स्विंग करने की कला है. साथ ही वे डेथ ओवर में शानदार गेंदबाजी के लिए भी जाने जाते हैं. ऑस्ट्रेलिया की पिचों पर भी उनकी गेंदबाजी से भारत को काफी फायदा मिल सकता है. इन दोनों के अलावा भारतीय टीम में कई और मैच विनर खिलाड़ी शामिल हैं.

यह भी पढ़ें – टॉप-5 खिलाड़ी, जिन्होंने ICC टी20 विश्व कप के मैच की एक पारी में जड़े हैं सर्वाधिक छक्के

Q. इस बार आईसीसी टी20 विश्व कप कहां खेला जाएगा?

A. ऑस्ट्रेलिया में

Leave a comment

Cancel reply