कुछ ही घंटे के अंदर कई टीम घोषित हो गईं विश्व कप के लिए। इन सब में एक समानता है। आम तौर पर जवाब होगा – विश्व कप जीतने की उम्मीद वाली टीम चुनी। ऐसा हो या न हो – इतनी समानता जरूर है कि चयनकर्ता किसी भी टीम के हों, हैरान करने वाले फैसले लेने में वे कतई पीछे नहीं रहे। इस तरह न तो एमएसके प्रसाद एंड कंपनी अकेले हैं और न ही अंबाती रायुडू एवं ऋषभ पंत अकेले हैं।

भारत के अंबाती रायुडू और ऋषभ पंत को विश्व कप के लिए 15 में शामिल न किए जाने के बारे में बहुत कुछ लिखा जा चुका है। कुछ दिन पहले तक इनका नाम इंग्लैंड जाने वाली टीम में पक्का गिना जा रहा था। चेयरमैन एमएसके प्रसाद जिस तरह इन्हें न चुनने का कोई तसल्ली भरा जवाब नहीं दे पाए – उसी तरह और दूसरी टीमों में भी फैसला है, इसका कोई जवाब नहीं की वजह क्या है?

ऑस्ट्रेलिया के चयनकर्ताओं ने चुनी तो विश्व कप की टीम पर उनके जहन में उसके बाद की एशेज सीरीज ज्यादा थी – इसीलिए जोश हेजलवुड को छोड़ दिया। उन्हें एशेज में फिट हेजलवुड की ज्यादा जरूरत है। इस साल जनवरी में ओडीआई टीम में पीटर हेंड्सकांब ने वापसी की थी। तब से 12 पारी में 43.54 औसत से 100 के एक स्कोर और 50 वाले तीन और स्कोर के साथ उन्होंने 479 रन बनाए – इसके बावजूद स्मिथ और उनमें से किसी एक को चुनने के सवाल पर स्मिथ को उनके बड़े नाम की वजह से चुन लिया।

यहां तक कि ऑस्ट्रेलिया ने एशटन टर्नर को भी नहीं चुना। इस साल मार्च में ओडीआई टीम में आए और मोहाली में जो 84* बनाए उन्हें कौन भूल सकता है? मैच का पासा पलट दिया था। ऑस्ट्रेलिया को ऐसे युवा जोश की जरूरत थी। 3 मैच में 145.34 स्ट्राइक रेट से 125 रन कोई खराब शुरूआत तो नहीं।

इंग्लैंड के जोफ्रा आर्चर को पाकिस्तान के विरूद्ध ओडीआई खेलने वाली टीम में तो चुना – विश्व कप की टीम में नहीं। जोफ्रा आर्चर का इंग्लैंड की टीम में चयन पिछले कई महीने से चर्चा में था और बेताबी का आलम ये था कि उन्हें टीम में लाने के लिए इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने अपना क्वालिफिकेशन का नियम तक बदल दिया था।

इसी तरह पाकिस्तान ने तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर को इंग्लैंड के विरूद्ध 5 ओडीआई के लिए तो टीम में चुना – विश्व कप के लिए नहीं। चयनकर्ताओं ने चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में, वह भी इंग्लैंड में, आमिर की सनसनी खेज गेंदबाजी को नजरअंदाज किया और उनके बड़े नाम की जगह हाल के रिकॉर्ड को ध्यान में रखा। उस चैम्पियंस ट्रॉफी फाइनल के बाद से आमिर ने 101 ओवर में 92.60 की महंगी औसत से सिर्फ 5 विकेट लिए हैं। इस दौर में 600 गेंद फैंकने वालों में ये सबसे खराब रिकॉर्ड है।

पिछले एक साल से ओडीआई खेल रहे रीज हेंड्रिक्स को दक्षिण अफ्रीका के चयनकर्ताओं ने बाहर किया। इस साल जनवरी में टीम में आए रेसी वन डर डूसेन की 88.25 की औसत उन पर भारी पड़ी। इन दिनों दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेल रहे क्रिस मौरिस को भी दक्षिण अफ्रीका टीम में जगह नहीं मिली। वे ऑलराउंडर के तौर पर विश्व कप में टीम के काम आते।

सबसे ज्यादा हैरान तो श्रीलंका के चयनकर्ताओं ने किया और इस सोच की धज्जियां उड़ा दीं कि विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट से पहले बहुत ज्यादा उठा पटक नहीं करनी चाहिए। लसिथ मलिंगा को कप्तानी से हटाया और इसके अतिरिक्त निरोशन डिकवेला (विकेटकीपर-बल्लेबाज), अकिला धनंजय (स्पिनर) और धनुष्का गुनातिल्का, उपुल थरंगा और दिनेश चांदीमल (सभी बल्लेबाज) को टीम में नहीं लिया। ये विश्व कप की चिंता के बिना भविष्य की टीम बनाने की कोशिश है।

न्यूजीलैंड में पंत की तरह टिम सेफर्ट का नाम चर्चा में था पर चयनकर्ताओं ने उनके फिट होकर उपलब्ध होने के बावजूद अभी तक एक भी ओडीआई न खेले टॉम ब्लंडेल को चुन लिया।

Leave a comment

Cancel reply