एक आसान सवाल: 2019 में टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन किसने बनाए? इस सवाल के जवाब में विराट कोहली, स्टीव स्मिथ, जो रूट या बेन स्टोक्स जैसे नाम लिए जाएंगे। सच ये है कि टॉप पर इनमें से कोई भी नहीं। हालांकि, अभी 2019 में टेस्ट क्रिकेट बची है और वॉर्नर जैसी 335* की एक पारी कई लिस्ट बदल देगी पर इस समय तक टॉप पर ऑस्ट्रेलिया के वे मार्नस लाबुशेन हैं, जिनका कुछ महीने पहले तक कहीं ज़िक्र तक नहीं था।

इस समय 2019 कैलेंडर साल में, सिर्फ एक बल्लेबाज ने 1000 रन की मंजिल को पार किया है और ये रिकॉर्ड लाबुशेन का है। 10 टेस्ट की 15 पारी में 68.13 औसत से 3 शतक के साथ 1022 रन 56.50 स्ट्राइक रेट से। उनके बाद हैं स्टीव स्मिथ (873), जो रूट (774), बेन स्टोक्स (772), मयंक अग्रवाल (754), रोरी बर्नस (731), डेविड वॉर्नर (646), अजिंक्य रहाणे (642) और विराट कोहली (612)। लोम लेथम, स्मिथ, मयंक अग्रवाल और रोहित शर्मा ने भी 3 शतक बनाए पर लाबुशेन से आगे कोई नहीं है।

सिर्फ 10 साल के अंदर ग्रेड 5 क्रिकेट खेलने वाले लाबुशेन आज टॉप बल्लेबाजों में से एक हैं। ये वही लाबुशेन हैं, जो कुछ महीने पहले तक गाबा, ब्रिसबेन में अंतर्राष्ट्रीय मैचों के दौरान हॉट स्पॉट मशीन चलाते थे, इसलिए ताकि बड़े-बड़े और नामी बल्लेबाजों को नजदीक से खेलते देख सकें।

2019 में पहले 3 टेस्ट में 32.25 औसत से 129 रन बनाए थे। ये रिकॉर्ड उन्हें एशेज के लिए इंग्लैंड जाने वाली टीम में जगह दिलाने में तो कामयाब रहा पर टेस्ट में आखिरी 11 में नहीं। अगर एशेज सीरीज के दूसरे टेस्ट में जोफ्रा आर्चर की गेंद पर स्मिथ को चोट न लगती और कनकशन सब्सटीट्यूट के नए नियम की बदौलत लाबुशेन टीम में न आते तो न जाने 2019 के टेस्ट क्रिकेट का रिकॉर्ड क्या होता? लॉर्ड्स के उस टेस्ट से ही लाबुशेन ने रन बनाने का, जो सिलसिला शुरू किया वह रूका नहीं। उस लॉर्ड्स टेस्ट से पहले की आईसीसी रैंकिंग में वे नंबर 95 बल्लेबाज थे। न्यूजीलैंड के विरूद्ध पर्थ के पहले टेस्ट के बाद वे नंबर 5 बल्लेबाज हैं। लगभग 4 महीने में लाबुशेन ने अपनी रैंकिंग को 90 स्थान सुधार दिया।

लाबुशेन के अक्टूबर 2018 में शुरू हुए टेस्ट करियर को दो हिस्सों में बांटते हैं। पहले हिस्से में जुलाई 2019 तक खेले 5 टेस्ट, जिनमें 26.25 औसत से 50 वाले सिर्फ एक स्कोर के साथ 210 रन बनाए। दूसरे हिस्से में उनके अगले 7 टेस्ट, जिनमें 81.18 औसत से 3 शतक और 50 वाले 5 स्कोर के साथ 893 रन बनाए। 1 अगस्त 2019 से खेली गई टेस्ट क्रिकेट में इतने रन और किसी ने नहीं बनाए हालांकि स्मिथ, कोहली, मयंक अग्रवाल, जो रूट और रोहित शर्मा जैसे बल्लेबाजों का बैट खूब चला इस दौर में।

ऑस्ट्रेलिया की टीम के बारे में विशेषज्ञ कह रहे हैं कि वे फिर से टॉप टीम नजर आ रहे हैं और वे अभी से भारत के विरूद्ध अगले साल की सीरीज की हुंकार भर रहे हैं। इस बदलाव के लिए जिम्मेदार क्रिकेटरों में एक नाम लाबुशेन का भी है। इस ऑस्ट्रेलिया सीजन के लगातार तीनों टेस्ट में शतक बनाए। पाकिस्तान के विरूद्ध ब्रिसबेन और एडिलेड में क्रमशः 185 और 162 तथा न्यूजीलैंड के विरूद्ध पर्थ में 143 रन।

लाबुशेन ने शॉन मार्श और उस्मान ख्वाजा जैसे बल्लेबाजों को तो ऑस्ट्रेलिया की टीम से बाहर किया ही, दक्षिण अफ्रीका के जख्म भी बढ़ा दिए। वे मूलतः दक्षिण अफ्रीका के हैं। जन्म भी वहीं हुआ। ऑस्ट्रेलिया जाने तक सही इंग्लिश भी नहीं बोल पाते थे और तो और उनके करियर में उनकी बल्लेबाजी की तुलना में उनकी लेग स्पिन को ज्यादा भाव मिला। अब वे रन मशीन हैं।

Leave a comment

Cancel reply