मौजूदा समय में विराट कोहली भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान हैं और पिछले कई सालों से वह कप्तान की भूमिका बखूबी संभाल रहे हैं। 31 साल के विराट कोहली अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को कई ऐतिहासिक जीत दिला चुके हैं, जिसमें ऑस्ट्रेलिया की धरती पर पहली बार टेस्ट सीरीज पर कब्जा जमाना भी शामिल है। इस बीच सवाल बड़ा उठता है कि विराट कोहली के बाद कौन सा खिलाड़ी टीम इंडिया के कप्तानी की जिम्मेदारी संभालने के काबिल है। कोहली जिस तरह के बल्लेबाज और कप्तान हैं, ऐसे में उनकी जगह लेना किसी भी खिलाड़ी के लिए बड़ी चुनौती होगा। हालांकि टीम मैनेजमेंट को अभी से ही किसी खिलाड़ी को कप्तान के बैकअप के तौर पर तैयार करने की जरुरत है क्योंकि कोहली 31 साल के हो चुके हैं। 

वैसे तो विराट कोहली की गैरहाजिरी में रोहित शर्मा कई बार टीम की कप्तानी कर चुके हैं लेकिन रोहित की उम्र को देखते हुए टीम इंडिया के भविष्य के कप्तान को तैयार करने के लिए किसी युवा खिलाड़ी पर फोकस करने की जरुरत है। पिछले एक साल में फैंस और क्रिकेट के जानकार केएल राहुल को टीम इंडिया के भविष्य के कप्तान का दावेदार बता चुके हैं लेकिन इस मामले में उन्हें श्रेयस अय्यर से कड़ी चुनौती मिलने की उम्मीद है। कई लोगों का तो ऐसा भी कहना है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज केएल राहुल की तुलना में श्रेयस अय्यर टीम इंडिया के कप्तान की कुर्सी संभालने के ज्यादा काबिल हैं। तो आइए एक नजर डालते हैं उन कारणों पर जो अय्यर को राहुल की तुलना में भविष्य के भारतीय कप्तान बनने का बड़ा दावेदार बनाते हैं।

उम्र का अंतर

कोहली के कप्तानी पद छोड़ने के बाद टीम इंडिया को लंबे समय तक कप्तान की कुर्सी संभालने वाले खिलाड़ी की दरकार होगी। उस समय टीम मैनेजमेंट भी ऐसे खिलाड़ी को प्राथमिकता देगा जो युवा होने के साथ-साथ कप्तानी का भी अनुभवी रखता हो। अय्यर अभी सिर्फ 25 साल के हैं और 2018 से इंडियन प्रीमियर लीग में दिल्ली कैपिटल्स की कप्तानी कर रहे हैं। वहीं, केएल राहुल मौजूदा सीजन से ही पंजाब की कप्तानी की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

दिल्ली की शानदार कप्तानी

श्रेयस अय्यर ने दिल्ली कैपिटल्स टीम की कप्तानी साल 2018 में ऐसे समय में संभाली थी जब टीम गौतम गंभीर जैसे खिलाड़ी की अगुवाई में बेहद खराब दौरे से गुजर रही थी। उस वक्त सीजन के बीच में ही गंभीर से टीम कप्तानी छीनकर युवा श्रेयस अय्यर को सौंप दी गई। अय्यर की कप्तानी में दिल्ली कैपिटल्स की काया ही पलट गई और टीम पिछले सीजन लंबे समय बाद प्लेऑफ तक का सफर तय करने में कामयाब हुई। मौजूदा सीजन में भी दिल्ली की शानदार लय बरकरार है और अपने शुरुआती 5 मैचों में 4 में जीत दर्ज कर चुकी है। दूसरी तरफ IPL 2020 में राहुल की कप्तानी में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम सिर्फ 1 मैच ही जीत सकी है।

रिकी पोंटिंग की कोचिंग

श्रेयस अय्यर को भले ही मुश्किल वक्त में दिल्ली की कप्तानी संभालनी पड़ी हो लेकिन इस समय उनके साथ हैं पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग। दिल्ली के कोच रिकी पोटिंग दुनिया के सर्वकालिक महान कप्तानों में शुमार हैं और उनके कप्तानी दिमाग की खूबी से पूरा क्रिकेट जगत वाकिफ है। ऑस्ट्रेलिया को 2 वर्ल्ड कप जिताने वाले रिकी पोंटिंग जब से दिल्ली की टीम के कोच बने तब से दिल्ली और टीम के कप्तान अय्यर में बड़े स्तर पर सुधार हुआ है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोच पोंटिंग की  गाइडेंस और कप्तानी टिप्स अय्यर के लिए कितना काम आ रही हैं। वहीं, दूसरी तरफ केएल राहुल के पास अनिल कुंबले जैसा कोच है जिनका कोचिंग और खेल का रिकॉर्ड शानदार है लेकिन रिकी पोंटिंग के स्तर का नहीं है।

टीम कॉम्बिनेशन

इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम मुश्किल दौर से गुजर रही है जिसकी एक वजह केएल राहुल और टीम मैनेजमेंट के टीम कॉम्बिनेशन को लेकर किए गए गलत फैसले। वहीं, दिल्ली की टीम ने पिछले 2 सीजन में जिस तरह का टीम काम्बिनेशन तैयार किया है, उससे अंदाजा लगया जा सकता है कि कप्तान अय्यर और कोच पोंटिंग के बीच कितना बेहतरीन तालमेल हैं।

Leave a comment