Jaydev Unadkat
सौराष्ट्र के तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट ने खुद के इस दौरे पर मौका नहीं मिलने पर निराशा जताई है।

भारतीय क्रिकेट टीम अगले महीने इंग्लैंड दौरे पर रवाना होगी, जहां पर वे न्‍यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला और इंग्लैंड के विरुद्ध पांच मुकाबलों की टेस्ट सीरीज खेलेगी। इस दौरे के लिए टीम इंडिया का ऐलान हो चुका है और कई अनुभवी और युवा खिलाड़ियों को मौका मिला है। इसी बीच सौराष्ट्र के तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट ने खुद के इस दौरे पर मौका नहीं मिलने पर निराशा जताई है।

जयदेव उनादकट ने स्पोर्ट्सस्टार से बातचीत करते हुए कहा, “मैं इस वक्त अपने पीक पर हूं और मुझे इंडियन टीम में चुने जाने की उम्मीद थी। जिस तरह की परफॉर्मेंस मैंने दी थी लगा था कि मुझे कॉल जरुर आएगा। हालांकि, ज्यादा सीरीज नहीं होने की वजह से मौके कम हो गए थे, लेकिन अब हर सीरीज के लिए ज्यादा प्लेयर्स का चयन होता है तो फिर मौका मिलने के आसार भी ज्यादा बढ़ गए। ये अपने आप में एक तरह का मौका है।”

29 साल के बाएं हाथ के पेसर ने आगे कहा, “इसके बावजूद मेरा सेलेक्शन नहीं हुआ जो काफी निराशाजनक है, लेकिन मेरा जो काम है वो मैं करता रहुंगा। मैं अपने पीक को आसानी से जाने नहीं दूंगा। इतने जबरदस्त परफॉर्मेंस के बावजूद अगर मुझे मौका नहीं मिला तो ये मेरे ऊपर है कि अपने आपको मोटिवेट करते हुए कैसे उसी तरह का प्रदर्शन एक बार फिर करुं। मैं रणजी ट्रॉफी में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाला गेंदबाज था, लेकिन उसके बाद कुछ नहीं हुआ।”

कोरोना वायरस महामारी के कारण आखिरी बार रणजी ट्रॉफी का आयोजन 2019-20 में हुआ था और उस सीजन जयदेव उनादकट ने शानदार प्रदर्शन था। उन्होंने अपनी कप्तानी में सौराष्ट्र को रणजी ट्रॉफी का खिताब दिलाया था। उनादकट ने उस सीजन सबसे ज्यादा विकेट लिए थे। उन्होंने 10 मुकाबलों में 13.23 के औसत से 67 विकेट चटकाए थे।

Leave a comment