बीसीसीआई के रंगारंग टी20 टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें संस्करण में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा है. सीएसके ने अभी तक 7 मैचों में से 2 में जीत, जबकि 5 में हार का सामना किया है. इतना ही नहीं तालिका में चेन्नई 2 अंकों के साथ सातवें पायदान पर है.

हालांकि, सीएसके को कई मुकाबलों में नज़दीकी हार का सामना करना पड़ा है. ऐसे में धोनी की टीम का प्ले-ऑफ में पहुंचा बहुत कठिन नज़र आ रहा है. बहरहाल, हम जानेंगे कि चेन्नई सुपर किंग्स किन कारणों के चलते प्ले-ऑफ में जगह नहीं बना पाएगी – 

1. कमज़ोर मध्यक्रम – मौजूदा आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स का मध्य क्रम बेहद कमज़ोर नज़र आ रहा है. मालूम हो कि सीएसके के दिग्गज बल्लेबाज सुरेश रैना ने निजी कारणों के चलते आईपीएल 13 से अपना नाम वापस ले लिया था, जिसके बाद रैना की कमी साफ़ खलती दिखाई दे रही है. हालांकि, टीम मैनेजमेंट ने मिडिल ऑर्डर में कई खिलाड़ियों को मौका दिया है, लेकिन वे अभी तक उस कसौटी पर खरे नहीं उतर पाए हैं. अगर नज़र डालें तो सिर्फ अंबाती रायूडु ही चेन्नई के मध्य क्रम को मजबूती प्रदान कर रहे हैं. उनके अलावा कोई भी बल्लेबाज अपना जलवा नहीं दिखा पाया है  

2. टीम में हैं कई वरिष्ठ खिलाड़ी – चेन्नई सुपर किंग्स की टीम में 16 खिलाड़ी 35 से ज्यादा की उम्र के हैं. इस टीम की औसत उम्र 31 साल है, जो कि आईपीएल में सबसे ज्यादा है. ऐसे में संयुक्त अरब अमीरात की गर्मी अच्छी फिटनेस वाले खिलाड़ियों के लिए भी मुश्किल पैदा कर सकती है. अब चेन्नई के खिलाड़ी तो काफी ज्यादा उम्र के हैं. इस कड़ी में उनकी फिटनेस अगर जरा भी ऊपर-नीचे हुई तो फ्रेंचाइजी को और बड़ा नुकसान हो सकता है. गजब की बात तो ये है कि इस टीम में दूसरों की तरह बड़े-बड़े हिटर नहीं है. यहां तक कि इस टीम में ज्यादा युवा खिलाड़ी भी नहीं हैं. 

3. पॉवर-प्ले में शर्मनाक रिकॉर्ड – चेन्नई सुपरकिंग्स की एक और सबसे बड़ी कमी पॉवर प्ले में उसकी बल्लेबाजी है. मालूम हो कि आईपीएल 2019 में पॉवर प्ले के दौरान चेन्नई सुपर किंग्स का प्रदर्शन बेहद ही शर्मनाक रहा था. इस दौरान सीएसके ने सबसे ज्यादा 30 विकेट गंवाए थे. यही नहीं पावर प्ले में उसका रन रेट सिर्फ 6.44 रहा था.

4. बल्लेबाजों की कमी – चेन्नई सुपर किंग्स ने पिछले साल आईपीएल 2020 की नीलामी के दौरान बल्लेबाजों के मुकाबले गेंदबाजों को ज्यादा तवज्जो दी थी, जिसके चलते उन्हें इस बार बल्लेबाजों की खासी कमी खल रही है. फ्रेंचाइजी ने पीयूष चावला, जोश हेजलवुड, सैम करन और साईं किशोर जैसे गेंदबाजों को अपनी टीम में शामिल किया था. चेन्नई सुपर किंग्स ने इन खिलाड़ियों की खरीदारी भारतीय पिचों के मुताबिक की थी, लेकिन अब टूर्नामेंट यूएई में खेला जा रहा है, जहां चेन्नई को अच्छे बल्लेबाजों की कमी खल रही है. 

Leave a comment