team india
भारतीय तेज गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में शानदार प्रदर्शन करते हुए टीम की जीत की इमरात रखी थी।

भारतीय टेस्ट टीम के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 2020-21 में टीम के तेज गेंदबाजों और युवा खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया दी है। पुजारा ने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध चार मुकाबलों की टेस्ट सीरीज में युवा खिलाड़ियों के खेल की प्रशंसा की है।

भारतीय तेज गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में शानदार प्रदर्शन करते हुए टीम की जीत की इमरात रखी थी। वहीं, न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले जा रहे आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में टीम इंडिया के पेसर्स असरदार साबित नहीं हुए हैं। इस पर सोमवार को पूर्व कीवी क्रिकेटर साइमन डूल ने कहा था कि भारतीय टीम को प्रैक्टिस करने का ज्यादा मौका नहीं मिला।

पुजारा ने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध गाबा टेस्ट को सबसे यादगार मुकाबलों में से एक बताया है। आईसीसी ने मंगलवार को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो साझा किया है, जिसमें चेतेश्वर पुजारा अपने यादगार टेस्ट मुकाबलों और सीरीज के बारे में बात कर रहे हैं। 33 साल के दाएं हाथ के बल्लेबाज ने वीडियो में कहा, “यह सबसे यादगार टेस्ट मुकाबलों और श्रृंखलाओं में से एक है, जिसका मैं हिस्सा रहा हूं। हम सब को बहुत चोटें लगीं थीं और हम एक टीम के तौर पर अपने सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों के लिए संघर्ष कर रहे थे।”

यह भी पढ़ें | अगर UK में पैदा हुआ होता तो अब तक जिंदा नहीं होता – माइकल होल्डिंग

पुजारा ने आगे कहा, “ऑस्ट्रेलिया को चुनौती देने के लिए सभी खिलाड़ी तैयार थे खासतौर पर युवा। हम एक टीम के रूप में खेले, लेकिन मुझे लगता है कि हमारी गेंदबाजी उल्लेखनीय थी।”

उन्होंने आगे कहा, “मैंने हाल ही में एक चीज सीखी है कि स्विच ऑफ करना खेल का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है ताकि जब आप वापस आएं तो आप नए सिरे से वापस आएं। हां, मुझे बल्लेबाजी करना पसंद है, लेकिन मेरा मानना है कि कभी-कभी खेल से ब्रेक लेना भी बहुत महत्वपूर्ण होता है।”

बहरहाल, चेतेश्वर पुजारा इस समय न्यूजीलैंड के खिलाफ साउथेम्प्टन के रोज बाउल मैदान पर खेले जा रहे आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के लिए भारतीय टीम का हिस्सा हैं। डब्ल्यूटीसी फाइनल का पहला दिन बारिश के चलते रद्द हो गया था, जिसके बाद भारत ने दूसरे दिन बल्लेबाजी करते हुए 217 रन बनाए और इसके जवाब में कीवी टीम ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 2 विकेट के नुकसान पर 101 रन बनाए थे। हालांकि, इस मुकाबले का चौथा दिन भी बारिश के कारण रद्द हो गया।