भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर युवराज सिंह ने भारत-पाकिस्तान द्विपक्षीय सीरीज का समर्थन किया है. युवराज चाहते हैं कि दोनों देश आपसी समझौते के बाद द्विपक्षीय सीरीज खेलें. गौरतलब है कि दोनों देश 2012 के बाद से एक-दूसरे के देश में जाकर नहीं खेले हैं. भारत और पाकिस्तान सिर्फ आईसीसी और एसीसी टूर्नामेंट्स में ही खेलते दिखते हैं.

उन्होंने कहा, "जब मैंने खेलना शुरू किया था, 2003 में वर्ल्ड कप में मैंने पहली बार पाकिस्तान के खिलाफ खेला. तब एनर्जी और लेवल कुछ अलग ही था. 2004, 2006, 2008 में इंडिया पाकिस्तान में गई. पाकिस्तान भारत आया. उस दौरान कुछ लाजवाब मुकाबले खेले गए. भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट की जंग का कोई सानी नहीं है. अगर आगे दोनों देशों के बीच क्रिकेट खेला जाता है, तो बहुत मजा आएगा."

मालूम हो कि इससे पहले पाकिस्तानी टीम के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर शाहिद अफरीदी ने भी दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सीरीज का समर्थन किया था. उन्होंने कहा था, "पाकिस्तान में पीएसएल खेला गया, जो पूरी दुनिया के लिए एक अच्छा संदेश है. बांग्लादेश ने भी द्विपक्षीय सीरीज के लिए यहां का दौरा किया है और यह दर्शाता है कि हमारे देश में सुरक्षा स्थिति काफी मजबूत है. मैं चाहता हूं कि भारत भी द्विपक्षीय सीरीज के लिए पाकिस्तान का दौरा करे."

पूर्व दिग्गज ने कहा था, "मैं समझता हूं कि एशिया कप में भारत और पाकिस्तान दोनों ही देश शामिल होंगे. यही समय है कि भारत-पाक को बिना किसी तीसरे देश के हस्तक्षेप के अपने आपसी मामलों को सुलझाना चाहिए. बीसीसीआई और पीसीबी को आपस में बात करनी चाहिए और समस्याओं का हल करना चाहिए."

Leave a comment