पिछले कई सालों से भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के साथ कोई भी द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेल रहे हैं।

पिछले कई सालों से भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के साथ कोई भी द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेल रहे हैं। दोनों टीम्स ने आखिरी बार द्विपक्षीय सीरीज साल 2012-13 में खेली थी। दरअसल, दोनों देशों के बीच राजनीतिक रिश्ते खराब हैं, जिसका असर क्रिकेट पर भी पड़ा है। अब पाकिस्तानी तेज गेंदबाज जुनैद खान ने दोनों टीम्स के बीच क्रिकेट खेले जाने को लेकर बड़ा बयान दिया है।

31 साल के बाएं हाथ के पेसर ने क्रिकेट पाकिस्तान से बातचीत करते हुए कहा, “अगर आप बड़े मुकाबलों का दबाव झेलना चाहते हैं और खुद को निखारना चाहते हैं तो आप भारत के खिलाफ खेलें। दोनों टीम्स पर एक तरह का ही दबाव होता है। मुझे लगता है कि इन दोनों देशों के बीच हमेशा मैच होते रहने चाहिए, लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए, मुझे नहीं लगता कि ऐसा हो पाएगा।”

जुनैद खान ने आगे कहा, “जब मैं 2012-13 के भारत दौरे पर आया, मैंने यहां काफी कुछ सीखा। मैंने सीखा कि दबाव को कैसे झेलना है। अगर भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट फिर से शुरू होती है तो दोनों मुल्कों के लोगों को खुशी होगी।”

यह भी पढ़ें | शादाब खान को भी हार्दिक पांड्या जैसी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करनी चाहिए – पाकिस्तानी बल्लेबाज

पाकिस्तानी सीमर का भारत के विरुद्ध रिकॉर्ड शानदार है। जुनैद खान ने टीम इंडिया के खिलाफ 6 मुकाबले खेलते हुए 20.44 के औसत से 9 विकेट चटकाए हैं। इसमें से 8 विकेट तो उन्होंने 2012-13 की सीरीज के दौरान लिए थे और उस सीरीज में उनका 12.37 का शानदार औसत था। पाकिस्तान ने उस सीरीज में भारत को गेंदबाजों के दम पर 2-1 से पराजित किया था। वे उस पाकिस्तानी टीम का भी हिस्सा थे, जिसने आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में भारत को हराया था।

जुनैद खान ने अब तक 76 एकदिवसीय मुकाबलों में 29.23 के औसत से 110 विकेट चटकाए हैं। इस समय बाबर आजम की कप्तानी वाली पाकिस्तान टीम इंग्लैंड के दौरे पर, जिसमें वे मेजबान के विरुद्ध तीन मुकाबलों की वनडे सीरीज के पहले दो मैच में पराजित हो चुकी है। पाक टीम ने दोनों मुकबलों में निराशाजनक प्रदर्शन किया है, जिसके चलते जुनैद खान ने यह बयान दिया है।