सौरव गांगुली नहीं होते तो मैं कभी इतना बड़ा क्रिकेटर नहीं बन पाता - सहवाग

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में गिना जाता है. भारत के लिए टेस्ट में दो तिहरे शतक जड़ने वाले इस इकलौते बल्लेबाज ने हाल ही में बड़ा बयान दिया है. सहवाग ने कहा कि अगर उन्हें ज्यादा मौके नहीं मिले होते तो वे इतने सफल क्रिकेटर कभी नहीं बन पाते.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सहवाग ने, जब टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था तब सौरव गांगुली टीम इंडिया के कप्तान थे. उन्होंने 3 नवंबर 2001 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ब्लोमफोंटेन में खेले गए टेस्ट मैच से लाल गेंद वाले अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था.

वीरू ने इस बात का खुलासा बंगाल के लोकप्रिय टीवी शो दादागिरी अनलिमिटेड के विशेष शो ‘दादा तुम्हे सलाम’ में किया. इस शो की मेजबानी सौरव गांगुली ही कर रहे थे.

सहवाग ने कहा, “साल 1999 से लेकर 2000 तक मैंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला और रन बनाए और जब मैं वापस आया तो मेरे कप्तान सौरव गांगुली थे और उन्होंने ही मेरा चयन किया था. दिसंबर 2000 में जिम्बाब्वे के खिलाफ और उन्होंने मुझे बहुत मौके भी दिए.”

उन्होंने आगे कहा, “15-20 इनिंग में तो रन ही नहीं बने बावजूद इसके उन्होंने मुझे सपॉर्ट किया. इसका सारा श्रेय गांगुली को जाता है, जिन्होंने मुझे इतने मौके दिए. मुझे लगता है कि अगर इतने मौके नहीं मिलते तो शायद इतना बड़ा प्लेयर भी नहीं मिलता.”

Leave a comment