sehwag sachin dravid
मैं कभी सहवाग और सचिन, जैसा बल्लेबाज नहीं बन पाया - द्रविड़

टीम इंडिया (India) के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने बड़ा खुलासा किया है. उनका कहना है कि वे कभी वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) या सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) की तरह खुलकर खेलने वाले नहीं बन पाए, लेकिन उन्होंने अपनी सीमा तय की और अपने दौर के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों से लड़ने का अपना तरीका खोजा.

भारत के पहले ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा के पॉडकास्ट ‘इन द जोन’ पर राहुल द्रविड़ ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो मैं वीरू (वीरेंद्र सहवाग), जैसा कभी नहीं बनने वाला था. उन्हें अपने व्यक्तित्व के कारण स्विच ऑफ करना बहुत आसान लगा. मैं उस स्तर तक कभी नहीं पहुंचने वाला था. मुझे एहसास हुआ कि कब मैं बहुत तीव्र हो रहा था. मुझे पता था कि मुझे इसे बंद करने का एक तरीका खोजने की जरूरत है, लेकिन यह उस चीज का मानसिक पक्ष था, जिसे आपको खुद की मदद करने की आवश्यकता थी.”

उन्होंने आगे कहा, “जैसे-जैसे मेरा करियर आगे बढ़ा, मुझे एहसास हुआ, मैं कभी भी ऐसा नहीं बनने वाला था, जो सहवाग की तरह जल्दी स्कोरिंग करेगा या शायद सचिन की तरह एक हद तक. मुझे हमेशा धैर्य की आवश्यकता थी. मुझे मेरे और गेंदबाज के बीच की प्रतियोगिता पसंद थी. मैंने इसे आमने-सामने की प्रतियोगिता बनाने की कोशिश की. मैंने पाया कि इससे मुझे थोड़ा और ध्यान केंद्रित करने में मदद मिली.”

बता दें कि द्रविड़ को टेस्ट क्रिकेट के विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में जाना जाता है, जबकि सहवाग अपनी आक्रामक बल्लेबाजी शैली के लिए जाने जाते हैं. वहीं, सचिन के पास दोनों तरह से बैटिंग करने में महारथ हासिल है.

यह भी पढ़ें – क्या ऋषभ पंत चल पड़े हैं अपने आइडल एडम गिलक्रिस्ट की राह पर?

Q. राहुल द्रविड़ कितने साल के हैं?

A. 49

Leave a comment

Cancel reply