dravid shashtri crictoday
क्या द्रविड़ को भविष्य में टीम इंडिया का हेड कोच बना देना चाहिए? राहुल ने खुद दिया जवाब.

विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम इंडिया को अगले महीने इंग्लैंड के दौरे पर जाना है, जहां विराट सेना न्यूजीलैंड के खिलाफ आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप 2021 का फाइनल खेलेगी. इसके बाद मेहमानों को इंग्लिश टीम के विरुद्ध पांच मुकाबलों की टेस्ट सीरीज भी खेलनी है.

वहीं, दूसरी तरफ श्रीलंका का दौरा करने के लिए भारत का दूसरा दस्ता जाएगा, जिसमें कई युवा खिलाड़ी शामिल होंगे. इस दौरे पर नीली जर्सी वाली टीम मेजबानों के खिलाफ तीन मैचों की एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और इतने ही मुकाबलों की टी20 सीरीज खेलेगी. इस दौरे पर भारतीय टीम के मुख्य कोच, पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ होंगे तो उस समय दूसरी ओर मेजबान टीम के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए इंग्लैंड में विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम के साथ रवि शास्त्री होंगे.

ऐसा पहली बार होगा, जब राहुल द्रविड़ मुख्य कोच के रूप में सीनियर टीम की कमान संभालेंगे. अब सवाल यह उठता है कि राहुल द्रविड़ का टीम इंडिया का मुख्य कोच बनना कहीं रवि शास्त्री के लिए ख़तरे की घंटी तो नहीं है? इस सवाल का जवाब तलाशने के लिए हमें अनुसंधान करना होगा. तो आइये नज़र डालते हैं उन 5 मुख्य कारणों पर, जो दर्शाते हैं कि द्रविड़ का मुख्य हेड कोच बनना शास्त्री के लिए ख़तरे की घंटी से कम नहीं है. देखिए:

  1. आईसीसी अंडर-19 विश्व कप 2018 में टीम इंडिया को बनाया चैंपियन

भारतीय टीम की ‘द वॉल’ के नाम से प्रख्यात राहुल द्रविड़ की सबसे बड़ी उपलब्धि साल 2018 में आईसीसी अंडर-19 विश्व कप के दौरान आई थी. इस दौरान द्रविड़ टीम इंडिया के मुख्य कोच थे. भारत ने स्टार बल्लेबाज पृथ्वी शॉ की कप्तानी में इस विश्व कप को अपने कब्ज़े में लिया था. ऑस्ट्रेलिया में खेले गए इस अंडर-19 वर्ल्ड कप में भारत ने मेजबान ऑस्ट्रेलिया, जिम्बाब्वे और बांग्लादेश को लीग स्टेज में शिकस्त देने के बाद सेमीफाइनल मुकाबले में पाकिस्तान को पटखनी दी थी. इसके बाद भारत ने फाइनल में कंगारुओं को हराकर टूर्नामेंट के खिताब पर कब्जा जमाया था. द्रविड़ के मार्गदर्शन में टीम इंडिया अंडर-19 चैंपियन बनी थी.

  1. 2016 आईसीसी अंडर-19 विश्व कप में इंडिया रही रनर्स-अप

पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ की कोचिंग में 2016 आईसीसी अंडर-19 विश्व कप में भारतीय टीम रनर्स अप रही थी. इस दौरान स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन भारतीय टीम के कप्तान थे. ईशान किशन की अगुवाई वाली टीम ने लीग स्टेज में आयरलैंड, न्यूजीलैंड और नेपाल के खिलाफ जीत के साथ शानदार शुरुआत की थी. हालांकि, भारत ने क्वार्टर फाइनल में नामीबिया को हराने के बाद सेमीफाइनल में श्रीलंका को हराया था. इसके बाद टीम इंडिया को फाइनल में वेस्टइंडीज के हाथों पांच विकेट से हार का सामना करना पड़ा था. पहले प्रयास में विफल होने के बाद द्रविड़ ने अपने मार्गदर्शन में साल 2018 में अपनी टीम को चैंपियन बनाया था.

  1. टीम इंडिया के लिए तराश रहे कई ‘हीरे’

दाएं हाथ के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ मौजूदा समय में नेशनल क्रिकेट अकादमी के प्रमुख हैं. उन्होंने अपनी कोचिंग में भारतीय क्रिकेट को कई बेहतरीन खिलाड़ी दिए हैं. उनमें मयंक अग्रवाल, ऋषभ पंत, हनुमा विहारी, पृथ्वी शॉ, शुभमन गिल, शिवम मावी, ईशान किशन आदि जैसे स्टार खिलाड़ी शामिल हैं. सच तो यह है कि राहुल द्रविड़ को कई युवाओं के ए टीम से सीनियर राष्ट्रीय टीम में आसानी से जाने में मदद करने का श्रेय भी दिया जाता है. बीसीसीआई के एक आला अधिकारी ने द्रविड़ को लेकर कहा था, “यह सबसे अच्छा है कि युवा टीम को द्रविड़ द्वारा निर्देशित किया जाए, क्योंकि वह पहले ही लगभग सभी भारत ‘ए’ के लड़कों के साथ काम कर चुके हैं. युवा खिलाड़ियों के साथ उनका बढ़िया तालमेल रहा है, जिससे कि टीम को अतिरिक्त लाभ होगा.” याद हो कि 2019 में एनसीए के प्रमुख के रूप में कार्यभार संभालने से पहले, द्रविड़ ने अंडर-19 स्तर के साथ-साथ भारत ‘ए’ टीम में वर्तमान युवाओं के साथ मिलकर कोच के रूप में शानदार भूमिका निभाई थी.

  1. टीम इंडिया ने 2013 से अब तक नहीं जीता है कोई भी आईसीसी खिताब

भारतीय क्रिकेट टीम ने आखिरी बार साल 2013 में आईसीसी के किसी टूर्नामेंट पर कब्ज़ा जमाया था. दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने इंग्लैंड में आयोजित हुई आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी को अपने कब्ज़े में लिया था. इसके बाद अभी तक टीम इंडिया आईसीसी के मेजर टूर्नामेंट्स में निर्णायक मुकाबले हारती आ रही है. 2013 के बाद से भारत को 2015 और 2019 विश्व कप में सेमीफाइनल में हार मिली थी. इतना ही नहीं भारत 2014 आईसीसी टी20 विश्व कप में फाइनल में हारा था, जबकि 2016 टी20 वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल में शिकस्त झेलनी पड़ी थी. यहां तक कि 2017 आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में भी भारत फाइनल में हार गया था.

  1. अगर श्रीलंका में वनडे सीरीज जीते तो रवि शास्त्री का क्या होगा?

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर रवि शास्त्री को 11 जुलाई 2017 को टीम इंडिया का मुख्य कोच नियुक्त किया गया था. हालांकि, इससे पहले वे टीम 2014 से 2016 तक टीम के डायरेक्टर के रूप में काम कर चुके हैं. वहीं, राहुल द्रविड़ को पहली बार भारत की सीनियर राष्ट्रीय टीम का कोच बनाया गया है. अब अगर द्रविड़ के कोचिंग रिकॉर्ड को देखा जाए तो वे बहुत शानदार है, जैसा कि ऊपर ज़िक्र किया गया है. ऐसा नहीं है कि रवि शास्त्री का कोचिंग रिकॉर्ड खराब है. बता दें कि उनकी कोचिंग में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट में पटखनी देकर इतिहास रचा था.

शास्त्री के मार्गदर्शन में विराट सेना के द्विपक्षीय सीरीज में आंकड़े काफी शानदार हैं, लेकिन यहां बात आईसीसी के मेजर टूर्नामेंट्स की हो रही है. मालूम हो कि इस साल आईसीसी टी20 विश्व कप का आयोजन होने वाला है और ऐसे में अगर टीम इंडिया के पिछले 8 साल के रिकॉर्ड पर नज़र डालें तो वे आईसीसी के मुख्य टूर्नामेंट्स में ‘चोकर्स’ साबित हुए हैं. इस बीच अगर भारतीय टीम श्रीलंका में लिमिटेड ओवर्स सीरीज में जीत हासिल करती है तो इसमें कोई दो राय नहीं है कि द्रविड़ को आईसीसी टी20 विश्व कप 2021 के लिए टीम इंडिया का मुख्य कोच भी बनाया जा सकता है. हालांकि, ये तो बोर्ड पर निर्भर करता है.

Leave a comment

Cancel reply