टीम इंडिया को 4 अगस्त से पांच मुकाबलों की टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड के खिलाफ भिड़ना हैं.

विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय क्रिकेट टीम को अगले महीने इंग्लैंड के खिलाफ पांच मुकाबलों की टेस्ट सीरीज खेलनी है. सीरीज का पहला मैच 4 अगस्त से नॉटिंघम के ट्रेंट ब्रिज में खेला जाएगा. इससे पहले दोनों ही टीम्स अपनी-अपनी तैयारियों में जुट गई हैं. मालूम हो कि टीम इंडिया को हाल ही में आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में न्यूजीलैंड के विरुद्ध 8 विकेट से हार मिली थी, जिसे भुलाकर अब विराट सेना आगे के क्रिकेट पर ध्यान देने की कोशिश करेगी. बता दें कि इंग्लैंड की धरती पर टेस्ट में भारतीय टीम का प्रदर्शन बेहद खराब रहा है.

इंग्लैंड में टीम इंडिया का टेस्ट में प्रदर्शन इस प्रकार है:

मैच – 63
जीत – 7
हार – 35
ड्रॉ – 21

अब सवाल यह उठता है कि इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीतने के लिए मेहमान टीम को किन-किन पॉइंट्स पर ध्यान देने की ज़रूरत है.

आज हम ऐसे 5 पॉइंट्स पर नज़र डालेंगे, जो भारतीय टीम को इंग्लैंड के विरुद्ध टेस्ट सीरीज जीतने के लिए करने चाहिएं. देखिए:

ओपनर्स को दिलानी होगी संभली हुई शुरुआत

ओपनर्स को दिलानी होगी संभली हुई शुरुआत

आगामी सीरीज के हर टेस्ट मैच में भारतीय ओपनर्स को संभलकर बल्लेबाजी करनी होगी, जिससे कि मेहमानों को अच्छी और ठोस शुरुआत मिल सके. हालांकि, शुभमन गिल को चोट लगने के बाद अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि उनकी जगह ओपनिंग कौन करेगा. वहीं, रोहित शर्मा एक बार फिर पारी की शुरुआत करने के लिए पूरी तरह से उत्साहित हैं, लेकिन उनके साथी के नाम पर अभी तक कोई फैसला नहीं आ पाया है. ऐसे में हिटमैन के ज़्यादा अनुभवी होने की वजह से उनके रन बनाने की ज़िम्मेदारी बढ़ना जायज़ है. उन्हें रन बनाने के साथ-साथ अपने साथी ओपनर को भी गाइड करना होगा और बड़ी साझेदारी बनाने पर ध्यान देना होगा.

विराट कोहली को दोहराना होगा ज़बरदस्त प्रदर्शन

विराट कोहली को दोहराना होगा ज़बरदस्त प्रदर्शन

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली 14 अगस्त 2019 से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में एक भी शतक नहीं लगा पाए हैं. कोहली ने आखिरी शतक वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए एकदिवसीय मुकाबले में लगाया था. इस दौरान उन्होंने 114* रन की नाबाद पारी खेली थी. कोहली ने साल 2008 से 2019 के बीच इंटरनेशनल क्रिकेट में 70 शतक ठोंके, लेकिन पिछले 23 महीनों से उनका बल्ला तीन अंक वाले नंबर से दूर है. कोहली को इंग्लैंड के विरुद्ध अपनी ज़िम्मेदारी को समझते हुए पुराने प्रदर्शन को दोहराने का प्रयास करना होगा. दुनिया जानती है कि उनमें ज़बरदस्त वापसी करने की काबिलियत है.

चेतेश्वर पुजारा को स्ट्राइक रोटेट और तेज गति से रन बनाने पर देना होगा ध्यान

चेतेश्वर पुजारा को स्ट्राइक रोटेट और तेज गति से रन बनाने पर देना होगा ध्यान

दाएं हाथ के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को टीम इंडिया की न्यूवॉल के नाम से जाना जाता है. पुजारा न्यूजीलैंड के विरुद्ध आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में अपनी धीमी बल्लेबाजी को लेकर सुर्ख़ियों में आ गए थे. उन्होंने 54 गेंदों का सामना करते हुए सिर्फ 8 रन बनाए थे. उनकी इस पारी में सिर्फ 2 चौके शामिल थे यानी टीम इंडिया की न्यू वॉल ने एक भी रन दौड़कर नहीं बनाया.

वहीं, पुजारा के स्ट्राइक रोटेट नहीं करने को लेकर दक्षिण अफ्रीकी टीम के दिग्गज तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने सवाल खड़े किए थे. उन्होंने कहा था कि ऐसी कई गेंदें थीं, जिनपर पुजारा स्ट्राइक रोटेट कर सकते थे. टेस्ट में धीमे स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करने के लिए पुजारा की खूब आलोचना की जाती है. ऐसे में अगर भारतीय टीम को अंग्रेजों के खिलाफ टेस्ट में बड़ा स्कोर खड़ा करना है तो पुजारा को स्ट्राइक रोटेट करके बल्लेबाजी करनी होगी. साथ ही उन्हें तेज रन बनाने पर भी ध्यान देना होगा. उन्हें इस बात से भी अवगत रहना होगा कि उनकी धीमी बल्लेबाजी की वजह से दूसरे बल्लेबाजों पर दबाव न बन सके.

तेज गेंदबाजों को करनी होगी शानदार गेंदबाजी

तेज गेंदबाजों को करनी होगी शानदार गेंदबाजी

सभी जानते हैं कि इंग्लैंड की परिस्थितियां स्पिन गेंदबाजों के अनुकूल नहीं, बल्कि तेज गेंदबाजों के अनुरूप होती है. ऐसे में भारतीय पेसर्स को कोशिश करनी होगी कि वे विपक्षी टीम से बेहतर गेंदबाजी करें. साथ ही साथ टीम मैनेजमेंट को यह भी ध्यान में रखना होगी कि किस पेसर को यहां सबसे अच्छी स्विंग मिलेगी. उन्हें मौके को देखते हुए अपने सबसे अच्छे तेज गेंदबाजों का चयन करना होगा.

शानदार प्लेइंग इलेवन का चयन

शानदार प्लेइंग इलेवन का चयन

इंग्लैंड के विरुद्ध टेस्ट सीरीज में भारतीय चयनकर्ताओं को शानदार प्लेइंग इलेवन का चयन करने की ज़रुरत होगी. ऐसी अंतिम एकादश, जो संतुलित हो. इसमें कोई शक नहीं है कि भारत एक मजबूत टीम है, लेकिन इंग्लैंड को उन्ही की सरज़मी पर पराजित करना बेहद कठिन है, इसलिए अगर मेजबानों के खिलाफ भारत की संतुलित टीम का चयन नहीं होता है तो फिर नजारा कुछ और ही होगा.

इंग्लैंड बनाम भारत 2021 टेस्ट सीरीज का पूर्ण कार्यक्रम:

4 से 8 अगस्त, पहला टेस्ट मैच, ट्रेंट ब्रिज, नॉटिंघमशर

12 से 16 अगस्त, दूसरा टेस्ट मैच, लॉर्ड्स, लंदन

25 से 29 अगस्त, तीसरा टेस्ट मैच, हेडिंग्ले, लीड्स

2 से 6 सितंबर, चौथा टेस्ट मैच, केनिंग्टन ओवल, लंदन

10 से14 सितंबर, पांचवां टेस्ट, एमिरेट्स ओल्ड ट्रैफर्ड, मैनचेस्टर

Leave a comment