ross taylor
न्यूजीलैंड टीम में रॉस टेलर के साथ होता था नस्लीय भेदभाव, कीवी दिग्गज ने किया बड़ा खुलासा

इस साल अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले न्यूज़ीलैंड (New Zealand) के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज रॉस टेलर (Ross Taylor) ने अपनी बायोग्राफी ‘रॉस टेलर ब्लैक एंड वाइट’ में न्यूजीलैंड क्रिकेट में नस्लवाद के बारे में खुलासा किया है. हालांकि, टेलर ने कहा कि उनके देश में क्रिकेट एक साफ़ सुथरा खेल है, लेकिन उन्होंने ड्रेसिंग रूम के अंदर नस्लवाद का अनुभव किया. साथ ही कीवी बैटर ने कहा कि कुछ लोग उन्हें भारतीय मानते थे.

38 साल के रॉस टेलर ने कहा, “न्यूजीलैंड में क्रिकेट को अच्छा खेल माना जाता है. अपने अधिकांश करियर में मैं एक अलग खिलाड़ी रहा हूं. कई बार होता था, जब मैं खराब शॉट खेलता था तो उसको लेकर बहुत ही गंदे शब्दों का इस्तेमाल किया जाता था. हालांकि, उसी तरह के शॉट को लेकर टीम के बाकी बल्लेबाजों के लिए ऐसा कुछ नहीं कहा जाता था.”

उन्होंने आगे कहा, “खराब शॉट खेलने पर मेरे लिए अभद्र शब्दों का इस्तेमाल किया जाता था, जबकि वही शॉट कोई और खेलता तो उसको खराब शॉट सेलेक्शन कहा जाता था.”

कीवी खिलाड़ी ने कहा, “यह शायद कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि लोग कभी-कभी यह मान लेते हैं कि मैं माओरी या भारतीय हूं. टीम के एक साथी ने एक बार मुझसे कहा था कि रॉस, तुम आधे अच्छे आदमी हो, लेकिन कौन सा आधा अच्छा है? ये बात आपको नहीं पता.”

यह भी पढ़ें – ज़िम्बाबवे के विरुद्ध वनडे सीरीज के लिए टीम इंडिया में हुआ बड़ा बदलाव, धवन नहीं अब राहुल करेंगे कप्तानी

Q. रॉस टेलर कितने साल के हैं?

A. 38

Leave a comment

Cancel reply