Eoin Morgan - Ravichandran Ashwin
IPL 2021: रविचंद्रन अश्विन ने ओईन मोर्गन के खिलाफ खोला मोर्चा, दिया करारा जवाब

दिल्ली कैपिटल्स के दिग्गज स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने केकेआर के कप्तान ओईन मोर्गन के साथ अपने झगड़े को लेकर चुप्पी तोड़ते हुए उन सभी लोगों पर निशाना साधा है, जिन्होंने उनकी खेल भावना पर सवाल खड़ा किया था। मंगलवार को कोलकाता नाइट राइडर्स के विरुद्ध मैच के दौरान एक ओवर में ओवर थ्रो पर अश्विन ने एक रन चुरा लिया था और इस मामले पर विवाद खड़ा हो गया था। मैच के बाद कोलकाता के कप्तान मोर्गन ने सोशल मीडिया पर अश्विन पर निशाना साधा था। इसी बीच अब रविचंद्रन अश्विन ने सभी सवालों का सामने आकर जवाब दिया है।

आईपीएल के 2021 के 41वें मुकाबले के दौरान दिल्ली कैपिटल्स की बल्लेबाजी के 19वें ओवर की एक गेंद पर राहुल त्रिपाठी ने थ्रो फेंका था और वे ऋषभ पंत से टकराकर दूर चली गई थी। इसके बाद नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े रविचंद्रन अश्विन ने एक अतिरिक्त रन लेने की कोशिश की। मगर केकेआर के खिलाड़ियों को यह सही नहीं लगा और उन्होंने कहा कि यह खेल भावना के विरुद्ध है। उसके बाद जब अश्विन आउट हो कर जा रहे थे तब भी टिम साउदी से उनकी बहस हो गई थी।

अब 35 साल के स्पिनर ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए लिखा, “मैंने जैसे ही देखा कि फील्डर ने गेंद फेंक दी है मैं रन लेने के लिए दौड़ पड़ा और मुझे नहीं पता था कि गेंद ऋषभ को लगी थी। अगर मैं देखता तो क्या मैं दौड़ता – हां मैं रन लेने दौड़ता और मुझे इसकी इजाजत भी है। क्या मैं मॉर्गन के कहने से खराब हो जाता हूं – नहीं ऐसा नहीं।”

दाएं हाथ के गेंदबाज ने आगे लिखा, “क्या मैंने लड़ाई की नहीं मैं अपने लिए खड़ा हुआ। वही किया जो मुझे मेरे माता-पिता और शिक्षकों ने सिखाया। आप भी अपने बच्चों को अपने लिए खड़ा होना सिखाए। मॉर्गन और साउदी की क्रिकेट की दुनिया में वे जो चाहे उसे सही या गलत मान सकते हैं, लेकिन उसूलों की बात करते हुए गलत शब्दों को प्रयोग करने का उनका हक नहीं है। इससे भी ज्यादा हैरानी की बात यह है कि लोग इस पर चर्चा कर रहे हैं और यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या सही है और क्या गलत है।”

गौरतलब है कि केकेआर के कप्तान ओईन मोर्गन ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मुकाबले के बाद ट्वीट करते हुए लिखा था, “मैं जो देख रहा हूं उस पर विश्वास नहीं कर सकता। आईपीएल आने वाले छोटे बच्चों के लिए भयानक उदाहरण है। समय आने पर मुझे लगता है कि अश्विन को इसका पछतावा होगा।”

Leave a comment

Cancel reply