rohit shakib
IND vs BAN, सुपर-12 ग्रुप: बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले चुनी गेंदबाजी

भारत और बांग्लादेश के बीच टी-20 वर्ल्ड कप का 35वां मैच बुधवार को एडिलेड में खेला जाना है। यह मैच दोनों ही टीमों के सेमीफाइनल में पहुंचने का टिकट हो सकता है। दरअसल, भारत 3 मैच में 2 मुकाबले जीतने के साथ 4 अंक लेकर अंक तालिका में दूसरे स्थान पर है। बांग्लादेश भी 3 मैच में 2 मुकाबले जीतने के साथ 4 अंक लेकर अंक तालिका में तीसरे स्थान पर है। दोनों के बीच बस रन रेट का अंतर है। ऐसे में जो भी टीम मैच जीतेगी वो ग्रुप-2 की अंक तालिका में शीर्ष पर पहुंच जाएगी। वैसे भी बांग्लादेशी कप्तान शाकिब अल हसन ने कहा कि हम भारत को हराकर बड़ा उलटफेर करने का प्रयास करेंगे। इस बयान के इतर अगर आंकड़ों पर गौर करें तो दोनों टीमें अब तक कुल 11 टी-20 मैच खेल चुकी हैं, जिसमें भारत 10 और बांग्लादेश महज एक बार जीत हासिल कर पाई है। टी-20 वर्ल्डकप की बात करें तो भारत-बांग्लादेश की टीमें आपस में तीन बार टकराई हैं। भारत 2009, 2014 और 2016 में क्रमशः 25 रन, 8 विकेट और 1 रन से विजयी रहा है। तो आइए मैच शुरू हो इससे पहले जान लेते हैं कि इस मुकाबले में दोनों टीमों के किन खिलाड़ियों के बीच प्लेयर्स बैटल देखने को मिलेगी।

रोहित शर्मा बनाम तस्कीन अहमद

टीम इंडिया के कप्तान और “द हिटमैन” का टी-20 वर्ल्डकप में अब तक सिर्फ एक बार ही बल्ला चमका है। दो अहम मैचों यानी पाकिस्तान के खिलाफ 4 और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उनका बल्ला सिर्फ 15 रन ही उगल सका है। वहीं, नीदरलैंड्स के खिलाफ उन्होंने 39 गेंदों पर धुआंधार अर्धशतक जमाया था। महत्वपूर्ण मैचों में उनसे जिस तरह की शुरुआत की उम्मीद थी, वह उसमें खरे नहीं उतरे लेकिन उन्हें कम आंकना बांग्लादेश के लिए बड़ी भूल हो सकती है। बांग्लादेश के खिलाफ इस फटाफट फॉर्मेट में रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाजों की सूची में वह टॉप पर हैं। उन्होंने 11 मैचों में 452 रन बनाए हैं, जिसमें 5 अर्धशतक शामिल हैं। उनका पड़ोसी देश के खिलाफ रिकॉर्ड गजब का है इसलिए बांग्लादेश के राइट आर्म फास्ट बॉलर तस्कीन अहमद उन्हें नई गेंद से जल्दी पवेलियन भेजने की फिराक में रहेंगे। तस्कीन 3 मैचों में 8 विकेट झटक चुके हैं। दो मैचों में वह प्लेयर ऑफ द मैच पुरस्कार जीत चुके हैं। ऐसे में उनकी धारदार गेंदबाजी बांग्लादेश की किस्मत पलट सकती है। हालांकि, वह अब तक भारत के खिलाफ 3 मैच में महज 2 विकेट लेने में ही सफल हुए हैं।

विराट कोहली बनाम मुस्तफिजुर रहमान

टीम इंडिया की रन मशीन कहे जाने वाले विराट कोहली पूरी फॉर्म में चल रहे हैं। उनका क्रीज पर टिके रहना विपक्षी टीम के लिए बड़ा सिरदर्द साबित हो सकता है। विराट टूर्नामेंट में पाकिस्तान के खिलाफ शानदार 82 रन, नीदरलैंड्स के खिलाफ 44 रन बना चुके हैं। भले ही वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 12 रन बना पाए हों लेकिन उनका बल्ला बड़ा स्कोर करने के लिए पूरी तरह फॉर्म में है। बांग्लादेश के खिलाफ उनके आंकड़े देखें तो 4 मैच में 2 बार नॉटआउट रहते हुए उन्होंने 129 रन बनाए हैं, जिसमें नाबाद 57 रन उनका उच्च स्कोर है। मुस्तफिजुर रहमान भले ही इस टूर्नामेंट में सिर्फ जिम्बाब्वे के खिलाफ ही दो विकेट झटकने में कामयाब हुए हों लेकिन हर मैच में उनकी गेंदबाज कसी हुई रही है। ऐसे में वह विराट को दबाव में लाकर आसानी से उनका विकेट भी झटक सकते हैं। वह भारत के खिलाफ अब तक खेले 8 मैचों मे 4 विकेट ही ले पाए हैं।

नजमुल हुसैन शान्तो बनाम मोहम्मद शमी

नजमुल हुसैन शान्तो द्वारा जिम्बाब्वे के खिलाफ करियर की सर्वश्रेष्ठ 71 रनों की पारी के बाद बल्लेबाजी में भी बांग्लादेश टीम प्रबंधन ने राहत की सांस ली होगी। यह इस साल किसी बांग्लादेशी ओपनर का दूसरा अर्धशतक है लेकिन सवाल यह है कि वे पारी को कैसे खत्म करते हैं। इससे पहले वह टूर्नामेंट में नीदरलैंड्स के खिलाफ 25 और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 9 रन ही बना पाए थे। यह सलामी बल्लेबाज 15 टी-20 मैच में 309 रन बना चुका है, जिसमें 71 उच्च स्कोर है। भारत के खिलाफ उन्हें अभी खेलने का अवसर नहीं मिला है। फिर भी उनका लय में वापस लौटना भारत के लिए खतरनाक हो सकता है। इधर से उनके खिलाफ मोहम्मद शमी मोर्चा संभाल सकते हैं। उन्होंने अब तक टूर्नामेंट में तीन विकेट ही झटके हैं लेकिन इसके बावजूद उन्होंने ज्यादा रन नहीं लुटाए हैं। वह 20 टी-20 मैचों में 21 विकेट ले चुके हैं, जिसमें 3/15 उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी है। बांग्लादेश के खिलाफ उन्हें 1 ही मैच खेलने का मौका मिला, जिसमें वह 3 ओवर में 29 रन देकर एक विकेट झटकने के बावजूद महंगे गेंदबाज साबित हुए हैं।

सूर्यकुमार यादव बनाम शाकिब अल हसन

भारत के नए उभरते हुए सितारे सूर्यकुमार यादव टीम इंडिया के पालनहार बन चुके हैं। टूर्नामेंट में अब तक उनके बल्ले से मैदान के चारों ओर रन निकले हैं। पाकिस्तान के खिलाफ वह सिर्फ 15 रन बना पाए लेकिन नीदरलैंड्स के खिलाफ 51 रन और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ महत्वपूर्ण 68 रन बनाए थे। उन्होंने 13 टी-20 मैच खेले हैं, जिसमें 340 रन बनाए हैं। हालांकि, उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ खेलने का मौका नहीं मिला है। उधर, बांग्लादेशी कप्तान शाकिब अल हसन की सारी रणनीतियां इस बल्लेबाज को आउट करने पर टिकी होंगी। वह बल्ले के साथ गेंद से भी कमाल दिखाने में सक्षम हैं लेकिन फिलहाल वह टूर्नामेंट में अब तक अपना जादू नहीं बिखेर पाए हैं। उन्होंने तीन मैचों में 31 रन बनाए और तीन विकेट ही लिए। भारत के खिलाफ वह 6 मैचों में महज 62 रन बना सके हैं और 4 विकेट ही झटक पाए हैं।

अर्शदीप सिंह बनाम अफीफ हुसैन

जसप्रीत बुमराह की कमी को अर्शदीप सिंह पूरी करने की कोशिश कर रहे हैं। वह टूर्नामेंट में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2, नीदरलैंड्स के खिलाफ दो और पाकिस्तान के खिलाफ 3 विकेट झटक चुके हैं। कुल मिलाकर उनकी गेंदबाजी बेहद किफायती और सटीक रही है। वह 16 टी-20 मैच में 26 विकेट ले चुके हैं। हालांकि, अभी तक उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ गेंदबाजी का मौका नहीं मिला है। उधर, मध्यक्रम के बल्लेबाज अफीफ हुसैन तीन मैचों में 29, 1 और 38 रन बना चुके हैं। इनके पूरे करियर पर नजर डालें तो उन्होंने 58 टी-20 मैच में 976 रन बनाए हैं, जिसमें 77 उनका बेस्ट स्कोर है। वहीं, भारत के खिलाफ 3 मैच में वह खास कमाल नहीं दिखा पाए और सिर्फ 6 रन ही बना पाए। फिर भी टूर्नामेंट में मध्यक्रम के बल्लेबाज के तौर पर उनका बल्ला तेजी से रन बना रहा है। अब जब ये खिलाड़ी सामने आएंगे तो बल्ले और गेंद से कौन कमाल दिखा पाता है, ये देखना दिलचस्प होगा।

Leave a comment

Cancel reply