surya

पता नहीं क्यों, टीम इंडिया के आज के टॉप टी20 बल्लेबाज के नाम का जिक्र करते हुए जानकार एकदम सूर्यकुमार यादव का नाम नहीं लेते। सच ये है कि टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में आने के बाद से सूर्य ने लगातार अपनी प्रतिष्ठा में बढ़ोतरी की है और रिकॉर्ड किसी से कम नहीं। अब इन दिनों के कैरिबियाई-यूएसए टूर को ही ले लीजिए। सेंट किट्स में तीसरे टी20 इंटरनेशनल में 44 गेंदों में 76 रनों की मैच जिताने वाली पारी और भारत ने मैच में 7 विकेट की जीत के साथ पांच मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली।

केएल राहुल की गैरमौजूदगी में सीरीज के लिए उपकप्तान, हार्दिक पांड्या ने मैच के बाद, सूर्य की परफॉर्मेंस के बारे में कहा, “लंबे समय तक इंतजार करने के बाद, जो मौके मिल रहे हैं, उनका वे पूरा फायदा उठा रहे हैं। सूर्य एक असाधारण खिलाड़ी है, जो अद्भुत शॉट खेलता है। विकेट आसान नहीं था पर जीत का बहुत सारा श्रेय उसे जाता है। ख़ास तौर पर, जब ये देखें कि कप्तान रोहित शर्मा पीठ की ऐंठन से दूसरे ओवर में रिटायर्ड हर्ट हो गए थे तो किसी को जीत की जिम्मेदारी लेनी थी।” उस दिन वॉर्नर पार्क में सूर्य ने ऐसा ही किया और 44 गेंदों में 8 चौकों और 4 छक्कों का जलवा दिखाया।

अभी तो इस सीरीज में वे टीम मैनेजमेंट के एक प्रयोग का हिस्सा बने हैं, जिसमें अपने कम्फर्ट जोन से बाहर बल्लेबाजी कर रहे हैं। इस सीरीज से पहले तक, भारत ने 2022 में टी20 इंटरनेशनल में 7 सलामी बल्लेबाजों का इस्तेमाल किया था, कप्तान रोहित शर्मा सहित और सबसे ज्यादा मौका मिला ईशान किशन को। उनका रिकॉर्ड खराब नहीं, तब भी एक बैकअप ओपनर के तौर पर भारत ने सूर्यकुमार यादव को विकल्प बना दिया और इस तरह ओपनिंग स्लॉट के साथ प्रयोग जारी रखा। हालांकि, इस बार के प्रयोग को विशेषज्ञों की भारी आलोचना झेलनी पड़ी है पर टीम मैनेजमेंट की सोच अलग है- हर बल्लेबाज, हर नंबर पर खेलने के लिए तैयार रहे।

सूर्य का कम्फर्ट जोन है- नंबर 3 /4 /5 पर खेलना और पहली बार ओपनर बने इस सीरीज में, पहले मैच में 16 गेंदों में 24 और दूसरे मैच में 5 गेंद में 11 रन पर जब तीसरे मैच में जीत वाले 76 रन बनाए तो टीम का प्रयोग सही साबित हो गया।

सूर्य ने अपना पहला टी 20 इंटरनेशनल 14 मार्च 2021 को खेला था इंग्लैंड के विरुद्ध अहमदाबाद में और मौजूदा टूर के तीसरे मैच तक रिकॉर्ड 22 मैच में 648 रन 38.12 औसत और 175.61 स्ट्राइक रेट से 1 शतक और 5 स्कोर 50 वाले। देखिए –

  • उनके डेब्यू से टीम इंडिया के लिए, उनके 3 से ज्यादा मैन ऑफ द मैच अवार्ड किसी ने नहीं जीते हैं, वे भुवनेश्वर कुमार के बराबर हैं।
  • उनके डेब्यू से, टीम इंडिया के लिए, उनसे ज्यादा रन सिर्फ रोहित शर्मा ने बनाए 23 मैच में 681 रन। ध्यान दीजिए एक मैच ज्यादा खेला है।
  • उस दिन से टीम इंडिया के लिए, कम से कम 100 रन बनाने वालों में, उन से बेहतर स्ट्राइक रेट किसी का नहीं रोहित शर्मा ने 144.28 और ईशान किशन ने 132.67 का स्ट्राइक रेट दर्ज किया।
  • सच तो ये है कि टॉप टीमों में से, इस दौर में, कम से कम 500 रन बनाने वालों में उनसे बेहतर स्ट्राइक रेट किसी का नहीं, रोहित शर्मा तो क्या जोस बटलर, मार्टिन गुप्टिल और बाबर आजम भी पीछे हैं।
  • उस दिन से टीम इंडिया के लिए, सिर्फ दो शतक बने हैं, सूर्य के अतिरिक्त ये रिकॉर्ड सिर्फ दीपक हुडा ने बनाया।
  • उस दिन से टीम इंडिया के लिए, उनके 100 (65 चौके+35 छक्के) से ज्यादा बाउंड्री शॉट किसी के नाम नहीं- रोहित शर्मा एक मैच ज्यादा खेलकर 99 पर हैं और इसमें छक्के सूर्य से कम हैं।
  • उस दिन से सूर्यकुमार यादव की बेहतर होती टी 20 इंटरनेशनल रैंकिंग: पहला मैच- नंबर 1178, 5वां मैच- नंबर 77, 10वां मैच- नंबर 60, 15वां मैच- नंबर 49, 20वां मैच-नंबर 4 और 22वां मैच- नंबर 2 पर।

सब ठीक रहा तो सूर्यकुमार यादव को तो ऑस्ट्रेलिया में अगले टी 20 विश्व कप में खेलना ही है, साथ में टीम की हर जरूरत को पूरा करने के लिए तैयार।

Leave a comment

Cancel reply