kalanidhi srh
IPL नीलामी में सनराइजर्स हैदराबाद टीम की 'मिस्ट्री गर्ल' ने सोशल मीडिया पर तूफान खड़ा कर दिया था

सनराइजर्स हैदराबाद- वही टीम, सन नेटवर्क के कलानिधि मारन, जिसके मालिक हैं। नाम से ही पता चल रहा है- हैदराबाद स्थित फ्रैंचाइज़ी के मालिक। इस शहर से आईपीएल में दूसरी टीम- इससे पहले डेक्कन चार्जर्स खेलती थी। दो आईपीएल टाइटल जीते हैं- एक डेक्कन चार्जर्स ने और दूसरा सनराइजर्स हैदराबाद ने। अन्य कुछ टीम की तरह, इस टीम की मैनेजमेंट में भी भविष्य की तैयारी शुरू हो गई है- कागज चाहे जो कहते हों, टीम की नई पहचान के तौर पर जब कलानिधि मारन की बेटी का चेहरा, नया-नया सामने आया तो उनकी ‘ब्यूटी और ब्रेन’ ने सोशल मीडिया पर तूफान ला दिया था। ये हैं कविया मारन- जो 2020 से टीम का संचालन धीरे-धीरे अपने हाथ में लेती जा रही हैं।

सनराइजर्स हैदराबाद- आईपीएल में तब चर्चा में आई जब बीसीसीआई ने 2012 में डेक्कन चार्जर्स का कॉन्ट्रैक्ट खत्म कर दिया। होम ग्राउंड- राजीव गांधी इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम, हैदराबाद, जिसकी क्षमता 55,000 है। इसके अलावा, टीम का दूसरा होम ग्राउंड 2015 में जोड़ा गया- 40,000 क्षमता वाले डॉ वाई एस राजशेखर रेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम, आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम शहर में। हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन ने 2019 आईपीएल में सबसे बेहतर पिच और सुविधाओं का आईपीएल अवॉर्ड जीता था।

टीम को ‘ऑरेंज आर्मी’, कहा जाता है- 2016 में, आईपीएल ट्रॉफी जीती (फाइनल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को 8 रन से हराकर), जबकि 2018 में आईपीएल फाइनल में हार गए थे (चेन्नई सुपर किंग्स से)। 2013 के अपने, पहले ही सीजन में प्ले-ऑफ में खेले थे। पिछले कुछ सालों में, डेविड वार्नर, भुवनेश्वर कुमार, केन विलियमसन और राशिद खान टीम के स्टार क्रिकेटरों में से रहे हैं।

जब टीम बनी तो टीम मैनेजमेंट के श्रीकांत के पास थी। बाद में मुथैया मुरलीधरन, टॉम मूडी और वी.वी.एस लक्ष्मण ने इसे संभाल लिया। अब कनफ्लिक्ट ऑफ़ इंटररेस्ट के आरोप से बचने के लिए लक्ष्मण अलग हो गए हैं।

2015, 2017 और 2019 में तीन बार ऑरेंज कैप जीत चुके डेविड वार्नर टीम के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं- ये बात अलग है कि वे बड़े निराशाजनक माहौल में टीम से अलग हुए। भुवनेश्वर कुमार ने 2016 और 2017 में दो बार पर्पल कैप जीती गेंदबाजी के लिए।

ये टीम बनी कैसे थी?

इस टीम की चर्चा में, एक बड़ा रोचक किस्सा आईपीएल के सफर के बीच में, इस टीम के बनने का है। 2008 में हैदराबाद शहर की टीम डेक्कन चार्जर्स बनी थी- टीम की कीमत थी 107 मिलियन डॉलर (तब : 562 करोड़ रुपये)।

डेक्कन चार्जर्स, आईपीएल 2009 के विजेता, टीम नहीं चला पाए और धीरे-धीरे बोर्ड और खिलाड़ियों दोनों को पेमेंट देने में गड़बड़ी करने लगे, जब नोटिस देने पर भी हालात नहीं सुधरे तो बीसीसीआई ने उनका कॉन्ट्रैक्ट खत्म कर दिया। बोर्ड ने नई टीम बनाई पर ये पहले ही कह दिया था कि नई टीम हैदराबाद शहर की ही होगी। सन टीवी नेटवर्क ने हर साल के लिए 85.05 करोड़ रुपये की बिड पर टीम हासिल कर ली (5 साल का कॉन्ट्रैक्ट हुआ था)- पीवीपी वेंचर्स (69.03 करोड़ रुपये) दूसरे नंबर पर रहे।

इस तरह, नई फ्रेंचाइजी आईपीएल की सबसे महंगी टीम में से एक बन गई- पुणे वारियर्स (सात साल के लिए 1702 रुपये) और कोच्चि टस्कर्स केरल (सात साल के लिए 1533.32 करोड़ रुपये) के बाद। बीसीसीआई इस नए सौदे से बड़े खुश थे क्योंकि हैदराबाद शहर की टीम के लिए जो फ्रैंचाइज़ी फीस डेक्कन क्रॉनिकल होल्डिंग्स लिमिटेड ने दी थी- उसकी तुलना में 100 प्रतिशत से ज्यादा प्रीमियम मिल गया। ये दुनिया के लिए आईपीएल की मजबूती का सबूत भी था।

इस तरह सनराइजर्स हैदराबाद ने 2012 में डेक्कन चार्जर्स की जगह ली और 2013 में डेब्यू किया। सन टीवी नेटवर्क लिमिटेड- हैड क्वार्टर चेन्नई में, 32 टीवी चैनल और 45 एफएम रेडियो स्टेशन के साथ भारत के सबसे बड़े टेलीविजन नेटवर्क में से एक थे तब ही- इस हिसाब ने इसे भारत की सबसे बड़ी मीडिया और एंटरटेनमेंट कंपनी की पहचान दी थी।

टीम जर्सी : 8 मार्च 2013 को टीम जर्सी का अनावरण हुआ और जी वी प्रकाश कुमार के एंथम को 12 मार्च 2013 को जारी किया गया। तब से इस टीम की जर्सी लगभग हर साल ही किसी न किसी वजह से चर्चा में रही है। 2022 को ही ले लीजिए- जैसे ही नई टीम जर्सी का अनावरण किया तो फैन ने बेरहमी से ट्रोल कर दिया- उन्हें ऐसा लग रहा था कि स्विगी फ़ूड ऐप वियर वालों की जर्सी की नक़ल कर ली है। टीम का लोगो 20 दिसंबर 2012 को पहली बार दिखाया।

टीम के मालिक कौन हैं?

शुरू से कलानिधि मारन (सन टीवी नेटवर्क) का नाम सामने रहा। कलानिधि मारन की कुल संपत्ति 1.6 बिलियन अमरीकी डालर होने का अनुमान है। कलानिधि की पहली पहचान उनके नेटवर्क और क्रिकेट से बाहर की है। वे भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरासोली मारन के बेटे और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि के पोते हैं। उनके बड़े भाई दयानिधि मारन यूपीए सरकार में कपड़ा मंत्रालय के प्रमुख थे।

कलानिधि मारन

सन टीवी ग्रुप उन्होंने खुद शुरू किया- इसके फाउंडर और प्रमोटर दोनों। आज टीवी चैनलों, समाचार पत्रों, साप्ताहिक पत्रिकाओं, एफएम रेडियो स्टेशनों, डीटीएच सर्विसेज और एक फिल्म प्रोडक्शन हाउस में उनकी हिस्सेदारी है। आज कलानिधि मारन दक्षिण भारत के सबसे बड़े मीडिया व्यवसायी हैं। उनकी कंपनी सन टीवी नेटवर्क की कीमत 2.8 अरब डॉलर (करीब 15 हजार करोड़ रुपये) होने का अनुमान है।

चेन्नई के प्रतिष्ठित लोयोला कॉलेज में स्टूडेंट लीडर के तौर पर अपनी पहली पहचान बनाई। परिवार से तो विरासत में राजनीति मिली थी। लोयोला कॉलेज स्टूडेंट यूनियन के प्रेसीडेंट बने। 80 के दशक में श्रीलंका में रहने वाले तमिल समुदाय के हितों का मुद्दा उठाकर मीडिया में चर्चा में आ गए थे। लोयोला कॉलेज से पढ़ाई पूरी करने के बाद यूनिवर्सिटी ऑफ स्क्रैंटॉन (पेंसिल्वेनिया), यूएसए से एमबीए किया।

कलानिधि मारन इस समय सबसे अमीर भारतीय की लिस्ट में हैं। न सिर्फ मीडिया, वे स्पाइसजेट में भी स्टेकहोल्डर हैं। उनके सबसे लोकप्रिय बहुभाषी FM चैनल (93.5 Red FM) और एक तमिल FM चैनल (Surya FM) हैं। उनकी कंपनी तमिल फिल्म प्रोडक्शन में भी शामिल है। 14 अप्रैल 1993 को 86,000 डॉलर के बैंक लोन के साथ सन टीवी की शुरुआत की और लगभग दस साल बाद, 24 अप्रैल, 2006 को कंपनी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट हुई।

कलानिधि मारन की तरह, उनकी पत्नी की भी अपनी पहचान है- कावेरी मारन एक बेहद कामयाब प्रोफेशनल हैं। जो आखिरी जानकारी उपलब्ध है, उसके मुताबिक़ वह 8.2 मिलियन डॉलर (लगभग 62 करोड़ रुपये) के सालाना सैलरी पैकेज के साथ भारत में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले प्रोफेशनल में से एक हैं।

कविया मारन

कलानिधि की बेटी- कविया मारन सनराइजर्स हैदराबाद में काफी दिलचस्पी रखती हैं और उनके ज्यादातर मैचों में मौजूद रहती हैं। हाल ही में, आईपीएल 2021 और 2022 की नीलामी के दौरान भी देखी गई थीं- 2021 में वे वीवीएस लक्ष्मण के साथ बैठकर बोली लगा रही थीं।

कोलकाता नाइट राइडर्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच आईपीएल 2021 मैच के दौरान उन्हें ‘मिस्ट्री गर्ल’ का नाम मिला- जब टीवी कैमरे बार-बार उन्हें दिखा रहे थे तो आम तौर पर ये मालूम ही नहीं था कि वे हैं कौन? वे सनराइजर्स हैदराबाद को चीयर करती नजर आ रहीं थी। हर किसी ने पूछा- यह लड़की है कौन? बाद में पता चला कि ये कविया मारन हैं जो तब तक सनराइजर्स हैदराबाद की सीईओ बन चुकी थीं। इस साल 12 और 13 फरवरी को बेंगलुरु में आईपीएल नीलाम के दौरान भी यही नजारा था- सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खिलाड़ी खरीदने के दौरान सोशल मीडिया उनकी चर्चा के मैसेज से भरा था- उनकी खूबसूरती और दिमाग दोनों के लिए।

कविया न सिर्फ क्रिकेट की शौकीन बल्कि काफी अच्छी स्कॉलर भी रही हैं। न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से जुड़े लियोनार्ड एन स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस से एमबीए किया है। इससे पहले, चेन्नई के स्टेला मैरिस कॉलेज से बी.कॉम किया। अपने पिता की कंपनी में कोई भी बड़ा पद लेने से पहले अनुभव के लिए सन टीवी नेटवर्क में इंटर्नशिप भी की।

इस तरह कविया जहां एक ओर, आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद के मैचों के दौरान अपनी टीम के खिलाड़ियों को चीयर करती नजर आती हैं- आईपीएल नीलामी के दौरान जिस तरह से बोली लगाती नजर आ रही हैं, उससे साफ है कि सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खिलाड़ियों के चयन में भी ख़ास भूमिका निभाती हैं। सनराइजर्स हैदराबाद के थिंक टैंक के साथ मिलकर टीम के लिए स्ट्रेटजी भी तैयार करती हैं।

जन्म 6 अगस्त 1992- चेन्नई में जन्मीं कविया को घूमने और संगीत सुनने का भी शौक है। इसके अलावा, उन्हें एविएशन और मीडिया सेक्टर में भी दिलचस्पी है। 2019 में सन टीवी नेटवर्क के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में शामिल किया गया। सन टीवी ग्रुप के 2017 से ही डिजिटल बाजार में आने में कविया ने ख़ास भूमिका निभाई है। इस समय सन टीवी नेटवर्क के ओवर-द-टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म सन एनएक्सटी की चीफ हैं। अपने युवा उत्साह और बुद्धिमत्ता से सन टीवी नेटवर्क में अंततः अपने पिता कलानिधि मारानी से बागडोर संभालने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

जिस नीलाम के दौरान, शाहरुख खान के बच्चे आर्यन और सुहाना खान तथा जूही चावला की बेटी जाह्नवी मेहता और साथ में आकाश अंबानी मौजूद हों- वहां अपनी तरफ सभी का ध्यान खींच लेना कोई मामूली बात नहीं। वह खूबसूरत हैं और हमेशा ऐसे आईपीएल नीलामी आयोजनों के दौरान लोगों का ध्यान खींचती हैं। जैसे ही आईपीएल मेगा नीलामी शुरू हुई, कैमरों में कविया को टीम के कोच टॉम मूडी, मुथैया मुरलीधरन और टीम के अन्य सदस्यों के साथ बैठे हुए दिखाया गया।

एक बड़ा मजेदार संयोग ये है कि जब आईपीएल में हैदराबाद की टीम डेक्कन चार्जर्स थी तो उसके मालिक तथा डेक्कन क्रॉनिकल प्राइवेट लिमिटेड के चीफ वेंकटराम रेड्डी की बेटी
गायत्री रेड्डी ने मैचों के दौरान, अपनी मौजूदगीसे खूब चर्चा बटोरी थी- अब वही भूमिका कविया नई टीम के लिए निभा रही हैं।

इस व्यापार में भी कामयाब

सन टीवी ग्रुप ने आईपीएल टीम खरीदी तो इसमें जहां एक ओर अपने लिए मशहूरी देखी, वहीं मुनाफा भी देखा। सितंबर 2021 को खत्म हुए हॉफ ईयर में आईपीएल से 175.55 करोड़ कमाए। इसी को देखकर अब सन टीवी नेटवर्क अपनी आईपीएल फ्रेंचाइजी सनराइजर्स हैदराबाद को एक अलग यूनिट बनाने के बारे में सोच रहे हैं- इसके शेयर भी बाजार में लाने का इरादा है। इस समय, सनराइजर्स, सन टीवी नेटवर्क लिमिटेड का एक डिवीजन है- हालांकि इसका अकाउंट अलग बनता है।

विवाद अपनी पॉलिसी के

हालांकि टीम ने किसी बड़े विवाद का सामना नहीं किया पर उनकी अपनी पॉलिसी पर विवाद जरूर हुए हैं और चल रहे हैं।

इसमें सबसे बड़ा मामला 2021 सीजन में टीम की खराब शुरुआत के बाद डेविड वार्नर को कप्तानी से बर्खास्त करने का है- सीजन के बीच में केन विलियमसन को बचे मैचों के लिए कप्तान बना दिया। वार्नर ही 2016 में कप्तान थे जब टीम ने अपना पहला आईपीएल टाइटल जीता था। ऑस्ट्रेलियाई उनके प्रमुख स्कोरर भी रहे- 2015, 2017 और 2019 में तीन बार ऑरेंज कैप जीती। इस रिकॉर्ड का कोई फायदा नहीं हुआ और जैसे ही टीम पहले 6 मैचों में से 5 में हारी (एकमात्र जीत चेन्नई में सीजन के 14वें मैच में पंजाब किंग्स के विरुद्ध) मैनेजमेंट बौखला गई। वार्नर खुद भी टॉप फार्म में नहीं थे- 6 पारियों में 57 के उच्च स्कोर के साथ सिर्फ 193 रन। यहां तक कि वार्नर को प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया। इसीलिए जब 2022 सीजन के लिए उन्हें रिटेन नहीं किया तो किसी को भी हैरानी नहीं हुई। ये सब जैसा माहौल बनाकर हुआ- वह दोनों के लिए अच्छा नहीं था।

इसी तरह, इस साल, ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज साइमन कैटिच ने टूर्नामेंट शुरू होने से कुछ हफ्ते पहले सनराइजर्स हैदराबाद का कोचिंग कॉन्ट्रैक्ट तोड़ दिया। ‘द ऑस्ट्रेलियन’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, कैटिच ने टीम को कैसे मैनेज किया जा रहा है उस पर अपनी असहमति दिखाई। उन्होंने कहा – नीलाम से पहले खिलाड़ी खरीदने की जो पॉलिसी बनाई थी- नीलामी के दौरान, बिना सहमति और ख़ास वजह, मनमानी करते हुए उसे तोड़ दिया और खिलाड़ी खरीद लिए। ये किसी से छिपा नहीं कि उनका इशारा किसकी तरफ था। पिछले सीज़न के बाद से ट्रेवर बेलिस और ब्रैड हैडिन पहले ही कोच की ड्यूटी छोड़ गए थे। इस सीजन के लिए टॉम मूडी को कोच और साइमन कैटिच को सहायक कोच बनाया था।

टीम ब्रैंड वैल्यू

ये टीम भारत के दक्षिणी भाग में सबसे लोकप्रिय टीमों में से एक है। कोविड का बड़ा असर उन पर भी आया और टीम की ब्रैंड वैल्यू में लगभग 4% की गिरावट आई। जो ब्रैंड वैल्यू 2019 में लगभग 59.6 मिलियन डॉलर थी- 2020 में लगभग 57.4 मिलियन डॉलर रह गई। 2020 के आईपीएल सीज़न का असर अधिकांश आईपीएल टीमों की ब्रैंड वैल्यू पर आया। मौजूदा ब्रैंड वैल्यू 52.1 मिलियन डॉलर है।

Leave a comment

Cancel reply