ipl 2022 csk
मिलिए IPL टीम मालिकों से - एन श्रीनिवासन और धोनी सबसे बड़ी पहचान हैं चेन्नई की 'येलो आर्मी' की

चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) का नाम ही बता देता है कि आईपीएल में चेन्नई शहर के क्रिकेट फ्रेंचाइजी। ये टीम भी 2008 में ही बन गई थी। होम ग्राउंड- चेन्नई का एम ए चिदंबरम स्टेडियम। टीम के मालिक- चेन्नई सुपर किंग्स क्रिकेट लिमिटेड और इसके सबसे ज्यादा शेयर इंडिया सीमेंट्स के पास हैं। टीम शुरू में खरीदी थी इंडिया सीमेंट्स ने 91 मिलियन डॉलर में और इस कीमत पर मुंबई, बैंगलोर और हैदराबाद के बाद लीग की चौथी सबसे महंगी टीम थे।

चेन्नई फ्रैंचाइज़ी ने तमिल साम्राज्य के शासकों को सम्मानित करने के लिए टीम का नाम चेन्नई सुपर किंग्स रखा। ‘सुपर’ शब्द आम तौर पर दक्षिणी भारत में (ख़ास तौर पर तमिलनाडु में) खूब प्रयोग किया जाता है। टीम के नाम की प्रेरणा इंडिया सीमेंट्स के ब्रैंड ‘कोरोमंडल किंग’ से भी ली गई।

टीम के लोगो में दहाड़ते हुए शेर का सिर नारंगी रंग में और टीम का नाम नीले रंग में है। नाम के ऊपर का ताज वही है जो कोरोमंडल किंग ब्रैंड के लोगो में इस्तेमाल किया है। टीम कलर येलो- जर्सी के दोनों ओर नीले और नारंगी रंग की धारियां। जर्सी का मूल स्वरूप पहले सीज़न से एक समान चला आ रहा है- सिर्फ स्पांसर के नाम की जगह बदल रही है। टीम का थीम एंथम अरविंद-शंकर (अरविंद मुरली और जयशंकर अय्यर की जोड़ी) द्वारा डिजाइन ‘व्हिसल पोडु’ है। ये ट्रैक 2008 में बनाया तो था सिर्फ यू ट्यूब के लिए लेकिन 2009 सीज़न में इसे ऐसी लोकप्रियता मिली कि यही बाद में टीम का थीम एंथम बन गया। वीडियो में टीम के कुछ खिलाड़ियों की सीटी बजाने की रिकॉर्डिंग भी इस्तेमाल की गई।

ये आईपीएल की सबसे लोकप्रिय टीम में से एक है- सपोर्ट और फैन फॉलोइंग का तो कहना ही क्या? आम बोलचाल में टीम को ‘येलो आर्मी’ कहते हैं। टीम के ऑफिशियल फैन क्लब को ‘व्हिसल पोडु आर्मी’ कहते हैं- इसी क्लब ने जनवरी 2016 में आईपीएल से टीम सस्पेंड होने के बाद भी, टीम को लगातार चर्चा में रखा था। जब 2018 में टीम के कुछ होम मैचों को पुणे में खेले थे तो सुपर किंग्स मैनेजमेंट ने चेन्नई और पुणे के बीच एक चार्टर ट्रेन चला दी थी- यहां तक कि टीम के 1,000 से ज्यादा दीवानों के लिए पुणे में मुफ्त ठहरने का इंतजाम करा दिया था। और किसी टीम से उसके फैन ऐसे नहीं जुड़े हैं।

क्रिकेट में भी टीम कम नहीं

टीम की इस लोकप्रियता का बहुत कुछ श्रेय इसकी क्रिकेट ग्राउंड पर कामयाबी को भी दिया जा सकता है। सीएसके ने चार बार- 2010, 2011, 2018 और 2021 में आईपीएल टाइटल जीता है। 2021 सीज़न तक, आईपीएल के प्लेऑफ़ (11) और फाइनल (9) का रिकॉर्ड है उनके नाम। इसके अलावा, 2010 और 2014 में चैंपियंस लीग टी 20 को भी जीते थे। वे मौजूदा डिफेंडिंग चैंपियन हैं- 2021 के आईपीएल चैंपियन।

टीम की अब तक की सबसे बड़ी पहचान- कप्तान महेंद्र सिंह धोनी। पहले सीजन से वही कप्तान हैं। कुछ हद तक यही बात इसके कोच स्टीफन फ्लेमिंग बारे में कह सकते हैं। जनवरी 2008 में आईपीएल के उद्घाटन सीजन की पहली नीलामी के दौरान, चेन्नई फ्रेंचाइजी ने महेंद्र सिंह धोनी, मैथ्यू हेडन, स्टीफन फ्लेमिंग, मुथैया मुरलीधरन और माइकल हसी जैसे उस समय के स्टार क्रिकेटरों को खरीदा था। धोनी उस नीलामी के सबसे महंगे खिलाड़ी रहे थे- 1.5 मिलियन डॉलर कीमत। धोनी को टीम का कप्तान बनाया और उसके बाद से और किसी को नियमित कप्तान बनाने के बारे में सोचा ही नहीं। कुछ ही दिन पहले फ्रेंचाइजी ने कहा था- धोनी कभी अलग नहीं हो सकते सीएसके से।

आईपीएल में दो टीम के बीच आपसी मुकाबले की बात हो तो चेन्नई सुपर किंग्स-मुंबई इंडियंस मैच के रोमांच का कोई जवाब नहीं। आईपीएल में ये दोनों, किसी भी अन्य दो टीम की तुलना में सबसे ज्यादा बार एक दूसरे के विरुद्ध खेली हैं। यहां तक कि चार बार तो आईपीएल फाइनल में एक-दूसरे से खेल चुके हैं- इनमें से मुंबई ने तीन बार और चेन्नई ने एक बार जीत हासिल की।इसे आईपीएल का एल क्लासिको कहा जाता है।

बैलेंस शीट में भी टॉप पर

अगर ग्राउंड पर कामयाब तो आईपीएल को कैश करने में भी टॉप टीम। इसका सबसे बड़ा सबूत ये कि जनवरी 2022 में भारत की पहली यूनिकॉर्न स्पोर्ट्स टीम बने। ये क्या है- इसे समझते हैं। इस समय इस टीम का मार्केट कैप 7,600 करोड़ रुपये- ग्रे मार्केट में प्रति शेयर 210-225 रुपये के प्राइस बैंड की बदौलत। एक शेयर की मूल कीमत सिर्फ 10 पैसे है। इस तरह, इस कंपनी का मार्किट कैप, अपनी मालिक कंपनी इंडिया सीमेंट्स से भी ज्यादा हो गया है- उनका मार्केट कैप 6,869 करोड़ रुपये है।

दो ख़ास वजह से एकदम ऐसा हुआ। पहली- टीम ने दुबई में अपना चौथा आईपीएल टाइटल जीता। दूसरी- दो नई फ्रेंचाइजी को रिकॉर्ड कीमतों पर आईपीएल में जोड़ना। आरपीएसजी ग्रुप ने लखनऊ फ्रेंचाइजी को 7,090 करोड़ रुपये में खरीदा, जबकि सीवीसी कैपिटल ने अहमदाबाद फ्रेंचाइजी के अधिकार 5,625 करोड़ रुपये में हासिल किए। इंडिया सीमेंट्स के मैनेजिंग डायरेक्टर के तौर पर एन श्रीनिवासन ने कहा- जो हो रहा है ये बहुत बड़ी बात है और भारत के खेल इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है। अमेरिका में फ्रैंचाइज़ी-आधारित लीग के इतिहास को देखें, तो वहां ऐसा है।

चेन्नई सुपर किंग्स क्रिकेट लिमिटेड एक पब्लिक कंपनी है लेकिन स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्ट नहीं। अधिकृत शेयर पूंजी- 6 करोड़ रुपये, सब्स्क्राइब्ड और पेड अप- 3.08 करोड़ रुपये। सबसे ज्यादा शेयर इंडिया सीमेंट्स शेयरहोल्डर ट्रस्ट (30.06%) के पास हैं। मार्च 20 21 में ख़त्म, फाइनेंशियल साल में मुनाफ़ा 40.26 करोड़ रुपये था- पिछले साल से कम (तब 50.33 करोड़ रुपये)।

अभी तो आईपीएल शुरू नहीं हुई और सीएसके ने सेंचुरी बना भी दी- ग्राउंड पर नहीं, बैलेंस शीट पर। टीम का एसएनजे ग्रुप के साथ स्पांसर कॉन्ट्रैक्ट 3 और आगे का भी हो गया और इसी के साथ इस सीजन के स्पांसर कॉन्ट्रैक्ट की रकम 100 करोड़ रुपये को पार कर गई- इस रकम पर पहुंचने वाली न सिर्फ पहली, इस समय तक अकेली टीम। मजे की बात ये कि धोनी की तरह, कई स्पांसर तो पूरी लॉयल्टी के साथ सालों से इसी टीम से जुड़े हुए हैं।

सीएसके के मालिक कौन हैं?

इस सवाल का जवाब एक मजेदार किस्सा है अपने आप में। इस चेन्नई फ्रेंचाइजी के मालिक थे इंडिया सीमेंट्स लिमिटेड और इसके चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर थे एन श्रीनिवासन। इस तरह उन्हें ही टीम का वास्तविक मालिक कहते थे।

जब सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई के संविधान में विवादास्पद संशोधन को रद्द कर दिया (इसी संशोधन ने बोर्ड के अधिकारियों को आईपीएल और चैंपियंस से बिज़नेस के लिए जुड़ने की इजाजत दी थी) तो फ्रैंचाइज़ी को चेन्नई सुपर किंग्स क्रिकेट लिमिटेड नाम की एक अलग कंपनी में ट्रांसफर कर दिया मई 2015 में। इस तरह, ऑफिशियल तौर पर, बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स के मालिक नहीं रहे। उनके पास टीम के 29% शेयर थे- सभी एक क्रिकेटर्स ट्रस्ट को ट्रांसफर कर दिए। ये ट्रस्ट इंडिया सीमेंट्स में नौकरी कर चुके, पुराने क्रिकेटरों की भलाई की देखभाल करता है। इस तरह मजबूरी में किए ट्रांसफर में भी श्रीनिवासन ने तारीफ़ बटोर ली। श्रीनिवासन उस समय बीसीसीआई अध्यक्ष बनने का सपना देख रहे थे। वे आईसीसी अध्यक्ष थे पर उन्हें मालूम था कि नई बीसीसीआई मैनेजमेंट उन्हें लंबे समय तक इस पद पर रहने के लिए साथ नहीं देगी ।

इस ट्रांसफर में जो एक और खेल हो गया वह बड़ा मजेदार था। जब ये 29 प्रतिशत शेयर ट्रांसफर किए तो इनकी कीमत बड़ी कम लगा दी। आपको ये जानकार हैरानी होगी कि जिस टीम की कीमत ब्रैंड वैल्यू वाले कई सौ करोड़ रुपये लगा रहे थे- उसकी कीमत उन्होंने खुद सिर्फ 5 लाख रुपये लगा दी। असल में शेयर ट्रांसफर की कीमत का 5 प्रतिशत खर्चा बोर्ड को देना पड़ता है और कीमत कम लगाकर वे इसे बचा गए। तब ते ये कहा जाता था कि अगर इस टीम की कीमत सिर्फ 5 लाख रुपये है तो देश में इसे खरीदने की चाह रखने वाले लाखों लोग मिल जाएंगे। टीम के मौजूदा बड़े शेयर होल्डर :

ट्रस्टी, इंडिया सीमेंट्स शेयरहोल्डर्स ट्रस्ट 92,632,408 शेयर – 30.06%
श्री शारदा लॉजिस्टिक्स प्राइवेट लिमिटेड 21,241,593 शेयर – 6.89%
भारतीय जीवन बीमा निगम; भारतीय जीवन बीमा निगम पी एंड जीएस फंड; एलआईसी ऑफ इंडिया मार्केट प्लस ग्रोथ फंड 18,609,745 शेयर – 6.04%

आईपीएल से टीम सस्पेंड

ये टीम भी आईपीएल से सस्पेंड हो चुकी है। 2013 के आईपीएल सट्टेबाजी मामले में टीम मालिकों के शामिल होने के आरोप में आईपीएल से दो साल (2016 एवं 2017 सीजन) के लिए सस्पेंड रहे- 2018 के सीजन में वापस लौटे और टाइटल जीता। तब टीम के मालिक में से एक, और श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन पर सट्टेबाजी और टीम की जानकारी लीक करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के पैनल ने आरोप लगाया था।

ब्रैंड वैल्यू

2019 में सुपर किंग्स की ब्रांड वैल्यू लगभग ₹732 करोड़ (लगभग 104 मिलियन डॉलर) होने का अनुमान था- इस कीमत ने उन्हें सबसे ज्यादा कीमत वाली आईपीएल फ्रेंचाइजी में से एक बना दिया। ये कोविड के बावजूद अपने इस दर्जे को बरकरार रखे हुए है। 2021 सीजन खत्म होने के बाद ब्रैंड वैल्यू 76 मिलियन डॉलर थी- सिर्फ मुंबई इंडियंस इस मामले में इनसे आगे हैं। पिछले कुछ दिनों में चेन्नई सुपर किंग्स से जुड़ी जो खबर आई है वह तो और भी आश्चर्यजनक है। चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके), देश के पहले स्पोर्ट्स यूनिकॉर्न हैं।

एक और बात जिसने ‘ब्रैंड सीएसके’ को बनाने में योगदान दिया, वह है इसकी अनूठी फैन फॉलोइंग और फ्रैंचाइज़ी अपने फॉलोअर्स के बढ़ते बैंड के आसपास ही टीम रखते हैं।

इस तरह टीम के मालिक के तौर पर सिर्फ एन श्रीनिवासन का नाम लिखा जाएगा। उनके बारे में और जानते हैं।

एन श्रीनिवासन

पूरा नाम- नारायणस्वामी श्रीनिवासन। 2000 के पहले दशक के आखिर तक वे देश के सबसे प्रभावशाली क्रिकेट एडमिनिस्ट्रेटर में से एक थे। सितंबर 2011 में, चेन्नई के उद्योगपति, श्रीनिवासन बीसीसीआई अध्यक्ष बने- इस तरह सीमेंट के बड़े व्यापारिक साम्राज्य और दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड का पूरा कंट्रोल उनके हाथ में था। जून 2014 में, और पावरफुल हो गए- आईसीसी अध्यक्ष नामित किए गए। इन सबके साथ चेन्नई सुपर किंग्स फ्रेंचाइजी के मालिक का अधिकार भी जोड़ लीजिए। ये उनका प्रभाव ही था कि वे आईपीएल में भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद टीम को बचा गए।

पढ़ाई से केमिकल इंजीनियर जिन्हें क्रिकेट में लाए 2001 में बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एसी मुथैया- तमिलनाडु में क्रिकेट एसोसिएशन में। बाद में इन दोनों का आपसी टकराव सालों तक मीडिया में सुर्खियों में रहा। श्रीनिवासन होशियार थे- बहुत जल्दी बीसीसीआई में पहुंच गए। वहां भी पहले ट्रेजरर, फिर सेक्रेटरी और उसके बाद टॉप पर पहुंच गए। आईपीएल में क्या छिपा है- ये उनके व्यापारिक दिमाग ने भांप लिया था। इसीलिए बोर्ड के और किसी अधिकारी ने आईपीएल में टीम खरीदने की चाह नहीं दिखाई- उन्होंने दिखाई। ऐसा हो सके-इसके लिए अपने प्रभाव से बोर्ड के संविधान से जो रूकावट आ रही थी, उसे भी बदलवा दिया।

श्रीनिवासन की क्रिकेट में रुचि पिछले तीन दशकों से कॉर्पोरेट मामलों और क्रिकेट प्रशासन में है। इंडिया सीमेंट्स की अपनी क्रिकेट टीम भी है जो चेन्नई में क्लब लीग में खेलती है। चेन्नई फर्स्ट डिवीजन में तीन क्लब और हैदराबाद में एक क्लब इंडिया सीमेंट्स के हैं। इतना ही नहीं, कंपनी अब मोइनउद्दौला गोल्ड कप को भी स्पांसर करती है।

गुरुनाथ मयप्पन ने भी उन्हें खूब चर्चा दिलाई। चेन्नई सुपर किंग्स के सीईओ थे गुरुनाथ मयप्पन, जब आईपीएल सट्टेबाजी कांड के संभावित लिंक के संबंध में मुंबई पुलिस ने उन्हें सम्मन जारी किया था। वे एन श्रीनिवासन के दामाद हैं। एक उत्साही खेल प्रेमी और साथ में शौकिया गोल्फर भी- उन्हें सीएसके टीम के पीछे थिंक टैंक कहा जाता है। मयप्पन को अक्सर मैचों के दौरान सीएसके के खिलाड़ियों के डगआउट में देखा जाता था।

वे एवीएम परिवार से ताल्लुक रखते हैं और एवीएम प्रोडक्शंस एंड एंटरटेनमेंट के एमडी भी हैं। लोयोला कॉलेज, चेन्नई से कॉमर्स में ग्रेजुएट। श्रीनिवासन की बेटी रूपा से शादी की। उनकी पत्नी भी एक गोल्फ खिलाड़ी हैं। उनकी दो बेटियां और एक बेटा है। रूपा खुद कुछ दिन पहले तक तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन की अध्यक्ष थीं।

Leave a comment

Cancel reply