ipl 2022 dhoni
'धोनी का कप्तानी छोड़ने का निर्णय अचानक लिया गया नहीं है, इस पर पिछले संस्करण में ही बात हुई थी'

इंडियन प्रीमियर लीग का 15वां सीजन बिल्कुल किनारे पर खड़ा है। आईपीएल का ये सीजन 26 मार्च से शुरू होने जा रहा है। इससे पहले सभी टीमें अपनी फौज के साथ प्रैक्टिस करने में जुटी हैं, जिसमें एक टीम डिफेंडिंग चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स भी है।

महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स का आईपीएल के मंच पर जबरदस्त प्रभुत्व रहा है। चेन्नई सुपर किंग्स ने अब तक 4 बार खिताब पर कब्जा किया है। इस बार चेन्नई सुपर किंग्स 5वीं बार चैंपियन बनने की ताक में दिख रही है। टीम के संतुलन और मजबूती को देखते हुए महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स के एक बार फिर से चैंपियन बनने के सारे गुण मौजूद हैं।

चेन्नई सुपर किंग्स टीम की बात करें तो इस टीम के नाम आईपीएल के अब तक के सफर में कई रिकॉर्ड्स पर राज है। तो हम इस आर्टिकल में डालते हैं चेन्नई सुपर किंग्स के द्वारा स्थापित किए गए रिकॉर्ड्स पर एक नजर.

सबसे ज्यादा प्लेऑफ खेलने वाली टीम

आईपीएल की शुरुआत साल 2008 से होने के बाद ये कारवां 2021 तक अपने 14 सीजन पूरे कर चुका है। चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने पहले ही सीजन में फाइनल में जगह बनाई थी, जिसके बाद इस टीम के लिए अंतिम चार में प्रवेश करना एक आदत सी बन चुकी है। चेन्नई सुपर किंग्स 14 में से 12 सीजन ( 2016 और 2017 सीजन बैन के कारण नहीं खेले) खेले हैं, जिसमें से उन्होंने 11 बार प्लेऑफ में प्रवेश किया है। ये आईपीएल इतिहास में किसी भी टीम के द्वारा सबसे ज्यादा प्लेऑफ में प्रवेश करने का रिकॉर्ड है।

सबसे ज्यादा मैचों में एक कप्तान के द्वारा लीड

चेन्नई सुपर किंग्स का जादू शुरुआत से ही सिरचढ़ कर बोला है, जिसमें सबसे खास और प्रभावशाली काम कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने किया है। 2008 के पहले ही सीजन से महेन्द्र सिंह धोनी चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान के तौर पर काबिज हैं। चेन्नई सुपर किंग्स के द्वारा आईपीएल में खेले गए 12 सीजन में महेन्द्र सिंह धोनी टीम को लीड कर रहे हैं, जिन्होंने बतौर कप्तान सबसे ज्यादा मैच में किसी एक टीम को लीड किया है। धोनी ने 190 मैचों में सीएसके की कप्तानी करते हुए 116 मैचों में जीत हासिल की, तो वहीं केवल 73 मैचों में हार का सामना किया।

सबसे ज्यादा फाइनल मैच खेलने का रिकॉर्ड

आईपीएल के सफर में चेन्नई सुपर किंग्स का दूसरा नाम एक तरह से फाइनलिस्ट टीम बन चुका है। इस टीम का फाइनल खेलने का रिकॉर्ड बहुत ही प्रभावशाली है। अब तक खेले गए 14 सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स 12 बार इस टूर्नामेंट का हिस्सा रही, जिसमें से उन्होंने 9 बार फाइनल मैच खेले हैं। ये रिकॉर्ड अपने आप में किसी टीम का प्रभुत्व दिखाया है। आईपीएल के इतिहास में सीएसके ने सबसे ज्यादा 9 बार फाइनल खेले हैं, जिसमें से 4 बार उन्होंने खिताब जीतने में सफलता हासिल की।

एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट

आईपीएल की सबसे सफलतम टीमों में से एक चेन्नई सुपर किंग्स का जलवा किसी से छुपा नहीं है। सीएसके के इस जबरदस्त प्रदर्शन में उनके खिलाड़ियों के योगदान को कैसे नजरअंदाज किया जा सकता है। सीएसके के पास ऐसा गेंदबाज है, जिसने आईपीएल के किसी एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने का कारनामा किया है। ये नाम विंडीज के ड्वेन ब्रावो रहे हैं। साल 2013 के आईपीएल सीजन में ड्वेन ब्रावो ने 32 विकेट अपने नाम किए। ये किसी एक सीजन में किसी भी गेंदबाज के द्वारा सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड है, हालांकि ब्रावो के साथ इस स्थान को अब आरसीबी के हर्षल पटेल ने संयुक्त बना दिया है।

सबसे छोटे स्कोर का बचाव

टी20 क्रिकेट में छोटे स्कोर का बचाव करना बहुत ही मुश्किल होता है। छोटे स्कोर का बचाव करते हुए किसी भी टीम को जीतते बहुत कम देखा जाता है। लेकिन आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स ने 120 रन से भी कम स्कोर का बचाव किया है। आईपीएल के दूसरे सीजन में पंजाब किंग्स के खिलाफ सीएसके ने केवल 116 रन के स्कोर का बचाव किया था। उस मैच में सीएसके ने पहले खेलते हुए 116 रन ही बनाए थे, लेकिन शानदार गेंदबाजी के दम पर पंजाब किंग्स को 24 रन से हरा दिया। ये आईपीएल के इतिहास में सबसे कम स्कोर बनाकर जीत हासिल करने का रिकॉर्ड है।

Leave a comment

Cancel reply