ruturaj crictoday
IPL 2021: क्या रुतुराज गायकवाड़ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के अगले 'किंग' साबित होंगे?

आईपीएल के मंच ने टीम इंडिया को कई धाकड़ खिलाड़ी दिए हैं। इस लीग में अपने हुनर का प्रदर्शन करके कई प्लेयर्स की किस्मत रातों-रात पलटी है। इंडियन प्रीमियर लीग घरेलू क्रिकेटर्स के लिए वो प्लेटफॉर्म साबित हुआ है, जिसके बूते उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट पर राज किया है। जसप्रीत बुमराह से लेकर हार्दिक पांड्या तक इस लिस्ट में कई बड़े नाम शामिल रहे हैं। ऐसा ही एक और नाम अब निकलकर सामने आ रहा है और वह नाम है चेन्नई सुपर किंग्स के उभरते हुए सलामी बल्लेबाज रुतुराज  गायकवाड़ का।

यूएई की धरती पर आईपीएल 2021 में धमाल मचा रहे महाराष्ट्र के इस बैट्समैन को वीरेंद्र सहवाग ने भविष्य का सुपरस्टार तक बता दिया है। राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ अबु धाबी के शेख जायद मैदान पर 108 मीटर का लंबा सिक्स लगाकर शतक जड़ने वाले रुतुराज  में काबिलियत कूट-कूट कर भरी हुई है और धोनी की देखरेख में यह खिलाड़ी क्रिकेट की दुनिया में छा जाने को बेताब है।

यह भी पढ़ें | IPL से संन्यास पर बोले धोनी, जानिए कब और कहां खेलेंगे अपना आखिरी मुकाबला?

सवाल यह उठता है क्या रुतुराज  के बल्ले में वो दमखम है, जो इंटरनेशनल लेवल पर उनको अलग पहचान दिला सकता है? तो इसका जवाब यकीनन हां है और क्यों है, वो हम आइए आपको उनके जोरदार आंकड़ों के लिहाज से समझाते हैं।

घरेलू क्रिकेट में लगाया रनों का अंबार

चेन्नई के लिए आईपीएल में धमाल मचा रहे रुतुराज  गायकवाड़ ने 2016 में महाराष्ट्र के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज की विराट बनने की कहानी भी यहीं से शुरू हुई। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 21 मैचों की 36 पारियों में 38.54 के औसत से इस खिलाड़ी ने 1349 रन ठोके हैं। इस दौरान रुतुराज  के बल्ले से 4 शतक तो 6 अर्धशतकीय पारियां देखने को मिली। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपना जलवा बिखेरकर महाराष्ट्र के इस बैट्समैन ने लिस्ट ए क्रिकेट में कदम रखा और उधर भी हर किसी को अपने खेल से दीवाना बना दिया। 59 मैचों की 58 पारियों में 47.87 की जोरदार औसत से रुतुराज  ने 2681 रन कूटकर बेहद कम समय में लिस्ट ए किकेट में रनों का अंबार लगा दिया। इस दौरान आईपीएल में धोनी की टीम की जीत की कहानी लिख रहे इस बल्लेबाज ने 7 सेंचुरी लगाई और 16 फिफ्टी जड़ी। लिस्ट ए में उनको बेस्ट स्कोर 187 रन रहा और वो भी नाबाद। यानी रुतुराज  घरेलू क्रिकेट के वो सुपरस्टार खिलाड़ी थे, जो बस आईपीएल की चकाचौंध में अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे।

घरेलू क्रिकेट में जलवा बिखेरने का तोहफा इस बल्लेबाज को मिला 2020 में

आईपीएल के जरिए दुनिया में डंका बजाने से पहले रुतुराज  खतरनाक कोरोना वायरस की चपेट में आ गए थे। इसके बाद यूएई में साल 2020 में हुए आईपीएल में, जब सीएसके की तरफ डेब्यू करने का मौका मिला तो उनकी किस्मत खराब रही और उन्हें सस्ते में पवेलियन लौटना पड़ा। शुरुआती कुछ मैचों में उन्हें रन बनाने के लिए जूझना पड़ा, लेकिन पारखी नजर के धनी धोनी ने उन पर भरोसा बनाए रखा और कुछ और मैचों में मौका दिया। यहां रुतुराज  ने अपने कप्तान के भरोसे का कायम रखा और बाद में टीम के लिए लगातार तीन मैचों में तीन फिफ्टी जड़ डालीं। इसके बाद वे धोनी के भरोसेमंद खिलाड़ी बन गए। आईपीएल 2021 के बाद नंबर आया आईपीएल 2021 का, जो रुतुराज  के लिए करियर का टर्निंग प्वॉइंट साबित हुआ है। कोरोना के चलते आईपीएल 2021 के यूएई में स्थगित होने से पहले रुतुराज  ने भारतीय जमीन पर भी जलवा बिखेरा और सात मैचों में 4 फिफ्टी जड़ डालीं। यूएई में जब आईपीएल 2021 का दूसरा फेज शुरू हुआ तो उनके बल्ले की चमक पहले से भी ज्यादा था। यहां उन्होंने अपने करियर में चार चांद लगाते हुए पहली बार आइपीएल शतक जड़ा। राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ इस पारी के दौरान रुतुराज  ने अबु धाबी के शेख जायद स्टेडियम का कोई कोना ऐसा नहीं छोड़ा, जहां से रन नहीं बटोरे हों। खास बात यह है कि उन्होंने यहां अपना शतक पारी की आखिरी गेंद पर ‘धोनी स्टाइल’ में किया, यानी छक्का जड़कर। यह कोई ऐसा वैसा छक्का नहीं था। उनके इस छक्के ने 108 मीटर की दूरी तय की, जो कि आईपीएल 2021 का सबसे लंबा छक्का साबित हुआ।

रुतुराज  की शतकीय पारी देखकर सहवाग ने कर डाली बड़ी भविष्यवाणी

भारत के पूर्व क्रिकेटर और विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग अक्सर क्रिकेटिंग और सोशल मुद्दों पर अपनी राय रखते रहते हैं। रुतुराज  गायकवाड़ के पहले आईपीएल शतक पर सहवाग काफी प्रभावित दिखे और उनकी जमकर तारीफ की। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘नाम याद रखें। रुतुराज  गायकवाड़। खास खिलाड़ी, महान चीजों के लिए बने हैं। विश्व क्रिकेट पर हावी होने से पहले की बात है।’

रुतुराज  इंटरनेशनल क्रिकेट में अब तक नहीं दिखा सके हैं अपने बल्ले की चमक

आईपीएल में अब तक सुपरहिट साबित हो रहे रुतुराज  को इंटरनेशनल क्रिकेट में चमकना बाकी है। रुतुराज  को अब तक मात्र 2 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में खेलने का मौका मिला है, जिसमें उन्होंने 35 रन बनाए हैं, जिस तरह धोनी ने उनके शुरुआती आईपीएल मैचों के खराब प्रदर्शन को नजरअंदाज किया था, वैसे ही टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को भी ऐसा करने की जरूरत है और उन्हें इंटरनेशनल क्रिकेट में ज्यादा मौके देने की जरूरत है। अगर ऐसा होता है तो निश्चित तौर पर भारत को अगला ‘रोहित शर्मा’ मिल सकता है, क्योंकि रुतुराज, जिस तरह से शुरुआत में टिककर बाद में लंबी पारियों को अंजाम देते हैं, वो कहीं न कहीं रोहित शर्मा की ही याद दिलाते हैं।

Leave a comment

Cancel reply