rules cricket news
5 नियम, जो आईसीसी टी20 विश्व कप में पहली बार देखने को मिलेंगे

आईसीसी टी20 विश्व कप (ICC T20 World Cup 2022) की शुरुआत 16 अक्टूबर से होने जा रही है. इस बार का टूर्नामेंट ऑस्ट्रेलिया (Australia) में आयोजित होगा. सुपर-12 राउंड का पहला मुकाबला 22 अक्टूबर को खेला जाएगा. यह मैच न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (SCG) में होगा. वहीं, टीम इंडिया 23 अक्टूबर को पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले से टी20 विश्व कप 2022 में अपने अभियान का आगाज़ करेगी. यह मैच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) में खेला जाएगा.

क्रिकेट के प्रचंड पंडितों के मुताबिक़, क्रिकेट के खेल का इतिहास 16वीं शताब्दी से आज तक अत्यन्त विस्तृत रूप में विद्यमान है. अंतर्राष्ट्रीय मैच 1844 के बाद खेला गया था. हालांकि, आधिकारिक रूप से अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट 1877 से प्रारम्भ हुआ. इंग्लैंड को क्रिकेट खेल का जन्मदाता कहा जाता है.

दूसरी तरफ, क्रिकेट के कानूनों की संरक्षक संस्था मेरिलबॉन क्रिकेट क्लब (MCC) ने क्रिकेट के नियमों में कभी कई संशोधन किए, तो कभी कई नए रूल्स बनाए. बहरहाल, आज हम ऐसे 5 नियमों के बारे में जानेंगे, जो टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पहली बार देखने को मिलेंगे. कौन-कौन से रूल्स हैं इस लिस्ट में शामिल, आइये जानते हैं:

बदल गया नए बल्लेबाज के स्ट्राइक लेने का नियम

इस नियम के तहत, अगर ओवर की शुरुआती 5 गेंद पर बल्लेबाज कैच आउट होता है तो नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेगा. अब बल्लेबाज क्रॉस भी करता है तो भी नया बल्लेबाज ही स्ट्राइक लेगा. वहीं, अगर ओवर की आखिरी गेंद पर विकेट गिरता है, तो दूसरे छोर का बल्लेबाज अगले ओवर की पहली गेंद पर स्ट्राइक लेगा. वर्तमान नियम की बात करें तो, अगर बल्लेबाज कैच लेने के समय एक-दूसरे को क्रॉस कर जाते हैं, तो नया बल्लेबाज नॉ-स्ट्राइकर एंड पर आएगा. अगर वे क्रॉस नहीं करते हैं, तो नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेता है.

अब फील्डर की एक गलती टीम को हरा सकती है मैच

अगर फील्डिंग टीम का कोई भी सदस्य गलत तरीके से मूवमेंट (फील्डिंग में गलत तरीके से स्थान बदलना) करता दिखाई देता है, तो बल्लेबाजी साइड वाली टीम को पेनाल्टी के तौर पर 5 रन दिए जाएंगे. इससे पहले इस मामले में डेड बॉल करार दी जाती थी. ऐसे में कई बार बल्लेबाज को भी नुकसान होता था और उसके अच्छे शॉट या मिले रन भी नहीं गिने जाते थे.

इस स्थिति में डेड बॉल दी जाएगी करार

नए नियम के तहत, गेंदबाज की गलती से गेंद पिच से दूर गिरती है तो भी स्ट्राइकर गेंद को खेल सकता है. हालांकि, इसकी शर्त है कि बल्लेबाज का बैट या पैर या कोई भी हिस्सा पिच में होना जरूरी है. अगर वह पूरी तरह पिच से बाहर जाता है, तो गेंद को डेड बॉल कहा जाएगा. वहीं, वाइड गेंद का नियम भी बदला गया है. इसके तहत किसी गेंद को वाइड घोषित करने से पहले अंपायर बल्लेबाज के शॉट लेने के दौरान की पजिशन को भी ध्यान में रखेंगे. आज के आधुनिक क्रिकेट में बल्लेबाज इधर से उधर जाकर कई तरह के शॉट्स खेलते हैं. ऐसे में कई बार कुछ डिलीवरी को ‘वाइड’ कहा जाता था, लेकिन अब इसमें भी बदलाव देखने को मिलने वाला है.

अब रन आउट के अंदर गिना जाएगा मांकडिंग

पुराने नियम के मुताबिक, मांकडिंग लॉ-41 (अनफेयर प्ले) के अधीन आता था. अब इसे लॉ-38 (रन-आउट) में मूव कर दिया गया है. इसे अनफेयर प्ले नहीं माना जाएगा, जिसकी वजह से इसपर होने वाला विवाद भी लगभग समाप्त हो जाएगा, जब गेंदबाज को लगेगा कि नॉन-स्ट्राइकर एंड का बल्लेबाज बॉल के डिलीवर होने से पहले ही अपनी क्रीज से बहुत पहले बाहर निकल रहा है, तो गेंदबाज नॉन-स्ट्राइकर छोर पर बल्लेबाज को रन आउट कर सकता है. इसमें गेंद रिकॉर्ड नहीं होती है, लेकिन बैटर आउट हो जाता है.

धीमे ओवर गति, वाली टीम को उठाना पड़ेगा नुक्सान

एमसीसी ने टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में धीमी ओवर गति के लिए इन-मैच पेनल्टी पेश की है. इस नियम के तहत, अगर कोई टीम ओवर-रेट से पीछे है, तो पारी के शेष ओवरों के लिए 30-यार्ड सर्कल के बाहर फील्डिंग में एक फील्डर कम लगाने की अनुमति दी जाएगी. दूसरे शब्दों में, जब कोई फील्डिंग टीम समय पर निर्धारित ओवर खत्म नहीं करती है, तो मैच के आखिर (डेथ ओवर्स) में उस टीम को बाउंड्री पर एक फील्डर कम रखने की सजा मिलती है. वह फील्डर सर्कल के अंदर लगता है. इसे ही इन-मैच पेनल्टी नियम कहते हैं.

यह भी पढ़ें – क्रिकेट के 5 अनोखे नियम, जिनके बारे में कम ही लोग जानते हैं

Q. क्रिकेट के नियम बनाने वाली संस्था कौन सी है?

A. मेरिलबॉन क्रिकेट क्लब

T20 वर्ल्ड कप में कोहली तोड़ सकते हैं 4 बड़े रिकॉर्ड – वीडियो

Leave a comment

Cancel reply