Andrew Symonds -Adam Gilchrist
5 घटनाएं, जब क्रिकेट को रेसिस्म से जोड़ा गया

रविवार को ऑस्ट्रेलिया (Australia) के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स (Andre Symonds) का कार दुर्घटना में निधन हो गया है, जिससे समस्त क्रिकेट जगह शौक में है. बताया जा रहा है कि शनिवार को साइमंड्स की कार सड़क से उतरने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गई और अंदरूनी चोटों के कारण 46 साल के साइमंड्स ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. दुनिया के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर्स में शुमार हैं. उनमें सबसे बड़ी खूबी यह थी कि वे स्पिन के साथ-साथ तेज गेंदबाजी भी किया करते थे. इसके अलावा उन्हें विश्व के विस्फोटक बल्लेबाजों में गिना जाना है.

यह भी पढ़ें – मंकी गेट – एंड्रयू साइमंड्स के क्रिकेट करियर का सबसे खराब विवाद, जिससे सबकुछ दहल गया

दिवंगत एंड्रयू साइमंड्स का क्रिकेट के अलावा विवादों से भी गहरा नाता रहा. उन्हें मंकी गेट विवाद के लिए भी जाना जाता है. यह उनके क्रिकेट करियर की सबसे बुरी घटनाओं में से एक रही. ये वो विवाद था, जब साल 2007 में टीम इंडिया के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह एंड्रयू साइमंड्स से भिड़ गए थे. इसके बाद साइमंड्स ने आरोप लगाया था कि हरभजन ने उन्हें बंदर कहा था.

इससे अलावा भी रेसिस्म को लेकर ऐसी कई घटनाएं सामने आईं, जब क्रिकेट को नस्लवाद से जोड़ा गया. आज हम ऐसी ही पांच घटनाओं का ज़िक्र करेंगे, जब क्रिकेट शर्मसार हुआ-

  1. मंकी गेट

यह घटना साल 2007 में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के दूसरे टेस्ट के दौरान टीम इंडिया के स्टार ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स के बीच घटी थी. ये वो प्रकरण था, जब हरभजन सिंह एंड्रयू साइमंड्स से भिड़ गए थे. इस विवाद के बाद साइमंड्स ने आरोप लगाया था कि हरभजन ने उन्हें बंदर कहा था. यह मामला इतना बढ़ा कि टीम इंडिया दौरे के बहिष्कार के बारे में सोचने लगी थी. मंकीगेट ने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट की जमकर किरकिरी कराई थी. इस घटना को क्रिकेट के इतिहास की सबसे बुरी घटनाओं में गिना जाता है. इतना ही नहीं कंगारू टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने भी इस घटना को अपने करियर में सबसे शर्मनाक बताया था.

  1. सरफराज अहमद ने दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी को कहा ‘काला’

पाकिस्तानी टीम के पूर्व कप्तान सरफराज अहमद को नस्लभेद टिप्पणी करने के मामले में 4 मैचों के लिए निलंबित किया गया था. उन्होंने दक्षिण अफ्रीकी स्टार ऑलराउंडर एंडिले फेहलुकवायो के खिलाफ विवादित टिप्पणी की थी. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने सरफराज अहमद के खिलाफ सख्त रुख अपनाया था. बता दें कि डरबन में खेले गए दूसरे वनडे के दौरान सरफराज ने फेहलुकवायो को कहा था, अबे काले… तेरी अम्मी कहां बैठी है? …क्या पढ़वा के आया है आज? इसके बाद प्रोटियाज टीम के पूर्व कप्तान फाफ डू प्लेसी ने अपने बयान में कहा था, “एंडिल फेलुकवायो का कहना है कि उन्होंने इसे नोटिस भी नहीं किया था और समझ नहीं पाए कि सरफराज ने उनके खिलाफ कौन से शब्दों का इस्तेमाल किया. ये ऐसा मामला है, जिसे हम हल्के में नहीं लेते। हम उसे माफ कर सकते हैं, लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि हम मामले को दबाने की कोशिश कर रहे हैं.” इसके बाद सरफराज अहमद की विश्व क्रिकेट जगत में खूब थू-थू हुई थी.

  1. डैरेन सैमी को उनकी टीम के साथी खिलाड़ी ‘कालू’ बुलाते थे

वेस्टइंडीज को आईसीसी टी20 विश्व कप का खिताब दिलाने वाले पूर्व कप्तान डैरेन सैमी ने हाल में बड़ा खुलासा किया था. उन्होंने कहा था कि आईपीएल के सातवें संस्करण के दौरान उनकी टीम सनराइजर्स हैदराबाद टीम के साथी खिलाड़ी उन्हें काला कहकर पुकारते थे. सैमी ने ट्वीट करते हुए पूर्व साथी खिलाड़ियों पर संगीन आरोप लगाए थे. उन्होंने लिखा था, “अब मुझे अहसास हुआ कि यह अपमानजनक था. मैं आप लोगों को मैसेज करूंगा और आप लोगों से पूछूंगा कि जब आप लोग मुझे उस नाम से बुलाते थे तो क्या आप लोगों का मतलब गलत होता था? मेरे सभी ड्रेसिंग रूम्स में बहुत अच्छी यादें हैं. इसलिए जो लोग भी मुझे इस शब्द से बुलाते थे, वे इस बारे में सोचना. इस पर बात करते हैं कि क्या यह आप गलत अर्थों में बोलते थे, अगर हां तो मैं बहुत निराश होऊंगा.” याद हो कि भारतीय टीम के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने सोशल मीडिया पर तस्वीर साझा की थी, जिसमें उन्होंने लिखा था, “मैं, भुवी, कालू और गन सनराइजर्स.”

  1. जोफ्रा आर्चर ने न्यूजीलैंड में झेली मतभेद टिप्पणी

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के तूफानी गेंदबाज जोफ्रा आर्चर पर न्यूजीलैंड में नस्लभेदी टिप्पणी की गई थी, जहां उस शख्स पर न्यूजीलैंड क्रिकेट ने दो साल का बैन लगा दिया था. आरोपी शख्स न्यूजीलैंड में 2022 तक कोई भी अंतर्राष्ट्रीय या घरेलू मैच नहीं देख सकेगा. घटना के बाद पुलिस ने इस साल जनवरी में ऑकलैंड से 28 वर्षीय शख्स को गिरफ्तार किया था, जिसने पिछले साल नवंबर में आर्चर पर अपमानजनक भाषा का उपयोग किया था. न्यूजीलैंड क्रिकेट के प्रवक्ता एंथोनी क्रामी ने कहा था, “मैं पुलिस को इसके लिए धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने इस मामले पर गंभीरता दिखाई और इसे सही अंजाम तक पहुंचाया. इस प्रकार का व्यवहार कभी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.” जोफ्रा आर्चर ने ट्वीट करते हुए इस घटना की जानकारी दी थी.

  1. इरफान पठान ने भी झेला था इसका स्वाद

भारतीय टीम के पूर्व धाकड़ ऑलराउंडर इरफान पठान ने अपने अंडर-16 दिनों की एक घटना का जिक्र किया था और बताया कि किस तरह उन्हें अपने धर्म की वजह से नस्लीय टिप्पणी का सामना करना पड़ा था. इरफान पठान ने मुंबई मिरर को दिए एक साक्षात्कार में बड़ा खुलासा करते हुए कहा, “ये मेरे साथ भी हुआ था. बड़ौदा के साथ शुरुआती दिनों में मेरे टीम के साथी मुझे एक खास नाम से बुलाने लगे, जिसे में बिल्कुल भी पसंद नहीं करता था. मैंने काफी अच्छी तरह से उन्हें समझाया और कहा कि मुझे मेरे नाम इरफान से पुकारा जाए. ये अंडर-16 के दौरान की घटना है और तब से लेकर अब तक किसी ने भी मुझे उस नाम से नहीं पुकारा है.”

Leave a comment

Cancel reply