Boria Majumdar - Wriddhiman Saha
बीसीसीआई समिति ने बोरिया को साहा को एक इंटरव्यू को लेकर धमकी देने का दोषी पाया है, जिसके बाद बोर्ड ने उन्हें यह कड़ी सजा देने का फैसला किया है।

बुधवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) को धमकी देने के मामले में पत्रकार बोरिया मजूमदार (Boria Majumdar) पर 2 साल का बैन लगा दिया है। बीसीसीआई समिति ने बोरिया को साहा को एक इंटरव्यू को लेकर धमकी देने का दोषी पाया है, जिसके बाद बोर्ड ने उन्हें यह कड़ी सजा देने का फैसला किया है।

बीसीसीआई द्वारा लगाए गए बोरिया मजूमदार पर इस बैन के अनुसार अब उन्हें अगले दो सालों तक किसी भी स्टेट बोर्ड के स्टेडियम के अंदर जाने की एंट्री नहीं मिलेगी। इतना ही नहीं मजूमदार को बोर्ड की तरफ से मीडिया मान्यता भी नहीं दी जाएगी और साथ ही वे बोर्ड द्वारा रजिस्टर्ज किसी भी खिलाड़ी का इंटरव्यू भी नहीं ले पाएंगे।

बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने इस फैसले के आने से पहले इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत करते हुए कहा था, “हम भारतीय क्रिकेट बोर्ड की सभी स्टेट यूनिट को उन्हें स्टेडियम के अंदर नहीं जाने देने के लिए सूचित करेंगे। उन्हें घरेलू मैचों के लिए मीडिया मान्यता नहीं दी जाएगी और हम उन्हें ब्लैकलिस्ट करने के लिए आईसीसी को भी लिखेंगे। खिलाड़ियों को उनके साथ नहीं जुड़ने के लिए कहा जाएगा।”

मालूम हो कि इसी साल 19 फरवरी को ऋद्धिमान साहा ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर स्क्रीनशॉट साझा करते बताया था कि उन्हें पत्रकार बोरिया मजूमदार से धमकी मिली है। उन्होंने ट्ववीट करते हुए लिखा था, “भारतीय क्रिकेट में मेरे सभी योगदानों के बाद एक तथाकथित सम्मानित पत्रकार से मुझे अपमान का सामना करना पड़ा! यही वह है कि अच्छी पत्रकारिता चली गई है।” हालांकि, साहा ने पहले पत्रकार का नाम नहीं उजाकर किया था, लेकिन बीसीसीआई द्वारा बनाई के आने पर भारतीय क्रिकेटर ने मजूमदार के रूप में पत्रकार की पहचान बताई थी।

Leave a comment

Cancel reply