भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या के पिता हिमांशु पांड्या का शनिवार की सुबह बड़ौदा में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. इस दुखद घड़ी में सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में बड़ौदा की टीम का प्रतिनिधित्व कर रहे हार्दिक के बड़े भाई क्रुणाल पांड्या बायो बबल छोड़कर घर के लिए रवाना हो गए हैं. ऐसे में अब वे अपने परिवार के साथ रहेंगे. साथ ही वे अब सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में आगे के टूर्नामेंट का हिस्सा नहीं रहेंगे. 

बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन (BCA) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शिशिर हट्टंगडी ने एएनआई (ANI) न्यूज़ एजेंसी को बताया, “हां, क्रुणाल पंड्या ने टीम का बायो बबल छोड़ दिया है. यह उनके और उनके परिवार के लिए बड़े दुख का समय है. बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन हार्दिक पांड्या और क्रुणाल पांड्या  के पिता के निधन पर शोक में है.”

गौरतलब है कि पांड्या बंधुओं का क्रिकेट करियर सवांरने के लिए उनके पिता ने काफी योगदान दिय. उन्होंने अपना स्थनांतरण सूरत से बड़ौदा सिर्फ  अपने बेटों के क्रिकेट करियर के लिए करवाया था. इतना ही नहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक, हार्दिक के पिता सूरत में एक छोटा सा कार वित्त व्यवसाय चलाते थे, जो कि उन्होंने बंद कर दिया. इसके बाद में वह परिवार को लेकर बड़ौदा आ गए थे.

Leave a comment

Cancel reply