टीम इंडिया के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन को फिर से हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष पद की कुर्सी मिल गई है।

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन को फिर से हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष पद की कुर्सी मिल गई है। दरअसल, कुछ दिन पहले उनपर नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए पद से सस्पेंड कर दिया गया था। अब लोकपाल न्यायमूर्ति दीपक वर्मा ने एपेक्स काउंसिल के पांच सदस्यों की उस कमिटी को अस्थाई रूप से अयोग्य बताया है, जो अजहरुद्दीन के इस मामले की जांच कर रही थी। बता दें कि पूर्व भारतीय कप्तान को हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष सितंबर 2019 में नियुक्त किया गया था।

एचसीए लोकपाल ने अपने अंतरिम आदेश में एचसीए एपेक्स काउंसिल के पांच सदस्यों को अस्थाई रूप से अयोग्य बताया है। इसमें जॉन मनोज, उपाध्यक्ष आर विजयानंद, नरेश शर्मा, सुरेंदर अग्रवाल और अनुराधा शामिल हैं। एपेक्स काउंसिल के पांच सदस्यों की टीम ने अपने संविधान के कथित उल्लंघन के लिए अजहरूद्दीन को एचसीए के अध्यक्ष के पद से निलंबित कर दिया था।

यह भी पढ़ें | बीसीसीआई पर बरसे वेंगसरकर, बोले- क्यों नहीं किया गया ईरानी कप, दिलीप ट्रॉफी को डोमेस्टिक शेड्यूल में शामिल

लोकपाल वर्मा ने अपने आदेश में कहा, “एपेक्स काउंसिल स्वयं इस तरह के फैसले नहीं कर सकती है, इसलिए मैं निर्वाचित अध्यक्ष को निलंबित करने के इन पांच सदस्यों द्वारा पारित प्रस्ताव (अगर है तो) को रद्द करने को उचित समझता हूं। साथ ही कारण बताओ नोटिस जारी करता हूं और उन्हें निर्देश देता हूं कि वे एचसीए अध्यक्ष मोहम्मद अजहरूद्दीन के खिलाफ आगे की कोई भी कार्रवाई करने से दूर रहें।”

उल्लेखनीय है कि 58 साल के पूर्व भारतीय बल्लेबाज पर नियम के उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया था और इसके बाद उन्हें 15 जून को निलंबित करने का नोटिस भेज दिया था। दरअसल, अजहरुद्दीन पर हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के एकाउंट्स के साथ छेड़खानी का आरोप लगा था। इसके अलावा यह भी बात पता चली थी कि पूर्व भारतीय कप्तान दुबई प्राइवेट क्रिकेट क्लब के सदस्यीय हैं और उन्होंने यह बात एसोसिएशन को नहीं बतायी थी।

Leave a comment