इन भारतीय खिलाड़ियों का BCCI केंद्रीय अनुबंध उनके वर्तमान आईपीएल अनुबंध से अधिक है -

भारतीय खिलाड़ी आईपीएल अनुबंध से और साथ ही बीसीसीआई के केंद्रीय अनुबंध से बहुत कमाई करते हैं। कुछ चीजें अच्छी तरह से स्वीकार की जाती हैं और निस्संदेह सच भी है कि आईपीएल दुनिया की सबसे बड़ी टी20 लीग है और वहीं, बीसीसीआई विश्व क्रिकेट में सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड है।

सबसे महंगी टी20 लीग होने के कारण हर किसी खिलाड़ी को अपनी फ्रेंचाइजी द्वारा मोटी रकम मिलने की उम्मीद होती है। खासतौर पर उन क्रिकेटर्स को जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलते हैं। हालांकि, विदेशी खिलाड़ियों को भूल जाएं तो कुछ ऐसे भी भारतीय क्रिकेटर्स हैं, जिनका आईपीएल अनुबंध उनके बीसीसीआई के केंद्रीय अनुबंध से कम है।

इन भारतीय खिलाड़ियों का BCCI केंद्रीय अनुबंध उनके वर्तमान आईपीएल अनुबंध से अधिक है –

चेतेश्वर पुजारा – आईपीएल 50 लाख, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड ए – 5 करोड़)

भारतीय टेस्ट टीम के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा का नाम इस लिस्ट में शुमार है। बता दें कि टीम इंडिया की ‘द न्यू वॉल’ ने साल 2014 के बाद आईपीएल 2021 में वापसी की है। पुजारा को इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन की नीलामी में चेन्नई सुपर किंग्स ने 50 लाख रूपए में खरीदा था।

दाएं हाथ के बल्लेबाज, जिसने भारत के लिए अब तक टेस्ट क्रिकेट में 6000 से अधिक रन बनाए हैं। पुजारा का बीसीसीआई का केंद्रीय अनुबंध 5 करोड़ रूपए का है, जो उनके आईपीएल के अनुबंध का 1/10th है।

मोहम्मद शमी – आईपीएल 4.8 करोड़, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड ए – 5 करोड़)

टीम इंडिया के वरिष्ठ तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी का नाम भी इस सूची में शामिल है। वे आईपीएल 2018 से पंजाब किंग्स टीम के साथ जुड़े हुए हैं। शमी का उनकी टीम  के साथ 4.8 करोड़ रुपय का अनुबंध है। उनकी आईपीएल फीस उनके बीसीसीआई के साथ उनके ग्रेड ए अनुबंध के मूल्य से थोड़ा कम है, जो कि 5 करोड़ है।

30 साल के दाएं हाथ के भारतीय पेसर ने पंजाब किंग्स के लिए अब तक 47 विकेट चटकाए हैं। मोहम्मद शमी ने साल 2013 में भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया। उन्होंने अब तक भारत के लिए खेलते हुए 51 टेस्ट मुकाबलों की 97 पारियों में 184 विकेट चटकाए हैं। वहीं, शमी ने वनडे में 148 विकेट हासिल की हैं, जिसमें 2019 विश्व कप में हैट्रिक भी शमिल है।

इशांत शर्मा – आईपीएल 1.1 करोड़, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड ए – 5 करोड़)

इशांत शर्मा भारतीय टीम में काफी लंबे समय से खेल रहे हैं। अब एक टेस्ट विशेषज्ञ, इशांत, जिन्होंने 2007 में इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया और 100 से अधिक मुकाबलों में 300 से अधिक टेस्ट विकेट चटकाए हैं, जो एक तेज गेंदबाज के रूप में एक बड़ी उपलब्धि है।

इशांत शर्मा को बीसीसीआई के ग्रेड ए अनुबंध में रखा गया है, जिसकी कीमत 5 करोड़ है, जो दिल्ली कैपिटल्स के साथ उनके मौजूदा आईपीएल अनुबंध के 5 गुना से थोड़ा कम है।

मयंक अग्रवाल – आईपीएल 1 करोड़, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड बी – 3 करोड़)

भारतीय टीम के बल्लेबाज मयंक अग्रवाल का नाम भी इस लिस्ट में शुमार है। मंयक को भारत की टेस्ट टीम में बैकअप विकल्प के रूप में शामिल किया जाता है। बीसीसीआई की नवीनतम अनुबंध में दाएं हाथ के बल्लेबाज को ग्रेड बी श्रेणी में रखा गया है, जिसमें उन्हें बोर्ड की तरफ से 3 करोड़ रूपए मिलती है।

मयंक अग्रवाल की आईपीएल टीम पंजाब किंग्स के साथ उनका अनुबंध 1 करोड़ का है, जबकि बीसीसीआई उन्हें 3 करोड़ देती है, जो उनकी आईपीएल सैलरी से तीन गुना ज्यादा है। वे पंजाब किंग्स के साथ साल 2018 से जुड़े हुए हैं। उन्होंने अब तक पंजाब किंग्स के लिए 145.08 के स्ट्राइक रेट से 1136 रन बनाए हैं।

ऋद्धिमान साहा – आईपीएल 1.2 करोड़, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड बी – 3 करोड़)

भारतीय टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा का नाम भी इस लिस्ट में शुमार है। उनकी आईपीएल सैलरी उनके बीसीसीआई के साथ अनुबंध से तीन गुना कम है। साहा को भारत की टेस्ट टीम में ऋषभ पंत के साथ बैकअप विकेटकीपर के तौर पर रखा जाता है। साहा सनराइजर्स हैदराबाद टीम में आईपीएल 2018 में जुड़े थे। उन्होंने अब तक SRH के लिए 22 मुकाबलों में 430 रन बनाए हैं।

यह भी पढ़ें | 5 भारतीय गेंदबाज, जिन्होंने घर से बाहर चटकाए हैं सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट

वे बीसीसीआई के ग्रेड बी श्रेणी में शामिल हैं, जिसमें उन्हें 3 करोड़ रूपए मिलता है। वहीं, SRH साहा को 1.2 करोड़ देती है, जो उनकी बीसीसीआई के अनुबंध से दुगना कम है। साहा आखिरी बार पिछले साल एडिलेड टेस्ट में भारत के लिए खेले थे और उसके बाद से ऋषभ पंत शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और उन्होंने अपनी जगह पक्की कर ली है।

उमेश यादव – आईपीएल 1 करोड़, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड बी – 3 करोड़)

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज उमेश यादव भी इस सूची में शामिल हैं। उन्हें आईपीएल 2021 की नीलामी में दिल्ली कैपिटल्स ने 1 करोड़ रूपए में खरीदा था। उन्हें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन की नीलामी से पहले रिलीज कर दिया था। हालांकि, उमेश को आईपीएल के इस सीजन में एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला।  

उमेश यादव भारत की टेस्ट टीम में जसप्रीत बुमराह, इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी के बाद तेज गेंदबाजी के लिए दूसरी पसंद हैं। बीसीसीआई ने उन्हें ग्रेड बी श्रेणी में रखा है, जहां उन्हें 3 करोड़ मिलता है। बता दें कि उनका यह वेतन उनकी आईपीएल सैलरी से तीन गुना ज्यादा है।  

शार्दुल ठाकुर – आईपीएल 2.6 करोड़, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड बी – 3 करोड़)

तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर ने पिछले कुछ महीनों में शानदार प्रदर्शन करते हुए खूब सुर्खियां बटोरी हैं। उनका नाम भी इस सूची में शुमार है। उन्होंने अपनी गेंदबाजी में तो विविधता दिखाई ही साथ ही बल्लेबाजी में भी शानदार प्रदर्शन किया है। शार्दुल ने ब्रिस्बेन टेस्ट में एक गेंदबाजी ऑलराउंडर के तौर पर टीम इंडिया की जीत में अहम योगदान दिया था।

ठाकुर बीसीसीआई के ग्रेड बी श्रेणी में हैं, जहां उन्हें 3 करोड़ रूपए मिलता है। वहीं, शार्दुल ठाकुर की आईपीएल सैलरी उनके इस अनुबंध से थोड़ी सी ज्यादा है। साल 2018 में वे चेन्नई सुपर किंग्स के साथ जुड़े हुए हैं, जहां उन्हें 2.6 करोड़ रूपए मिलते हैं। ठाकुर सीएसके के गेंदबाजी आक्रमण के नियमित सदस्य हैं।

दीपक चाहर – आईपीएल 80 लाख, बीसीसीआई अनुबंध – (ग्रेड सी – 1 करोड़)

भारत की सीमित ओवर्स टीम के धाकड़ तेज गेंदबाज दीपक चाहर का नाम इस सूची में शामिल है। चाहर सीएसके के लिए नई गेंद से गेंदबाजी करते हैं, लेकिन दाएं हाथ के बल्लेबाज ने खुद को साबित करते हुए दिखाया है कि वे डेथ ओवर्स में बेहतरीन गेंदबाजी कर सकते हैं। उनके नाम टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में हैट्रिक लेने का भी रिकॉर्ड है। इसके अलावा उनका टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 6 रन देकर 7 विकेट लेने का भी शानदार रिकॉर्ड है।

दीपक चाहर बीसीसीआई की ग्रेड सी श्रेणी में हैं और उन्हें बोर्ड द्वारा 1 करोड़ का वेतन मिलता है, जो कि सीएसके के साथ उनके 80 लाख के अनुबंध से थोड़ा अधिक है।